झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 28 अगस्त

राज्य सहायक अध्यापक ‘‘गुरूजी’’ संघ का सम्भागीय महासम्मेलन सम्पन्न
  • गुरूजियों की वरिष्ठता की मांग होगी पूर्ण सरकार के प्रतिनिधियों ने दिया भरोसा

jhabua news
झाबुआ । राज्य सहायक अध्यापक ‘‘गुरूजी’’ संघ का क्रांतिकारी महासम्मेलन 27 अगस्त को को सुल्तानसिंह शेखावत (कैबिनेट मंत्री दर्जा) शिव चैबेजी (कैबिनेट मंत्री दर्जा) मुख्यमंत्रीजी के सलाहकार, रमेश चन्द्रशर्मा (राज्य मंत्री दर्जा) अध्यक्ष कर्मचारी कल्याण समिति म.प्र. शासन स्थानीय विधायक शांतिलाल बिलवाल, संगठन के जिला संरक्षक शैलेष दुबे, संगठन के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष एवं प्रदेश महासचिव तेजनारायण द्विवेदी की उपस्थिति मंे जिला झाबुआ में सम्पन्न हुआ। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष एवं महासचिव तेजनारायण द्विवेदी ने बताया कि कार्यक्रम मंे सर्वप्रथम माँ सरस्वती की पूजा अर्चना दीप प्रज्जवलित कर अतिथियों द्वारा किया गया। महासम्मेलन मंे हमारी अपेक्षा से अधिक सब कुछ प्राप्त हुआ। जिसके लिये राज्य शासन के सभी उपस्थित प्रतिनिधियों के जीवन भर ऋणी रहेंगे, मुझे पता नहीं था कि इस महासम्मेलन मंे उनकी मांग पुरी होने की घोषणा होगी। श्री द्विवेदी ने अतिथियों के समक्ष अपनी संगठन की सम्पूर्ण भूमिका रखी सम्मेलन का मुख्य उद्देश्य शिक्षा के गुणवत्ता स्तर को ऊपर उठाना गुरूजियों से सहायक अध्यापक बने साथियों को गुरूजी के पद पर नियुक्ति दिनांक से वरिष्ठता प्रदान करने की मांग रखी। शिक्षा के गुणवत्ता स्तर को ऊपर उठाने हेतु सभी ने दोनों मुठ्ठी बांधकर हाथ ऊपर खडेकर संकल्प भी लिया। सम्मेलन को संबोधित करते हुए शिव चैबे एवं सुल्तान सिंह शेखावत ने घोषणा की कि गुरूजियों से सहायक अध्यापक बने लोगों को उनकी एक सूत्रीय मांग वरिष्ठता का निर्धारण करना वर्ष 2018 के प्रथम कुछ माह पहले ही होगी। इसके लिये वह मुख्यमंत्री के साथ बैठकर विस्तृत चर्चा करेंगे। श्री चैबे ने तेजनारायण द्विवेदी एवं उनकी टीम को राजधानी भोपाल मंे मुख्यमंत्री निवास पर सहभोज मंे भी आमंत्रित किया है। जिसकी तिथि 15 दिनों के अन्दर तय हो जायेगी। इसके लिये संगठन उनका तहेदिल से आभार व्यक्त करता है। सम्मेलन को रमेशचन्द्र शर्मा, स्थानीय विधायक  शांतिलाल बिलवाल आदि ने संबोधित करते हुए म.प्र. शासन के कार्यो का भी वर्णन किया एवं गुरूजियों की मांग को पूर्ण कराने के लिये हर स्तर पर सहयेाग प्रदान करने को कहा। साथ ही विभाग के शिक्षामंत्री एवं मुख्यमंत्री को इस विषय मंे अपना पक्ष उनके सामने रखेंगे। श्री द्विवेदी के अनुसार कि कुछ ट्रेनों को छोडकर सभी ट्रेने रदद् होने के बावजूद हमारे साथी, पन्ना, छतरपुर, सागर, दमोह, कटनी, छिन्दवाडा, बैतूल, रीवा, सीधी, सतना, शहडोल, रतलाम, उज्जैन, नीमच, मन्दसौर, खरगोन, खण्डवा, धार, अलिराजपुर, हरदा आदि जिलो से तमाम परेशानियों के कष्ट को पार करते हुए झाबुआ पहूंचे इसके लिये आभार व्यक्त किया। झाबुआ जिले की सम्पूर्ण इलेक्ट्रानिक मीडिया एवं प्रिंट मीडिया का भी पूर्ण सहयोग प्रदान करने के लिए सह्ृदय धन्यवाद आभार। कार्यक्रम मंे माँ सरस्वती वन्दना का गायन, उमेश डबगर, आशा राठौर एवं तरन्नुम शेख द्वारा किया। सम्मेलन की भूमिका तेजनारायण द्विवेदी, स्वागत भाषण बहादूर सिंह भूरिया एवं आभार प्रदर्शन सोहन सिंह नलवाया के द्वारा किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित प्रांतीय अध्यक्ष, सन्दर्भ सिंह बघेल, भागीरथ गुर्जर, दिनेश परिहार, जुनैद खान, राकेश गौतम, सौरभ पोरवाल, गोपाल कुमरावत सहित समस्त पदाधिकारियेां का धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम प्रभारी सम्भागीय अध्यक्ष प्रकाश पालीवाल ने इसका सम्मेलन को सफल बनाने मंे सहयोग प्रदान करने वाले उदयसिंह बिलवाल, रामसिंह डामोर, धन्नालाल हामड, धनेश्वर वर्मा, गब्बुसिंह डांगी, महेन्द्र चैहान, नरेन्द्र सोलंकी, नियाज खान, कैलाश बिलवाल एवं अपनी सम्पूर्ण टीम को धन्यवाद किया एवं हमेशा इसी तरह से सहयोग की अपेक्षा की।


नगर  मे सिद्धीतप यात्रा महोसव पर निकला ऐतिहासिक चल समारोह
  • पूरा नगर आचार्य देवेष की निश्रा में हुआ धर्ममय, तपस्वियों का किया गया बहुमान

jhabua news
झाबुआ । नगर के इतिहास में पहली बार विशालतम तप अभिनंनदन का भव्यातिभव्य चलसमारोह  निकाला गया ।पूरमपूज्य गच्छाधिपति आचार्यदेव श्री ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी मसा की पावन निश्रा में एवं पूज्य मधुरवक्ता मुनिराज श्री रजतचन्द्रविजयजी मसा की पावन प्रेरणा से 73 सिद्धीतप एवं5 मास क्षमण की विराट आराधना हुई । श्री गौडी पाश्र्वनाथ से वरघे डे की शुरूवात हुई । नगर के इतिहास मे  पहली बार इतनी भव्य तपस्वियों की बहुमान यात्रा से पूरा नगर महावीरमय बन गष्या । हजारों की संख्या में  दूर दूर शहरों से  श्रावकजनो ं से  इस दुूर्लभ अवसर का लाभ उठाया । श्री संघ के रिंकू रूनवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि चल समारोह नगर  के प्रमुख मार्गो से गजरा तो जय जय कारों स े पूरा माहौल आचार्यमय हो गया । जुलुस का समापन शहनाई गार्डन पर हुआ जहां मंगलाचरण के बाद घर्मसभा  मेंयुवा संत मुनिराज रजतचन्द्र विजय जी मसा ने कह ा कि  तप करते हुए शरीर को गलाना आसान है किन्तु का्रेध कशाय को गलाना मुश्किल है । भगवान महावीर ने भी कर्मो की निर्जरा के लिये  तपक ा श्रेष्ठ मार्ग बताया । तप पूर्णाहूति पर मुनिश्री ने कहा कि तपस्वी पारणा करने के भाव से तप को पूर्ण न करें बल्कि ऐ सा कोई तप और जीवन में करने का सौभाग्य मिले  इस भाव से  करें । मुनिश्री ने मासक्षमण, सिद्धीत पके अलावा 16,11,10,9 एवं 8 उपवास के साथ चत्तारी अट्ठ तप वालों की सातापृच्छा की एवं उन्हे  पारणों के बाद संयमित आहार करने का बात कहीं । पूज्य आचार्य देवेश ऋषभचन्द्रसूरिजी मसा ने भी धर्मसभा में कहा कि दानशील तप भाव से आराधकों ने जीवन को महकाया है । जो श्रेष्ठ कार्य है । सभी तपस्वियों को सुन्दरतम बहुमान तिलक, शाल,श्रीफल,साफा,चुनरी, स्वर्णचैन, चांदी के सिक्के आदि उपहार देकर सम्मानित किया गया । स्वर्ण चैन से बहुमान का लाभ हुक्मीचन्द वागरेचा एवनमल मोहनखेडा के ट्रस्टियों को मिला । दो दिवसीय महा महोत्सव के लाभार्थी कोठारी परिवार, कटारिया परिवार एवं बाबेल परिवार का विशेश बहुमान भी किया गया । सभी पधारे अतिथियों का अभिनंदन किया गया । अर्चना राकेश चैधरी 11 उपवास एवं कल्पना अभय दायजी थादला 11 उपवास का पारणाहुआ । श्रीमती रूनवाल के भी 11 उपवास पूर्ण हुए ।

क्या है सिद्धीतप
स्ंासार के बधंनों से मुक्ति की कामना सिद्धशीला मे पहूंचने की भावना  से अस्टकर्मो को चुर कर आत्मा को शाश्वत सुख मे लिन बनाने के उद॰ेश्य से किया जाता है । 44  दिवसीय इस आराधना मे ं 8 ज्ञब्ेप होते है । इसमे क्रमशः आराधना,तप-जप,क्रियायें की जाती है ।ं इन  तपस्याओं के प्रेरणादाता परमपूज्य मुनि रजतचन्द्रविजय जी मसा है ।

क्षमायाना के लिये आज पधारेगें विभिन्न श्रीसंघ
श्री रूनवाल ने बताया कि आज मंगलवार को अहमदाबाद, इन्दौर, राजगढ, देवास, आलीराजपुर, खाचरौद, नीमच श्री संघ के श्रावक श्राविकायें पपू आचार्य देवेश से क्षमापना के लिये उपस्थित रहेगें तथा पूरे मनोवेग से आचार्यश्री का वंदन करेगें ।

ग्राम का विकास ग्राम के लोगो द्वारा ही संभव - षिव चैबे

झाबुआ । ग्राम का विकास ग्राम के लोगो द्वारा ही संभव है। जब ग्रसम के लोगों में जागरूकता आयेगी ओर वे गांव के भले बुरे को समझेगे तो ही विकास होगा। गांव की प्रगति में ही खुद की प्रगति छिपी होती है ओर आप सभी ऊर्जावान युवाओं की सेना को अपने प्रायोगिक ग्राम में इस मंत्र को लेकर गांव की समस्याओं को समझ कर उसे दूर करने के लिए एक जोष ओर परहित की भावना को ध्यान में रखकर कार्य करना है। आपके इस कार्य में कई प्रकार की बाधाए आएगी, परन्तु महापुरूषो के जीवन से प्रेरणा लेकर आप अपनी मंजिल को पा सकते है।
उक्त उद्बोधन षासकीय उत्कृष्ट विद्यालय में म.प्र.जन अभियान परिषद् द्वारा संचालित पाठ्यक्रम मुख्यमंत्री सामुदायिक नेतृत्व क्षमता विकास पाठ्यक्रम की कक्षा में मुख्य अतिथि के रूप में म.प्र. खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री षिव चैबे ने प्रकट किए। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए म.प्र. कर्मचारी कल्याण समिति अध्यक्ष रमेषचन्द्रजी षर्मा ने छात्र/छात्राओं को विकास के अग्रदूत बताते हुए कहा कि आपको अपने गांव की संेवा से जोडने का कार्य म.प्र.जन अभियान परिषद् कर रहा है। आज मुख्यमंत्रीजी ने गांवो के विकास के लिए 200 से ज्यादा योजना संचालित कर रखी है, किन्तु उसे अंन्तिम व्यक्ति तक लाभ पहुचाने को जिम्मा आपका है। इससे पुर्व अतिथियों का स्वागत पाठ्यक्रम के छात्र/छात्राओं द्वारा किया गया। स्वागत भाषण और पाठ्यक्रम की जानकारी देते हुए म.प्र.जन अभियान परिषद् के संभाग समन्वयक अमित षाह ने बताया कि इस पाठ्यक्रम के जरिए गांव में छात्र जागरूकता पैदा कर रहे है ओर अपने नेतृत्व के द्वारा गांवो की समस्या जिले स्तर पर उठा कर उसका निराकरण करवा रहे है। यह पाठ्यक्रम मुख्यमंत्री जी की अभिनव पहल है ओर समाज कार्य करने वाले एवं अपने देष के विकास में आगे आने के लिए बेहतर माध्यम है । श्री षाह ने पाठ्यक्रम संचालन ओर कोर्स संबधित जानकारी आमंत्रित अतिथियो को दी। कार्यक्रम के दौरान गांवों में सोष्यल आॅडिट करने वाले छात्र/छात्राओं को अतिथ्यिों द्वारा प्रमाण पत्र वितरित किए गए। कार्यक्रम में पाठ्यक्रम के छात्र/छात्रा धनसिंह , तानसिंह, जया बिलवाल, प्रभु कटारा आदि ने अपने-अपने फिल्ड ग्राम में किए गए कार्य ओर अनुभव साझा किए। अतिथियों को प्रतिक चिन्ह के रूप में आदिवासी संस्कृति के प्रतिक स्मृति चिन्ह मेंटर्स द्वारा प्रदान किए गए। कार्यक्रम का आभार प्रदर्षन करते हुए प्राचार्य एवं बी.ई.ओ. आयषा कुरैषी ने पाठ्यक्रम की विषेषताए बताते हुए जन अभियान परिषद् के संचालन की प्रषंसा कर इसे मुख्यमंत्री जी के स्वर्णिम म.प्र. बनाने में बेहतरीन पहल है और भविष्य में इसके अच्छे परिणाम हेतु सभी को आषान्वित किया । कार्यक्रम का संचालन जिला समन्वयक वीरेन्द्रसिंह ठाकुर द्वारा किया गया। कार्यक्रम में ब्लाक समन्वयक दयाराम मुवेल एवं पाठ्यक्रम के तीनों वर्षो के छात्र/छात्रा तथा मेंटर्स राजेष वैरागी, अजय कुमार , प्रकाष मेडा ओर निहारिका परमार उपस्थित रहे।


पटवारी संगठन ने कलेक्टर को सीएम के नाम सौपा ज्ञापन

jhabua news
झाबुआ । मध्यप्रदेश पटवारी संेघ के जिला अध्यक्ष अखिलेश मुलेवा के नेतृत्व में पटवारियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर आशीष सक्सेना को फसल गिरदावरी एप की व्यावहारिक कठिनाईयो के संबंध में तथा संसाधन उपलब्ध कराये जाने के संबंध में मुख्यमंशिवराजसिंह चैहान द्वारा एक लोकार्पण के समय की गई घोषणाओं के तारतम्य में ज्ञापन सौपा ज्ञापन में उल्लेखित किया गया है कि शासन द्वारा फसल गिरदावरी एप पर कार्य करने हेतु आदेषित किया गया है किन्तु इस मोबाईल एप पर कार्य करने की वर्तमान प्रक्रिया पूर्णतः अव्यवहारिक होकर अत्यधिक समय लेने वाली है, जिसके कारण वर्तमान स्वरूप में इस एप पर कार्य करने से राजस्व एवं भू-अभिलेख के अन्य कार्यो का प्रभावित होना सुनिष्चित है इस एप की प्रमुख व्यवहारिक कठिनाईयो का सामना करना पडता है । पांच सूत्री ज्ञापन में-वेब जी आई एस के डाटा का उपयोग के संबंध मे अनुरोध किया है कि इस एप का आधार वेब जी आई एस साॅफ्टवेयर के डाटा बेस को बनाया गया है जबकि वेब जी आई एस साॅफटवेयर अव्यवहारिक होने के कारण उसका संचालन प्रदेष में बंद हो चुका है । वर्तमान एन.आई.सी. साॅफट्वेयर लागू होकर बडी मात्रा में रिकार्ड अपडेषन हो चुका है । ऐसे में पुराने और त्रुटिपूर्ण डाटाबेस पर फसल दर्ज करना न केवल अनावष्यक है बल्कि इससे पुनः किसानो की समस्याएॅ ही बढेगी ।ज्ञापन के अनुसार फसल दर्ज करने के लिए मोबाईल नम्बर और ओ.टी.पी. की अनिवार्यता को लेकर कहा गया है कि इस एप में फसल दर्ज करने के लिए कृषक का मोबाईल नम्बर दर्ज किया जाना अनिवार्य है तथा दर्ज की गई फसल अपलोड करने के लिए कृषक से ओ.टी.पी. लिया जाना है। अतः इस व्यवस्था के चलते कृषक बैंक से अधिक ऋण प्राप्त करने के लिए अपनी मनमर्जी की फसल दर्ज करने के लिए दबाव बना रहे है  तथा मनमाफिक फसल दर्ज नही होने पर ओ.टी.पी. नही बताया जा रहा है । साथ ही अधिकांष ग्रामो में ऐसे कृषको की भी भूमि है, जो अन्य किसी ग्राम में निवास करते है ऐसी स्थिती में न तो पटवारियो को ऐसे कृषक के मोबाईल नम्बर उपलब्ध नही हो पा रहा है । कृषको से ओ.टी.पी. प्राप्त करने के लिए भी पटवारी को संबंधित कृषक को फोन करना पड रहा है, इस हेतु पटवारियो को कोई अतिरिक्त भत्ता नही दिया जा रहा है । साथ ही ग्रामीण क्षेत्रो में मोबाईल नेटवर्क की समस्या होने के कारण न तो कृषक को समय पर ओ.टी.पी. प्राप्त हो पाता है और ना ही ओ.टी.पी. पूछने के लिए कृषक से संपर्क हो पाता है । ग्राम के कई कृषक के पास  अभी भी मोबाइल नही है । साथ ही कई भूमिस्वामी वरिष्ठ वयोवृद्व है जिनके लिए मोबाइल का उपयोग संभव नही है । ज्ञापन में मोबाईल एप के डाटा का सर्वे नंबरवार न होकर खातावार होने के बारे में उल्लेखित किया है कि इस एप में उपयोग किया जा रहा डाटाबेस सर्वे नंबरवार न होकर खातावार है इस संबंध में प्रशिक्षण के समय ही एप निर्माताओ को अवगत कराया गया था किन्तु आज दिनांक तक  संशोधन नही हुआ है  एप में सर्वे नबंरवार डाटाबेस का विकल्प डाला गया है किन्तु वह काम नही कर रहा है। एक कृषक के खाते में कई सारे सर्वे नम्बर होते है जो ग्राम की भिन्न-भिन्न दिषाओ मेें फैले होते है । जिसके कारण एक ही समय में एक कृषक के संपूर्ण खाते के सभी सर्वे नंबरो में फसल दर्ज करना संभव नही है । साथ ही इस एप को सर्वे नम्बरवार कर भी दिया जाता है तो प्रत्येक सर्वे नम्बर के लिए हर बार कृषक से ओटीपी लिया जाना होगा, जिसमें और भी अधिक समय लगेगा । अतः ओटीपी समाप्त किया जाना उचित होगा । वही संसाधनो का उपलब्ध नही होने का जिक्र करते हुए कहा गया है कि शासन के विभिन्न विभागो में संसाधन उपलब्ध कराए जाने के बाद ही किसी योजना का क्रियान्वयन जमीनी स्तर पर  किया जाता है, इस संबंध में प्रथम प्रषिक्षण के दौरान मुख्यमंत्री द्वारा सभी पटवारियो को टैब खरीदने के लिए बजट उपलब्ध कराने का आष्वासन दिया गया था, किन्तु आज तक बिना बजट उपलब्ध कराये ही एप पर कार्य करने हेतु दबाव डाला जा रहा है । जबकि सच्चाई यह है कि आज भी कई पटवारियो के पास एंड्रायड फोन नही है न ही पुराने पटवारियो को इस फोन के संचालन का ज्ञान  है । साथ ही एक के संचालन हेतु न तो पटवारियो को इन्टरनेट बैलंेस हेतु राषि दी जा रही है और न ही कृषको से ओटीपी प्राप्त करने के लिए काल करने के लिए मोबाइल बैलंेस दिया गया है । ज्ञापन में कार्य के लिए अत्यल्प समय सीमा का जिक्र करते हुए अनुरोध किया है कि इस मोबाईल एप में इतनी कठिनाईयाॅ होते हुए भी फसल गिरदावरी दर्ज करने के लिए 31 अगस्त 2017 तक की समय सीमा निर्धारित की गई है जबकि भू-अभिलेख नियमावली के अनुसार खरीफ फसल गिरदावरी की अंतिम तिथी 30 सितंबर 2017 है । जिले के समस्त पटवारी अपने कर्तव्यो के प्रति निष्ठावान है और सदैव ही जिला प्रषासन की अपेक्षाओ के अनुरूप अपने सामथ्र्य से बढकर कार्य करते हुए प्रदेष में जिले की प्रतिष्ठा को बढाते आए है । सभी पटवारी इस मोबाईल एप पर भी कार्य करने को तैयार है, किन्तु जब तक उपरोक्त व्यवहारिक कठिनाईयो को दूर नही किया जाता तब तक इस एप पर कार्य करना दुष्कर है । यदि उपरोक्त समस्याओ को दरकिनार करते हुए इस एप पर कार्य करने को बाध्य किया जाता है तो न केवल समय सीमा में गिरदावरी कार्य पूर्ण हो सकेगा बल्कि राजस्व एवं भू-अभिलेख के अन्य समस्त कार्य भी ठप हो जाएगे । अतः जिले के समस्त पटवारियो की ओर से मांग की गई है कि इस एप की उपरोक्तानुसार व्यवहारिक कठिनाईयो को दूर करने हेतु शासन स्तर से आवश्यक कार्यवाही करते हुए शासन को अवगत कराया जावे । साथ ही निवेदन किया है  कि यदि उक्त वास्तविक एवं व्यवहारिक कठिनाईयो को दूर किये बिना ही इस एप पर ही गिरदावरी दर्ज करना अत्यंत कठिन कार्य है, फिर पटवारियो के उपर कार्य का अत्यधिक दबाव है, जिसके लिए आवश्यक समय एवं एप में आवश्यक सुधार किये बिना यह कार्य किया जाना अत्यंत कठिन है । ज्ञापन सौपते समय पटवारी संघ के जिलाध्यक्ष अखिलेश मुलेवा, तहसील अध्यक्ष गोपाल जोषी, नानूराम मेरावत, मलसिंग डामोर, मोहम्मद असरफ, और अजीज सिंह चैहान, राजाराम पाटीदार, कविता डामोर, रेखा बिलवाल, रेखा वसूनिया, सुनिता भूरिया, लक्ष्मी गणावा, मुक्ता डामोर, सुनिता चैहान, सुनिता वाखला, हेमेन्द्र राठौर, ऋषि जयसवाल, अभय व्यास, नब्बूसिंह डामोर, संजय सोनी, मोहम्मद मसंूरी, छत्तरसिंह मेरावत, गोविन्द हाडा, महेश गरवाल, भारतसिंह नायक, सहित बडी संख्या में पटवारी उपस्थित थे ।

साम्प्रदायिक सौहार्द हेतु भाजपा जिलाध्यक्ष श्री भावसार ने स्थायी समाधान की मांग की
  • प्रतिमा विसर्जन और कर्बला हेतु स्थल सुनिश्चित करने की मांग जिला प्रशासन से की

झाबुआ । धार्मिक त्यौहारों के दौरान जिला मुख्यालय पर साम्प्रदायिक सौहार्द बना रहे इस हेतु जिला भारतीय जनता पार्टी द्वारा आयोजन स्थल सुनिश्चित करते हुए स्थायी समाधान  की मांग जिला प्रशासन से की गई है।गौरतलब है की प्रतिवर्ष नगर में हिन्दू समुदाय दस दिवसीय गणेशोत्सव और नौ दिवसीय नवरात्रि पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाता है वहीं मुस्लिम समुदाय द्वारा ताजियों के विसर्जन का आयोजन भी किया जाता है। गणेशोत्सव व नवरात्रि पर्व पश्चात श्री गणेश व माताजी की प्रतिमाओ का विसर्जन किया जाता है तो वही ताजियों को भी जल में प्रवाहित किया जाता है। इन आयोजनों की स्थितियों के मद्देनजर भाजपा जिलाध्यक्ष श्री दौलत भावसार ने उक्त धार्मिक आयोजन स्थलो को लेकर प्रतिवर्ष अनिश्चितता के बनने वाले माहौल के दृष्टिगत जिला प्रशासन के मुखिया जिलाधीश श्री आशीष सक्सेना से मांग की।उन्होंने उक्त  धार्मिक आयोजनों के सम्बन्ध में स्थान सुनिश्चित करने की मांग की ताकि प्रतिवर्ष बनने वाली तत्सम्बन्धी अनिश्चितता का स्थायी समाधान हो सके।इस विषय को लेकर जिलाध्यक्ष श्री दौलत भावसार ने कलेक्टर श्री सक्सेना से चर्चा की।कलेक्टर श्री सक्सेना ने तत्सम्बंध में शीघ्र ही प्रशासनिक तौर पर स्थान सुनिश्चित करने की बात भाजपा जिलाध्यक्ष से कही है।उक्त जानकारी जिला भाजपा मीडिया प्रभारी श्री अंबरीष भावसार ने दी।

जिले में अब तक कुल 671.4 मि.मी. औसत वर्शा दर्ज, 24 घण्टो में कुल 6.3 मि.मी. वर्षा दर्ज

झाबुआ । अधीक्षक भू-अभिलेख झाबुआ ने बताया कि जिले में 1 जून से आज दिनांक तक कुल 671.4 मि.मी. औसत वर्शा हो चुकी है। जिले में विगत 24 घण्टों के दौरान औसत 6.3 मि.मी. वर्शा दर्ज की गई। विगत 24 घण्टो में झाबुआ तहसील में 30.2 मि.मी., थांदला तहसील में 2.8 मि.मी., रानापुर में 0.4 मि.मी., मेघनगर में 8.0 मि.मी., पेटलावद में 5.4 मि.मी.,रामा में नील मि.मी. वर्शा दर्ज की गई है।

शिक्षकों की व्यावसायिक योग्यता प्राप्त करने की तिथि 31 मार्च 2019 तक बढी
  • शिक्षक 5 सितम्बर तक पोर्टल पर करवा सकते है पंजीयन

झाबुआ । मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा शिक्षा का अधिकार अधिनियम की धारा 23(2) में संशोधन करते हुए सेवारत अप्रशिक्षित शिक्षकों की व्यावसायिक योग्यता प्राप्त करने की अवधि को 31 मार्च 2019 तक बढाया गया है। शासकीय, अनुदान प्राप्त, गैर अनुदान प्राप्त, निजी शिक्षण संस्थाओं में कार्यरत सेवारत अप्रशिक्षित शिक्षक जिन्होंने शिक्षा का अधिकार अधिनियम में प्रावधानित न्यूनतम योग्यता हासिल नहीं की है, उन्हें अंतिम अवसर देते हुए यह योग्यता 31 मार्च 2019 तक प्राप्त करना अनिवार्य होगा।  अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार 01 अप्रैेल 2019 के पश्चात् कोई भी शिक्षण संस्थान  अप्रशिक्षित शिक्षकों को सेवा में नहीं रख सकेंगे। इन अप्रशिक्षित शिक्षकों को प्रशिक्षण का अवसर देने हेतु केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयीन संस्थान के माध्यम से दूरस्थ शिक्षा प्रणाली से डी.एल.एड. प्रशिक्षण आयोजित किया जा रहा है। इस कार्यक्रम के तहत कक्षा 1 से 8 तक अध्यापन करवाने वाले समस्त सेवारत अप्रशिक्षित शिक्षकों को पोर्टल पर अनिवार्यतः पंजीयन कराना होगा। उक्त पंजीयन हेतु शिक्षक की संस्था का डाईस कोड एवं आधार नंबर आवश्यक होगा। संपूर्ण प्रशिक्षण कार्यक्रम दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से संचालित किया जायेगा। ऐसे शिक्षक जो कक्षा 12वीं उत्तीर्ण नही है अथवा 12वीं में 50 प्रतिशत से कम प्राप्तांक है, उन्हें राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयीन संस्थान के माध्यम से कक्षा 12वीं एवं डी.एल.एड. दोनो पाठ्यक्रमों में पंजीयन कराना होगा। कक्षा 12वीं में 50 प्रतिशत या अधिक प्राप्तांक से उत्तीर्ण होने पर डी.एल.एड. की पत्रोपाधि प्राप्त होगी। ऐसे शिक्षक जो पूर्व वर्षों में डी.एल.एड. प्रथम अथवा द्वितीय वर्ष अनुत्तीर्ण हो चुके हैं, उन्हें भी इस कार्यक्रम में पंजीयन कराकर पाठ्यक्रम पूर्ण करना होगा। पाठ्यक्रम के प्रथम एवं द्वितीय वर्ष की परीक्षा का शुल्क पंजीकृत आवेदक को स्वयं वहन करना होगा। शिक्षक 5 सितम्बर 2017 तक अपना पंजीयन पोर्टल पर करवा सकते है।

झाबुआ में सकंल्प से सिद्धि कार्यक्रम का आयोजन हुआ
  • 2022 तक गाॅव के विकास के लिए जनप्रतिनिधियों ने लिया संकल्प

झाबुआ । शासन के निर्देशानुसार भारत छोडो आंदोलन की 75 वी वर्ष गांठ पर न्यू इण्डिया मंथनः संकल्प से सिद्धि कार्यक्रम का आयोजन आज 28 अगस्त को झाबुआ जनपद में आयोजित किया गया। कार्यक्रम में पंचायतराज संस्थाओ के निर्वाचित जन प्रतिनिधियो का सम्मेलन आयोजित कर न्यू इण्डिया मंथन का संकल्प करवाया गया। कार्यक्रम में, विधायक झाबुआ श्री शांतिलाल बिलवाल, कलेक्टर श्री आशीष सक्सेना, सीईओ जिला पंचायत श्रीमती जमना भिडे, जनपद सीईओ झाबुआ श्री पी.सी.वर्मा एवं पंचायत राज संस्थाओ के निर्वाचित जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। विधायक श्री शांतिलाल बिलवाल ने गाॅव के विकास के लिए सभी को संकल्प करवाया एवं गाॅव का विकास करने के लिए सरपंचों से कहा कि सन् 2022 तक सरपंच प्रत्येक गाॅव के प्रत्येक घर एवं प्रत्येक किसान के यहां बिजली पहंुचाये, हर परिवार के पास शुद्ध पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करे। गाॅव को खुले में शौच से मुक्त करने के लिए प्रत्येक घर में शौचालय निर्माण करवाये। गाॅव को कीचड मुक्त करने हेतु सडक निर्माण करवाये, गाॅव में शत-प्रतिशत साक्षरता के लिए पहल करे। बच्चो का शत-प्रतिशत टीकाकरण सुनिश्चित करे। हर जरूरत मंद को आवास, खाद्यान्न एवं सामाजिक पेंशन का लाभ दिलवाये, गाॅव के सभी व्यक्तियों के बैंक खाते खुलवाये हर खेत तक पानी पहंुचाने को प्राथमिकता दे। हर गाॅव में स्वयं सहायता समूह बनवाकर उन्हें आत्म निर्भर बनवाये, हर गाॅव को वृक्षों से आच्छादित करे, गाॅव को गरीबी मुक्त, भ्रष्टाचार मुक्त, सम्प्रदाय मुक्त, जातिवाद मुक्त उन्नत गाॅव बनाये। न्यू इण्डिया मंथन कार्यक्रम का आयोजन थांदला में 30 अगस्त को किया जाएगा। कलेक्टर श्री आशीष सक्सेना ने उपस्थित जनप्रतिनिधियों से बालिकाओं का विवाह 18 साल से कम उम्र में नहीं करने एवं उनकी पढाई पूरी करवाने तथा दहेज दापा प्रथा को गांव से समाप्त करने का संकल्प भी करवाया।

1 सितम्बर से आधार केन्द्र निजी भवन से संचालित नहीं होगे ,आधार कार्ड रजिस्ट्रेशन एवं अपडेशन के लिए दरे तय

झाबुआ । शासन द्वारा भारत में रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति को डिजीटल पहचान देने हेतु आधार कार्ड उपलब्ध कराया जा रहा है। प्राधिकरण द्वारा आधार कार्ड उपलब्ध करवाने का कार्य विभिन्न शासकीय एवं गैर शासकीय रजिस्ट्रारों के माध्यम से करवाया जाता है। रजिस्ट्रार अपने से संबंधित इनरोलमेन्ट एजेन्सियो एवं एनरोलमेंट से यह कार्य कराते है। आधार कार्ड पंजीकरण एवं संबंधित अन्य प्रक्रियाओं हेतु प्राधिकरण द्वारा दरे निर्धारित की गई। जिसके अनुसार आधार पंजीकरण, बायोमेट्रिक अद्यतन 5 से 15 वर्ष आयु तक एवं स्थिति की जानकारी पंजीयन केन्द्र संचालक द्वारा निःशुल्क प्रदान की जाएगी। आधार कार्ड के संबंध में 15 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति का पंजीयन शुल्क 25 रूपये, डेमोग्राफिक अपडेशन के 25 रूपये, आधार नम्बर पता करना एवं इ्र्र-आधार प्रिंट (कलर) के लिए 20 रूपये एवं ई-आधार प्रिंन्ट ब्लेक एण्ड व्हाइट के लिए 10 रूपये शुल्क निर्धारित किया गया है। आधार संबंधित शिकायतों पर प्रभावी अंकुश लगाने हेतु शासन द्वारा अब आधार केन्द्र का संचालन शासकीय भवनो में किये जाने हेतु निर्देश जारी किये गये है। इसके लिए संचालक को तहसील/जनपद/नगरपालिका/ नगर परिषद अथवा चिकित्सालय में निजी आधार केन्द्र संचालको को एक कक्ष उपलब्ध करवाया जायेगा। कक्ष आवंटन हेतु संचालक को सबंधित अधिकारी को आवेदन प्रस्तुत करना होगा। अधिकारी द्वारा आवंटित कक्ष पर संचालक द्वारा प्राधिकरण द्वारा तय दर संबंधी बेनर आधार पंजीयन केन्द्रो पर अनिवार्य रूप से लगाना होगा। आधार पंजीयन शिविर आयोजित होने में शिविर में अनिवार्य रूप से जाने। आधार केन्द्र पर संचालक द्वारा केवल आधार संबंधी गतिविधियों का ही संचालन किया जाएगा। आगामी 1 सितम्बर के बाद यदि कोई आधार केन्द्र संचालक निजी भवन पर पंजीयन/अपडेशन कार्य करते हुए पाया जाता है, तो संचालक की मशीन जप्ती की कार्यवाही एवं ब्लेक लिस्ट करने की अनुशंसा संबंधित एसडीएम द्वारा शासन को की जाएगी। अधिकारियों के निरीक्षण के दौरान पंजीयन केन्द्र पर दर संबंधी बेनर लगा हुआ नहीं पाये जाने एवं तय दर से अधिक राशि वसूल करते पाये जाने पर एनरोलमेन्ट आॅपरेटरो के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।

सूक्ष्म, लद्यु और मध्यम उद्यम विभाग की मुख्यमंत्री युवा उद्यमी एवं स्वरोजगार योजना लोकसेवा गारंटी अधिनियम में शामिल

झाबुआ । मध्यप्रदेश लोक सेवाओं के प्रदाय की गांरटी अधिनियम 2010 में सेवाओं का विस्तार करते हुए राज्य सरकार द्वारा सूक्ष्म, लद्यु और मध्यम उद्यम विभाग द्वारा उपलब्ध करवाई जाने वाली सेवाओं में मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजनाओं एवं मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना को जोडा गया है। जारी अधिसूचना अनुसार मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजनांतर्गत प्राप्त आवेदन का परीक्षण कर पूर्ण/अपूर्ण की जानकारी आवेदक को प्रदान करने के लिए 15 कार्य दिवस, मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजनांन्तर्गत प्राप्त आवेदन का परीक्षण कर पूर्ण/अपूर्ण की जानकारी आवेदक को प्रदान करने के लिए 15 दिवस एवं पूर्ण आवेदन को सक्षम समिति से निर्मित करवाने के लिए 30 दिवस की समय-सीमा सेवाओं के लिए नियत की गई है। सेवा प्रदाय करने के लिए महाप्रबंधक जिला व्यापार एवं उद्योग को पदाभिहित अधिकारी, परिक्षैत्रीय उद्योग अधिकारी को प्रथम अपीलीय अधिकारी एवं उद्योग आयुक्त को द्वितीय अपीलय अधिकारी बनाया गया है।

खेत मे निंदाई करने गई महिला के साथ किया बलात्कार 
      
झाबुआ। फरि. नेे बताया कि खेत में निदाई करने गई थी कि आरोपी विनोद पिता अनसिंह सिंगाड निवासी झावलिया ने अकेली देखकर पकड़ लिया व चिल्लाने पर हाथ थप्पड़ से मारपीट कर ईच्छा के विरूद्ध जबरन खोटाकाम (बलात्कार) किया। प्रकरण में थाना रायुरिया में अपराध क्रमांक 281/17 धारा 376,323,506 भादवि व 3/4 पास्को एक्ट का प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

अपहरण का अपराध पंजीबद्ध

झाबुआ। फरि. सुखराम पिता अमरा मेडा उम्र 42 साल निवासी देवली ने बताया कि मेरी लड़की बदूडी उम्र 16 साल घर पर अकेली थी कि आरोपी हकरिया पिता मांगू दायमा निवासी लालारूण्डी ने बहला फुसलाकर अपहरण कर ले गया। प्रकरण में थाना रायपुरिया में अपराध क्रंमाक 282/17 धारा 363 भादवि. का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

अवैध शराब के तीन अपराध पंजीबद्ध
     
झाबुआ। आरोपी मोहन पिता धूमा अजनार उम्र 48 साल निवासी खजुरखो को अवैध रूप से शराब बैचते 22 बीयर व 20 लीटर कच्ची महुआ शराब कुल किमती 4,640/-रू0 की शराब जप्त कर गिर. किया गया। प्रकरण में थाना कालीदेवी में अपराध क्रं0 165/17 धारा 34(2),36 आब. एक्ट का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। आरोपी विष्णु पिता कांतीलाल राठौर निवासी पाडलवा के अवैध कब्जे से 1200/-रू0 की शराब जप्त कर गिर. किया गया। प्रकरण में थाना रानापुर में अपराध क्रं0 395/17 धारा 34-ए आब. एक्ट का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। आरोपी अनिल पिता कमलसिंह नायक निवसी टांडी के अवैध कब्जे से 1500/-रू0 की शराब जप्त कर गिर. किया गया। प्रकरण में थाना रानापुर में अपराध क्रं0 396/17 धारा 34-ए आब. एक्ट का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

चोरो ने दिवार खेाद कर चुराए आभुषण
      
झाबुआ । फरि. दिलीप पिता प्रेमसिंह बंजारा उम्र 33 साल निवासी पिपलीपाडा ने बताया कि अज्ञात 01 बदमाश घर के आगे की दिवार खोदकर मकान में घुसा व अलमारी का लाॅक तोड़कर आभूषण चुराकर ले गया। प्रकरण में थाना रायपुरिया में अपराध क्रंमाक 284/17 धारा 457, 380 भादवि का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

अज्ञात का शव नदी मे मीला
      
झाबुआ । अज्ञात मृतक व्यक्ति उम्र करीब 25 से 30 साल की अनास नदी के पानी में डुबने से मृत्यु हो गई। थाना कोतवाली में में मर्ग क्रमांक 91/2017 धारा 174 जा.फौ. की कायमी की गयी।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...