भागलपुर में करोड़ों के घोटाले में इओयू की छापेमारी जारी

raid-in-bhagalpur-scam
भागलपुर 12 अगस्त, बिहार के भागलपुर जिले में हुए सरकारी राशि के करोड़ों रुपयें के घोटाले की जांच कर रही आर्थिक अपराध इकाई (इओयू) ने आज सिविल सर्जन कार्यालय समेत कई स्थानों पर छापेमारी कर इससे संबंधित बैंक पासबुक समेत अन्य कागजातों को जब्त किया। आधिकारिक सूत्रों ने यहां बताया कि इओयू की टीम ने भागलपुर के सिविल सर्जन कार्यालय में छापेमारी की । छापेमारी के दौरान कई बैंकों के पासबुक और कागजातों को अपने कब्जे में लिया । इसके बाद सिविल सर्जन से भी पूछताछ की गई । सूत्रों ने बताया कि इससे पूर्व इस घोटाले की जांच कर रही जिला पुलिस की विशेष जांच दल (एसआईटी) ने कल देर रात जगदीशपुर थाना क्षेत्र के पिस्ता गांव स्थित जिला युवा जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के अध्यक्ष शिव कुमार मंडल के घर पर भी छापेमारी की । छापेमारी की भनक लगते ही मंडल फरार हो गया । वहीं इओयू की टीम ने कल ही घोटाले के मुख्य आरोपी स्वयंसेवी संस्था सृजन के सचिव के आलीशान मकान की घेराबंदी कर छापेमारी की थी , लेकिन वह भी हाथ नहीं लग सका । 



इस बीच भागलपुर के जिलाधिकारी आदेश तितरमारे ने यहां बताया कि अभी तक इस मामले में घोटाले की राशि बढ़कर करीब 668 करोड़ रुपये तक हो गयी है । उन्होंने बताया कि इस मामले में अब तक अलग-अलग सात प्राथमिकी दर्ज की जा चुकी है । श्री तितरमारे ने बताया कि जिन लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है उनमें जिला भू-अर्जन विभाग का सर्वाधिक 275 करोड़ रुपये की फर्जी निकासी का भी मामला शामिल है। उन्होंने बताया इस घोटाले में शामिल सात लोगों को अबतक गिरफ्तार कर आज जेल भेज दिया गया है और हिरासत में लिए गए अन्य लोगों से कड़ी पूछताछ की जा रही है। जिलाधिकारी ने बताया कि गिरफ्तार लोगों में जिला समाहरणालय, बैंक और सृजन से जुड़े लोग शामिल है। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार किए गए सरकारी कर्मचारियों के निलंबन की प्रक्रिया शुरू हो गई है और जल्द ही सभी को निलंबित किया जाएगा । इसके साथ ही उनपर विभागीय कार्रवाई भी होगी । वहीं घोटाले से जुड़े जिला नजारत के नाजीर अमरेंद्र कुमार यादव के फरार रहने के कारण उससे अभी स्पष्टीकरण पूछा गया है। इसबीच झारखंड के गोड्डा के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद निशीकांत दुबे, भागलपुर के राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सांसद बुलो मंडल एवं कांग्रेस विधायक दल के नेता सदानंद सिंह ने इस महाघोटाले की जांच सीबीआई से कराने की मांग केंद्र सरकार से की है। वहीं दूसरी ओर इस घोटाले में शामिल इंडियन बैंक , भागलपुर के शाखा प्रबंधक नवीन कुमार राय को आज उप क्षेत्रीय प्रबंधक ने निलंबित कर दिया है। मामला उजागर होने के बाद से वह फरार हैं । 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...