सृजन घोटाले को लेकर तेजस्वी ने विधान मंडल परिसर में दिया धरना

tejaswi-protest-in-assembly-srijan-scam
पटना 23 अगस्त, बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने सृजन घोटाले को लेकर आज विधानमंडल परिसर में जननायक कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा के समक्ष धरना दिया । श्री यादव ने विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा लेने के तुरंत बाद विधानमंडल परिसर में जननायक की आदमकद प्रतिमा स्थल के निकट धरना दिया । उनके साथ पार्टी के कई विधायक और नेता भी धरना में शामिल हुए । प्रतिपक्ष के नेता ने मौके पर संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि सृजन घोटाले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए । इस घोटाले की जानकारी सरकार को उस समय थी जब राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(राजग) के कार्यकाल में वर्ष 2005 से लेकर वर्ष 2013 तक श्री मोदी वित्त मंत्री थे । उन्होंने कहा कि जानकारी के बावजूद मुख्यमंत्री श्री कुमार और श्री मोदी ने घोटाले में शामिल लोगों के खिलाफ न तो कोई कार्रवाई की और न ही इसे रोकने के लिये कोई कदम ही उठाया । 


श्री यादव ने कहा कि सृजन घोटाला सिर्फ भागलपुर में ही नहीं बल्कि इसका तार बांका और सहरसा जिला से भी जुड़ा है । सिर्फ भागलपुर में ही जांच कराये जाने से इस मामले के तह तक जाना संभव नहीं है । उन्होंने कहा कि बिहार के सभी जिलों में जांच करायी जानी चाहिए ताकि यह पता चल सके कि इस तरह का घोटाला और भी कहीं हुआ है या नहीं । उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी को पूरा विश्वास है कि अन्य जिलों में भी घोटाले हुए हैं । प्रतिपक्ष के नेता ने कहा कि वह जब भागलपुर गये थे तो सरकार के इशारे पर वहां का जिला प्रशासन उन्हें सभा करने की अनुमति नहीं दी थी । उन्होंने कहा कि वह चाहते थे कि लोगों को सृजन घोटाले की सच्चाई बतायें लेकिन सभा स्थल पर धारा 144 लागू कर उन्हें ऐसा करने से रोक दिया गया । श्री यादव ने कहा कि वह भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) और जनता दल यूनाइटेड(जदयू) के नेताओं के इस घोटाले में संलिप्तता को लोगों के सामने उजागर करेंगे । उन्होंने कहा कि जब तक मुख्यमंत्री श्री कुमार और उप मुख्यमंत्री श्री मोदी इस्तीफा नहीं देंगे तब तक इस घोटाले का निष्पक्ष जांच संभव नहीं है । उन्होंने आरोप लगाया कि घोटाले के साक्ष्य को मिटाया जा रहा है ताकि इसमें संलिप्त लोगों को बचाया जा सके । 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...