राज्यसभा चुनावों में नोटा के विकल्प पर सदन में हंगामा

rajya-sabha-elections-nota-options-house-hungama
नयी दिल्ली 01 अगस्त, राज्यसभा चुनावों में नोटा का विकल्प होने के मुद्दे पर राज्यसभा में आज कांग्रेस समेत संपूर्ण विपक्ष ने भारी शोरगुल किया जिससे प्रश्नकाल नहीं हो सका और सदन की कार्यवाही दो बजे तक स्थगित करनी पड़ी। सभापति हामिद अंसारी ने प्रश्नकाल शुरू करने के लिए संबंधित सदस्य का नाम पुकारा तो कांग्रेस के उप नेता आनंद शर्मा ने व्यवस्था का प्रश्न उठाते हुए कहा कि निर्वाचन आयोग ने राज्यसभा चुनावों में नोटा का विकल्प इस्तेमाल करने का कार्यकारी आदेश जारी किया है। उन्होंने कहा कि राज्यसभा के चुनावों की प्रक्रिया चल रही है और यह प्रक्रिया संविधान में वर्णित है। आयोग का कार्यकारी आदेश संविधान में संशोधन नहीं कर सकता। यह आदेश असंवैधानिक और गैर कानूनी है। सदन को इस पर तत्काल चर्चा करनी चाहिए और सरकार को स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। इस बीच श्री अंसारी ने कहा कि यह समय प्रश्नकाल का है और इस समय इस विषय की अनुमति नहीं दी जा सकती। इस पर कांग्रेस के सदस्य अपनी सीटों पर खड़े हो गए और विपक्ष के कई सदस्यों ने भी श्री शर्मा का समर्थन किया। सभापति ने सदस्यों से शांत करने का प्रयास करते हुए कहा कि वह इस मामले को देखेंगे। सदन के नेता अरुण जेटली ने कहा कि चुनाव आयोग का यह कार्यकारी आदेश उच्चतम न्यायालय के एक निर्णय के अनुरूप है और संविधान का अनुच्छेद 324 आयोग को चुनाव के संबंध में आदेश जारी कर अधिकार देता है। उन्होंने कहा कि आयोग की आदेशों की जांच सदन नहीं कर सकता। इसके लिए न्यायालय जाना चाहिए। इसके बाद सदन में शोर गुल शुरू हो गया और सभापति ने सदन की कार्यवाही 12 बजकर 12 मिनट पर 10 मिनट के लिए स्थगित कर दी।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...