दुमका : ईश्वरीय संदेश के साथ धूमधाम से मनाया गया रक्षाबंधन

rakhi-dumka
दुमका (अमरेन्द्र सुमन) प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के नगर पालिका चैक दुमका, स्थित ओम शांति भवन में रक्षाबंधन का पवित्र पर्व ईश्वरीय संदेश के साथ धूमधाम से मनाया गया। ओम शांति भवन में सर्वप्रथम प्रातः बाबा का संदेश, मुरली से कार्यक्रम की शुरूआत करते हुए रक्षाबंधन के अवसर पर विशेष रूप से सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।  इसके पश्चात् आश्रम में आए हुए सभी भाई बहनों और शहर के गणमान्य लोगों को जिनमें नगर पर्षद अध्यक्षा अमिता रक्षित, स्थानीय सांसद प्रतिनिधि विजय कुमार सिंह, राधेश्याम वर्मा आदि को संस्था की बहनों द्वारा रक्षा सूत्र बाँधकर इनके साथ-साथ संपूर्ण विश्व के कल्याण के लिए मंगल कामना की गई। इसके पश्चात् तय कार्यक्रम के तहत् आश्रम की बहनें देश सेवा में तत्पर अपने घर से दूर रह रहे सुरक्षा में मुस्तैद दुमका स्थित 18वीं वाहिनी, सशस्त्र सीमा बल के जवानों के बीच जाकर रक्षाबंधन का त्यौहार हर्षोल्सास के साथ मनाते हुए ईश्वरीय राखी बाँधकर उनकी मंगल कामना की। इस अवसर पर संस्था की संचालिका बी0 के0 जयमाला ने सशस्त्र सीमा बल के सभी जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि यह पर्व विचारों में पवित्रता को धारण कर अपने अंदर छिपे हुए दुगुर्णाें को निकाल शिव परमात्मा को अर्पण कर देना ही सच्ची राखी है।  रक्षाबंधन सभी पर्वों में एक अनोखा पर्व ही नहीं, भारत की संस्कृति तथा मानवीय मूल्यों को प्रत्यक्ष करने वाला अनेक आध्यात्मिक रहस्यों को प्रकाशित करने वाला और भाई बहन के वैश्विक रिश्ते की स्मृति दिलाने वाला एक परमात्म उपहार है।  दाएँ हाथ से तिलक लगाने और दाएँ हाथ (राईट हैंड) पर राखी बाँधने के पीछे के कारण को स्पष्ट करते हुए बताई कि हम सदा राईट अर्थात सकारात्मक चिंतन करते हुए राईट अर्थात सही/श्रेष्ठ कर्म ही करें।  मिठाई खिलाने के पीछे भी मन को और संबंधों को मीठा बनाने का राज भरा है। सशस्त्र सीमा बल के डिप्टी कमांडेंट जीतेंद्र जोशी ने कहा कि प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के बहनों के आने से हमसबों को यहाँ परिवार के माहौल का अनुभव हो रहा है और हमसभी सशस्त्र बल के जवानों को यह महसूस ही नहीं हो रहा कि हम सब अपने घर परिवार से दूर हैं।  इन बहनों द्वारा यहाँ आकर राखी बाँधने का कार्यक्रम आयोजित कर हमसब जवानों को रक्षा सूत्र बाँधते हुए हमारी मंगलकामना के लिए हम सब इन बहनों का शुक्रगुजार हैं और इनको तहेदिल से धन्यवाद देते हैं। इस तरह के कार्यक्रम आयोजित करने से सशस्त्र सीमा बल के जवानों को अपने घर और अपनी सूनी कलाईयों में राखी की कमी महसूस नहीं हुई और इस मौके पर वे काफी उत्साहित और खुश नजर आए।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...