नौकरशाह अपना नाम किसी दल, नेता से न जुड़ने दें : कोविंद

need-to-be-mindful-of-expectations-of-young-and-poor-marginalised-sections-prez
नयी दिल्ली, 04 अगस्त, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज कहा कि नौकरशाहों को ऐसी धारणा नहीं बनने देनी चाहिए कि वे किसी राजनीतिक दल या नेता के साथ हैं, श्री कोविंद ने उनसे मिलने राष्ट्रपति भवन आये भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी के तौर पर पदोन्नत 65 प्रदेश लोक सेवा अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि आम तौर पर यह धारणा बनती है कि बीतते समय के साथ नौकरशाह किसी न किसी राजनीतिक व्यवस्था या नेता के साथ जुड़ जाते हैं, नौकरशाहों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उनका नाम किसी राजनीतिक दल या नेता से न जुड़े। राष्ट्रपति ने कहा कि नौकरशाहों के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती खुद को जनता की नजर में निष्पक्ष, ईमानदार, कुशल और योग्य साबित करने की है। उन्होंने कहा, “अखिल भारतीय सेवाओं ने देश के विकास और अर्थव्यवस्था की प्रगति में एक अहम भूमिका निभाई है। इसके बावजूद, हमें अपनी युवा आबादी और समाज के गरीब और पिछड़े तबकों की उम्मीदों पर ध्यान देना होगा। हमारी शासन प्रणालियों और नौकरशाही व्यवस्था की गुणवत्ता के बारे में अकसर किए जाने वाले जायज प्रश्नों को हम अनदेखा नहीं कर सकते।” उन्होंने कहा कि कई बार ये धारणायें वास्तविक से बिल्कुल उलट हो सकती हैं, लेकिन धारणाओं का होना बहुत ही जरूरी है। राष्ट्रपति ने नौकरशाहों को सरकारी नीतियां कानून और संविधान की भावना के अनुरूप तैयार करने की सलाह देते हुए कहा कि जन सेवकों को कार्यपालिका को स्वतंत्र एवं निष्पक्ष सलाह देने का साहस होना चाहिए।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...