प्रसाद की राहुल पर टिप्पणी दुर्भाग्यपूर्ण एवं निंदनीय : कांग्रेस

ravishankar-prasad-coment-on-rhul-gandhi-shamefull
नयी दिल्ली 17 अगस्त, कांग्रेस ने अपने उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद की टिप्पणियों को दुर्भाग्यपूर्ण एवं निंदनीय करार दिया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी ने आज यहां संवाददाताओं से कहा कि श्री प्रसाद की टिप्पणियां उनकी अज्ञानता और अहंकार का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि श्री गांधी ने साझी विरासत सम्मेलन में जिन सवालों तथा मुद्दों का जिक्र किया है, वे तथ्यों पर आधारित हैं। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने संविधान समीक्षा समिति का गठन किया था। उन्होंने कहा कि श्री प्रसाद ने कहा है कि श्री गांधी के जन्म से पहले भी भाजपा की सरकारें रही हैं जबकि भाजपा का गठन ही 1980 में हुआ है। कांग्रेस नेता ने कहा कि देश के कानून मंत्री को इतिहास ठीक से समझ लेना चाहिए। श्री तिवारी ने सवाल किया कि क्या यह सच नहीं है कि प्रसार भारती समेत तमाम संस्थाओं में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा समर्थक लोगों को भरा जा रहा है। क्या यह सच नहीं है कि सरकार के शीर्ष पदों पर बैठे लोगों का संबंध विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन से और इस संस्था का संबंध संघ से है। कांग्रेस नेता ने श्री प्रसाद के इस आरोप को भी खारिज कर दिया कि केरल में संघ के कार्यकर्ताअों की हत्याओं की कोई पार्टी निंदा नहीं करती है। श्री तिवारी ने कहा कि कांग्रेस किसी भी तरह की राजनीतिक हिंसा की निंदा करती रही है और करती है। भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह के लोकसभा के 2019 के चुनाव में 360 सीटें जीतने के दावे से संबंधित एक सवाल के जवाब में श्री तिवारी ने कहा कि भाजपा को जमीनी हकीकत का अंदाजा नहीं है। वर्ष 2004 के चुनावों का परिणामों को दोहराया जा सकता है। वर्ष 2019 में भाजपा 360 सीटों की बजाय 36 सीटों पर भी सिमट सकती है। उन्होंने कहा कि देश में दो विचार चल रहे हैं। एक विचार, उदारवादी विचार है जिसका प्रतिनिधित्व कांग्रेस और साझी विरासत सम्मेलन में शामिल सभी दल करते हैं। दूसरे विचार का प्रतिनिधित्व भारतीय जनता पार्टी अौर संघ परिवार करता है जो संकीर्ण विचार हैं। उन्होंने दावा किया कि 2019 में उदारवादी विचार की जीत होगी।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...