शिक्षाविद् एवं सामाजिक कार्यकर्ता रामकृष्ण पुजारी का निधन

ramakrishna-pujari-passed-away
नागपुर, 11 अगस्त, संस्कृत भारती के वरिष्ठ सदस्य, राधाकृष्णा अस्पताल के निदेशक और वर्तमान में हृदयमित्र मंडल के अध्यक्ष डॉ. रामकृष्ण माधव पुजारी उर्फ रामभाऊ का आज यहां निधन हो गया। वह 78 वर्ष के थे आैर पिछले कुछ दिनों से बीमार थे। उनके परिवार में पत्नी विजया और दो बेटे मनीष और मंगेश हैं।  रामभाऊ राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) की शाखा संस्कृत भारती के क्षेत्रीय प्रमुख तथा प्राचीन एवं आधुनिक विज्ञान और एक शिक्षाविद् थे। उन्होंने अपनी अंतिम सांस तक प्राचीन भाषा को बढ़ावा दिया ।  उनका जन्म कैमपटी में हुआ। रामभाऊ पेश से सिविल इंजीनियर थे और आयुर्वेदिक डॉक्टर थे। उन्होंने छह वर्ष की आयु से अपना जीवन गुरुकुल में बिताया। उन्होंने आयुर्वेद में डॉक्टरेट की डिग्री 16 वर्ष की आयु में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से गोल्ड मेडलिस्ट के रूप में प्राप्त की थी।  पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि वह 35 से 40 वर्ष की आयु में चार बार हृदयाघात होने के बावजूद बच गये और यह अपने आप में एक चमत्कार था। उनकी अंत्येष्टि कल सुबह साढ़े आठ बजे उनके निवास उज्जवल नगर में होगी । 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...