युवाओं में विकल्पहीनता आत्महत्या का मुख्य कारण : प्रो.विनय कंठ

optionless-cretes-sucide-tendency-prof-vinay-kanth
मधुबनी। जेएमडीपीएल महिला कालेज में राजनीति विज्ञान विभाग के तत्वावधान में किशोर किशोरियों में बढ़ती आत्महत्या की प्रवृति और इसका सामाजिक आर्थिक प्रभाव विषय पर राष्ट्रीय सेमिनार का उद्घाटन करते हुए लनामिवि के कुलपति डॉ.एसके ¨सह ने कहा कि किशोर-किशोरियों में विसंगतियों से आत्महत्या की प्रवृति बढ़ रही है। माता पिता की बच्चों से अत्यधिक उम्मीदें तनाव को बढ़ावा देती है, जिसे दूर करते हुए बच्चों के भविष्य को संवारने की जरूरत है। मधुबनी के विधायक समीर कुमार महासेठ ने कहा कि युवाओं में आत्महत्या की प्रवृति पर रोक के लिए काउंसलिंग जरूरी है। जिसकी बिहार में बहुत कमी है। 

मुख्य वक्ता प्रो.विनय कंठ ने कहा कि युवाओं में विकल्पहीनता आत्महत्या का मुख्य कारण है। जहां ज्यादा भौतिक विकास हुआ है वहां आत्महत्या की प्रवृति ज्यादा है। सांस्कृतिक चेतना को बढ़ावा देकर आत्महत्या में कमी संभव है। प्रो.वाईएल दास ने कहा युवाओं मे साहस और धैर्य में कमी नकारात्मक सोच को बढ़ाती है। इसलिए उन्हें सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ना होगा। प्रो.जेपी ¨सह ने कहा कि आत्महत्या के कई रूप हो सकते हैं लेकिन इस प्रवृति पर रोक लगाकर ही देश के भविष्य को सुरक्षित रख सकते हैं। समारोह की अध्यक्षता प्रधानाचार्य डॉ. पीसीएल दास ने किया। विषय प्रवेश डीपी कर्ण ने किया और कार्यक्रम का संचालन संयोजक डॉ विनय कुमार दास ने किया। मौसम की विपरीत परिँस्थितियों में रविवार को सेमिनार के प्रारंभ होने से पूर्व कुलपति एसके ¨सह के आगमन पर कालेज की एनसीसी की छात्राओं ने चंदा कुमारी के नेतृत्व में गार्ड आफ आनर दिया। फिर उद्घाटन समारोह में प्रो.उदय नारायण तिवारी और प्रो.पूनम अग्रवाल के संयोजन में छात्राएं आराधना, प्रिया, प्रीति, प्रतिभा, शारदा, रविना, शेजल, रूपांजलि ने स्वागतगान प्रस्तुत किया।


उद्घाटन समारोह में डॉ मुनेश्चर यादव, जेएन कालेज के प्रधानाचार्य डॉ प्रेम कुमार प्रसाद, आरके कालेज के प्रधानाचार्य डॉ शंभू कुमार यादव सहित डीएनवाई कॉलेज, मधेपुर कालेज, घोघरडीहा कालेज, राजनगर कालेज के प्रधानाचार्य, मिथिलांचल चैबर्स के नवीन जायसवाल आदि उपस्थित थे। उद्घाटन सत्र के बाद दूसरे सत्र में दूर दराज से आए डेलीगेट ने सेमिनार में अपना आलेख प्रस्तुत किया। सत्र की अध्यक्षता कालेज के प्रधानाचार्य डा.पीसीएल दास ने की। संचालन डीपी कर्ण ने किया। एक दर्जन से अधिक आलेखों पर सारगर्भित चर्चा हुई। सोमवार को भी कार्यक्रम जारी रहेगा। कार्यक्रम में प्रो.अमर कुमार, प्रो.अरिन्दम कुमार, प्रो.ब्रज किशोर भंडारी, प्रो.मिथिलेश कुमार झा, प्रो.लाल बाबू साह, प्रो.भारत भूषण राय, प्रो.अर्चना कुमारी, प्रो.प्रभात कुमार सिन्हा, प्रो.निवेदिता कुमारी, दिलीप झा, प्रमोद अगवाल, मोहन ठाकुर, पंकज कुमार सहित अन्य सक्रिय रहे।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...