पुनर्वास की मांग को लेकर मेधा पाटकर का आंदोलन

medha-patkar-protest
धार। आज अनशन का नौवां दिन है मेधा पाटकर का अनशन का। काफी कमजोर हो गयी हैं। 27 जुलाई से बेमियादी अनशन पर हैं। धार के लोग मझधार में पड़ गये हैं। कुछ विस्थापितों ही पुर्नवासित किया गया है। वह भी रहने लायक नहीं है। धार में मेधा पाटकर के अनशन का आज नौवां दिन है। डूब प्रभावितों की मांगों को लेकर नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेता मेधा पाटकर और 12 अन्य डूब प्रभावित अनशन पर हैं। पिछले दो दिन से मेधा पाटकर की तबीयत बिगड़ रही है। जांच के लिए गई मेडिकल टीम को भी कई बार वापस लौटा दिया। मेधा पाटकर ने सरकार पर फर्जी पुनर्वास के आंकड़े पेश करने के आरोप लगाए। बड़वानी में नर्मदा बचाओ आंदोलन की अध्यक्ष मेघा पाटकर की तबीयत बिगड़ गई है। पाटकर धार, चिखल्दा के 12 बाढ़ प्रभावितों के साथ अनशन पर बैठी है। वहीं डॉक्टरों की टीम जांच के लिए धरना स्थल पहुंची। वहीं अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल का आज 9वां दिन है। वहीं मौके पर कुक्षी एसडीएम और तहसीलदार पहुंचे। 500 परिवारों पर कम्युनिटी हॉल,पंचायत भवन, परिवारों पर एक बीज गोदाम, परिवारों पर बच्चों के लिए गार्डेन, परिवारों पर एक कुआं, परिवारों पर एक तालाब, 100 परिवारों पर धार्मिक स्थल,50 परिवारों पर एक वृक्ष चबूतरा बना है। मेघा पाटकर ने कहा कि यह सब सरकार आंकड़ों का खेल कर रही है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...