जुमलेबाजों और धोखेबाजों को सत्ता से हटाये बगैर चैन नहीं लूंगा : लालू यादव

lalu-challenge-modi-in-rally
पटना 27 अगस्त, केन्द्र की नरेन्द्र मोदी और बिहार की नीतीश सरकार के खिलाफ आज राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की रैली में जुटे 22 दलों ने इसे विपक्षी एकता की शुरूआत बताया और कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार लोकतंत्र तथा देश की एकता अखंडता के लिए खतरा है। स्थानीय गांधी मैदान में राजद की 'भाजपा भगाओ, देश बचाओ' रैली में श्री लालू प्रसाद यादव, उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के बागी नेता शरद यादव, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, राज्यसभा में प्रतिपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, कांग्रेस महासचिव सी.पी.जोशी, झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबू लाल मरांडी, हेमंत सोरेन, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी(भाकपा) के नेता सुधाकर रेड्डी और डी.राजा समेत रैली में पहुंचे अन्य नेताओं ने कहा कि इस रैली से भाजपा को सत्ता से भगाने की शुरूआत हो गयी है। राष्ट्रीय जनता दल(राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव भाजपा और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर बरसे और कहा कि वह जुमलेबाजों और धोखेबाजों को सत्ता से हटाये बगैर चैन नहीं लेंगे। उन्होंने कहा कि आज की रैली से विपक्षी एकता और मजबूत हुयी है । बिहार से आज भाजपा के खिलाफ निकली हुयी चिंगारी देश भर में फैलेगी और उसके खिलाफ सभी एकजुट होंगे । श्री यादव ने कहा कि वह फांसी पर चढ़ जाना पसंद करेंगे लेकिन भाजपा के साथ कभी नहीं जाने वालें है। उन्होंने कहा कि श्री नीतीश कुमार का कोई उसूल और सिद्दांत नहीं है लेकिन वह वचन के पक्के हैं । बिहार विधानसभा चुनाव में गठबंधन की जीत के बाद राजद के सबसे बड़े दल होने के बावजूद उन्होंने श्री कुमार को मुख्यमंत्री बनाया । राजद प्रमुख ने कहा कि फासिस्ट और साम्प्रदायिक शक्तियों को सत्ता में आने से रोकने के लिए उनकी पार्टी, जदयू और कांग्रेस को मिलाकर बिहार में गठबंधन बना था । विधानसभा के चुनाव में गठबंधन और भाजपा का अलग-अलग घोषणा पत्र था । बिहार की जनता ने भाजपा के घोषणा पत्र को नकार दिया लेकिन श्री कुमार ने पलटी मारकर भाजपा से हाथ मिला लिया और जनादेश अपमान किया । श्री यादव ने कहा, ‘ये नीतीश की आखिरी पलटी है और अब उन पर कोई भरोसा नहीं करेगा।’अब बिहार में राजद की ही सरकार बनेगी । उन्होंने कहा कि श्री कुमार को राजद विधायक दल के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव से राजनीतिक खतरा बना हुआ था और इसलिये उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलकर झूठा मुकदमा करा दिया है। 


राजद प्रमुख ने कहा कि श्री कुमार को दलित समाज के प्रति काफी नफरत है और इसका प्रमाण राष्ट्रपति पद के लिये हुए चुनाव में विपक्षी उम्मीदवार मीरा कुमार को समर्थन नहीं किया जाना है । यदि श्री कुमार समर्थन किये होते तो आज एक दलित की बेटी राष्ट्रपति होतीं । उन्होंने कहा कि श्री कुमार का भाजपा के साथ पहले से ही सांठ-गांठ बना हुआ था और वह सिर्फ मौके की तलाश में थे । श्री यादव ने कहा कि श्री कुमार के इशारे पर ही पटना स्थित उनके आवास पर उनकी गैर मौजूदगी में केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने छापेमारी की । उन्होंने कहा कि छापेमारी के ठीक पहले श्री कुमार अपने अस्वस्थ होने का बहाना बनाकर राजगीर चले गये। बगैर मुख्यमंत्री के इजाजत के उनके आवास पर सीबीआई के छापा पड़ ही नहीं सकता। राजद प्रमुख ने कहा कि श्री कुमार पर स्वयं ही 302 का मामला दर्ज है जिसे उन्होंने चुनाव आयोग दिये गये शपथ पत्र में कहा है। सृजन घोटाला का सारा दस्तावेज भी उनके पास आ गया है और अब वह एक-एक कर इसका खुलासा करेंगे । उन्होंने कहा कि सृजन घोटाले की सीबीआई से जांच पटना उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की निगरानी में होनी चाहिए तभी सच्चाई का पता चल सकेगा । कांग्रेस के महासचिव सीपी जोशी ने रैली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का रिकॉडेड भाषण सुनाया । जिसमें श्रीमती गांधी ने कहा कि वह सभी को भरोसा दिलाती हैं कि कांग्रेस सदैव सामाजिक भरोसे और सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय के रास्‍ते पर चलेगी। उन्होंने कहा कि इस रैली का आयोजन ऐसे समय में हो रहा है जब कट्टरता के बीज नये सिरे से बोये जा रहे हैं। आज मुल्‍क की सत्‍ता में बैठे लोग चाहते हैं कि जनता मूर्ख बनी रहे। श्रीमती गांधी ने कहा कि बिहार में जनादेश का अपमान पूरे देश का अपमान है। यह रैली उस प्रदेश में हो रही है, जहां चंपारण आंदोलन और भारत छोड़ो आंदोलन शुरू हुआ था। उन्होंने कहा कि हमें एक ऐसी सरकार के खिलाफ डटकर खड़ा होना है, जो झूठे सपने दिखाकर सत्‍ता में आयी है। सरकार बताये कि उसने कितने लोगों को रोजगार दिया। उल्‍टे रोजगार छीन लिया गया है। बच्‍चों की अस्‍पताल में जान जा रही है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा ,‘सत्‍ता के संरक्षण में अनर्गल विचारों को थोपने का जो काम हो रहा है, वैसा कभी नहीं हुआ है। आज यह तय करने का वक्‍त आ गया है कि हम इतिहास के किस धारा के साथ चलेंगे। हम उस रास्‍ते पर चलेंगे, जो हमें बापू ने सिखाया है और पूरी दुनिया में सम्‍मानजनक पहचान बनायी है।’ उन्होंने कहा,‘भारत की विविधिता, उदारता और अखंडता को हम सब को मिलकर रक्षा करनी है। आज की रैली में अलग-अलग उंगलियों को एक कर के मजबूत मुट्ठी बना दिया है।’ 


lalu-challenge-modi-in-rally
रैली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का भी संदेश पढ़कर सुनाया गया । श्री गांधी ने अपने संदेश में कहा कि भाजपा धन और बाहुबल के बल पर जहां जनादेश नहीं मिला है वहां भी सत्ता हथियाने में लगी है। उन्होंने कहा कि यह रैली ऐसे वक्त में हो रही है जब देश के बुनियादी ढांचे की उस नींव पर हमला हो रहा है, जिस पर हमारे बहुलतावादी लोकतंत्र की इमारत खड़ी है। श्री गांधी ने कहा कि मोदी सरकार 2014 के वादों को भूल चुकी है । सरकार के चंद करीबी लोगों को छोड़कर हर तबका जनविरोधी और गरीब विरोधी नीतियों का शिकार हो रहा है। महिलाओं किसानों और युवाओं का भविष्य दांव पर लगा है। उन्होंने कहा कि उन्हें यकीन है कि यह रैली सत्ताधारी दल और उनकी नापाक सरकार के इरादों को उजागर कर देगी। उन्होंने कहा कि नार्वे के एक दौरे पर होने की वजह से वह इस रैली में शामिल नहीं हो पा रहे हैं। राज्यसभा में प्रतिपक्ष के नेता गुलाम नवी आजाद ने कहा कि आज यहां पूरे देश के नेताओं का जुटान है। पिछले 3- 4 सालों से विपक्षी दलों की बैठकें होती रही है। हमेशा 17-18 दलों के नेता उसमें शिरकत किये। यह देश की पहली जनसभा है, जहां दिल्‍ली के बाद इतने सारे दल के नेता मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों के गठबंधन की बुनियाद बिहार से रखी गई थी। यही मंच था, यही लोग थे। कांग्रेस अध्‍यक्ष और उपाध्‍यक्ष भी मौजूद थे। बिहार की जनता से वादा किया गया था कि बिहार की 11 करोड़ जनता की तरफ से शपथ लेते हैं कि जनता को न्‍याय देने के लिए महागठबंधन बनायेंगे। श्री आजाद ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके सारे मंत्रिमंडल के लोग यहां आये। भाजपा के लोगों ने 26 हेलिकॉप्‍टर और 6 हवाई जहाज उड़ाये, वहीं महागठबंधन के मात्र 4 हेलिकॉप्‍टर थे। जदयू, राजद और कांग्रेस ने मिलकर भाजपा को पटखनी दी। उन्होंने कहा कि जिस मंच से हमने वादा किया था जनता को न्‍याय देने का, उस मंच से एक आदमी गायब है, वह हैं श्री नीतीश कुमार। श्री कुमार ने 11 करोड़ जनता को धोखा दिया है। उनके वोट को भाजपा को बेच दिया। कांग्रेस नेता ने कहा कि श्री कुमार की पार्टी असली जदयू नहीं है। असली जदयू श्री शरद यादव का है। श्री कुमार को दुबारा चुनाव लड़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज से 10 साल पहले जब बिहार में बाढ़ आयी थी तब कांग्रेस की सरकार ने 1000 करोड़ दिये थे लेकिन आज जब बाढ़ से नुकसान दस गुणा ज्यादा है तब मोदी सरकार ने राहत राशि आधी मात्र 500 करोड़ रूपये ही दी है। मोदी सरकार के अब दिन पूरे हो गये हैं। कोई भी उनसे डरने वाला नहीं है। जदयू के बागी राज्यसभा सदस्य शरद यादव ने कहा कि ने कहा कि आज बिहार में पूरे देश की तरफ से यह संग्रामी सभा रखी गई है। उन्होंने श्री नीतीश कुमार की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘आज राजनीति ऐसी हो गयी है कि हमारा छाया भी हमसे बगावत कर गया है।’ श्री यादव ने कहा कि बिहार में महागठबंधन खत्म करने की कोशिश हुई है, लेकिन अब पूरे देश में महागठबंधन बनाने की कोशिश तेज होगी । उन्होंने कहा कि राज्य के ग्यारह करोड़ लोगों का विश्वास तोड़ा गया है लेकिन अब वह वचन देते हैं कि वह 125 करोड़ लोगों का गठबंधन बनायेंगे । बिहार की जनता को फिर से इंकलाब लाना है और 70 सालों के भारत को पांच साल में बदलना है। संघर्ष का समय अब आ गया है। 

पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार अच्छे दिन का सपना दिखाकर तीन वर्ष से सत्ता में बनी हुयी है लेकिन अच्छा दिन कहीं दिखाई नहीं पड़ रहा है । सरकार के खिलाफ कोई थोड़ी आवाज भी निकाले तो उसे जेल में बंद कर दिया जा रहा है । उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के भी एक नेता को विरोध में बोलने पर जेल भेज दिया गया । आखिर कब तक जेल भेजते रहेंगे । सुश्री बनर्जी ने चुटकी लेते हुए कहा कि लगता है कि भाजपा ने भगवान को भी पार्टी की सदस्यता दे दी है । चुनाव के समय झूठे वायदे कर लोगों को जो धोखा दिया गया उसे कोई भूलने वाला नहीं है । उन्होंने कहा कि अगले चुनाव में बिहार के लोग मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जरूर छोड़ देंगे लेकिन राजद अध्यक्ष को नहीं । राजद अध्यक्ष , जदयू नेता शरद यादव और उत्तरप्रदेश के पूर्व मंत्री अखिलेश प्रसाद यादव पर लोग सौ प्रतिशत विश्वास कर सकते हैं । टीएमसी की अध्यक्ष ने कहा कि आज देश के गरीब के उपर अत्‍याचार हो रहा है। अल्‍पसंख्‍यकों, हिन्‍दुओं और सिखों के उपर अत्‍याचार हो रहा है। कभी बिहार के उपर हो रहा है तो कभी बंगाल तो कभी यूपी, तो कभी लालू के उपर लेकिन सबसे ज्‍यादा खतरा हिन्‍दुस्‍तान के उपर है। उन्होंने कहा कि नशबंदी में इंदिरा गांधी की सरकार जा सकती है, तो नोटबंदी में भाजपा की सरकार भी जायेगी। सुश्री बनर्जी ने श्री नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि माल महाराजा का और मिर्जा खेले होली । श्री लालू प्रसाद यादव के नाम पर वोट मिला और श्री कुमार भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाये । आने वाले दिनों में जनता इसका हिसाब लेगी। उन्होंने कहा कि देश आज खतरे में है जिसे बचाने की जरूरत है । सारा विपक्ष आज श्री लालू प्रसाद यादव के साथ है । उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि देश को बचाना है तो भाजपा को भगाना होगा । भाजपा ने किसानों और गरीबों को पीछे करने का काम किया है । भाजपा बताये कि तीन साल से ज्यादा का समय निकल गया है और किसान-गरीबों के जीवन में क्या बदलाव आया है। उन्होंने कहा कि देश में जीएसटी और नोटबंदी से कितने लोग बेरोजगार हुए इस बारे में भी भाजपा को बताना चाहिए । श्री यादव ने कहा कि यदि बिहार की धरती भाजपा का रथ रोक सकती है यह धरती तो भाजपा को सत्ता में आने से भी रोक सकती है । उन्होंने कहा कि बिहार के 11 करोड़, उत्तरप्रदेश के 22 करोड़ और पश्चिम बंगाल के लोग एकजुट हो जायें तो भाजपा केन्द्र में सत्ता में नहीं आ सकती है। रैली को बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री श्रीमती राबड़ी देवी, विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव, झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबू लाल मरांडी , झारखंड विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन , राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सांसद तारिक अनवर, राष्ट्रीय लोकदल के चौधरी जयंत सिंह, भाकपा के एस सुधाकर रेड्डी , द्रविड़ मुन्नेत्र कषगम (डीएमके) के सांसद एलांग गोबन , पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा के सहयोगी डा0 दानिश और पूर्व केन्द्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह समेत कई अन्य नेताओं ने भी संबोधित किया । 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...