सुशील ने सृजन घोटाले में राजद के आरोपों को सिरे से खारिज किया

susil-modi-refuse-rjd-srijan-scam-blame
पटना 22 अगस्त, बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल(राजद) के सृजन घोटाले की जानकारी होने के बावजूद राज्य सरकार के कार्रवाई नहीं करने के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुये आज कहा कि इस मामले में वर्ष 2013 में सामाजिक कार्यकर्ता और चार्टर्ड अकाउंटेंट की ओर से उपल्ब्ध कराई गई गई सूचना संबंधित विभाग को भेज दी गई थी ताकि उचित कार्रवाई की जा सके। श्री मोदी ने यहां संवाददाताओं से कहा कि सृजन घोटाला मामले में चार्टर्ड अकाउंटेंट की ओर से दी गई सूचना पर राज्य सरकार के कार्रवाई नहीं करने के राजद के आरोप निराधार हैं। उन्होंने कहा कि चार्टर्ड अकाउंटेंट ने वर्ष 2013 में जो सूचना उपलब्ध कराई थी वह केवल बर्खास्त सरकारी अधिकारी जयश्री ठाकुर के खाते से ट्रांजेक्शन से संबंधित थी। इस मामले में आवश्यक कार्रवाई करने के लिए इस सूचना को संबंधित विभाग को भेज दिया गया था। उप मुख्यमंत्री ने कहा सृजन गबन और चारा घोटाले में बहुत अधिक अंतर है। चारा घोटाले में पशुपालन विभाग ने साल दर साल फर्जीवाड़ा कर बड़ी राशि की निकासी थी, जो बजट आवंटन से कहीं अधिक था। वहीं सृजन घोटाले में बैंकों में सरकारी खाते में जमा कराई गई राशि की अवैध निकासी कर भागलपुर के गैर सरकारी संगठन सृजन महिला विकास सहयोग समिति लिमिटेड के खाते में जमा कराया गया। उन्होंने कहा कि यह मामला केवल एक जिले से जुड़ा है। श्री मोदी ने कहा कि राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव नब्बे के दशक में केवल मुख्यमंत्री ही नहीं बल्कि वित्तमंत्री भी थे और उन्हें पशुपालन विभाग में फर्जीवाड़े की पूरी जानकारी थी लेकिन उन्होंने इसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। उन्होंने कहा कि सृजन घोटाले में संलिप्त किसी को छोड़ा नहीं जाएगा। राज्य सरकार ने इस मामले की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की अनुशंसा की है, जो राजद अध्यक्ष की भी मांग थी। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...