आतंकवाद से कड़ाई से निपटेंगे, कश्मीरियों को गले लगाएंगे : मोदी

terrorism-strictly-dealing-kashmiris-modi
नयी दिल्ली 15 अगस्त, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जनभागीदारी से शक्तिशाली, समृद्ध तथा भ्रष्टाचार मुक्त ‘नया भारत’ बनाने का आह्वान व्यक्त करते हुये आज साफ किया कि उनकी सरकार आतंकवाद से कड़ाई से निपटेगी लेकिन कश्मीर की समस्या वहां के लोगों को ‘गले लगाकर’ मेलमिलाप से सुलझाएगी ताकि वह फिर से धरती का स्वर्ग बन सके। श्री मोदी ने लालकिले के प्राचीर से 71वें स्वतंत्रता दिवस पर देशवासियों को संबोधन में भ्रष्टाचार एवं भाई भतीजावाद से कोई समझौता नहीं करने संकल्प व्यक्त करते हुए कहा कि गरीबों को लूट कर अपनी तिजोरी भरने वालों को चैन से सोने नहीं दिया जायेगा। सरकार ने बहुत कम समय में 800 करोड़ रुपए से ज्यादा बेनामी संपत्ति जब्त कर ली है। नोटबंदी को भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई में अहम कदम बताते हुए उन्होंने कहा कि सरकार के इस कदम से लाखों करोड़ रुपये का छिपा हुआ धन बाहर लाने में सफलता मिली है। उन्होंने गोरक्षा के नाम पर हत्यायें करने वालों को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि आस्था के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं की जायेगी। उन्होंने मुस्लिम महिलाओं की ‘तीन तलाक’ की पीड़ा को स्वर देते हुए विश्वास व्यक्त किया कि देश उनके अधिकार दिलाने में आगे आयेगा। 


श्री मोदी का लालकिले से राष्ट्र के नाम यह चौथा संबोधन था। पारंपरिक रंगबिरंगी पगड़ी पहने श्री मोदी ने इस बार अपना भाषण करीब 55 मिनट में पूरा किया। उन्होंने न्यू इंडिया के निर्माण के लिये युवाओं से भागीदारी का आह्वान करते हुए कहा कि नया भारत स्वच्छ और स्वस्थ होगा तथा स्वराज के सपने को पूरा करेगा। इस भारत में भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद से कोई समझौता नहीं होगा और यह आतंकवाद, संप्रदायवाद और जातिवाद से मुक्त होगा। नए भारत में युवाओं और महिलाओं को उनके सपने पूरे करने के लिए भरपूर अवसर मिलेंगे। नए भारत में सभी को अपनी क्षमताओं का भरपूर इस्तेमाल करने का अवसर उपलब्ध होगा। उन्होंने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने की सरकार की प्रतिबद्धता को दोहराते हुये कहा, “ हम सब मिलकर एक ऐसा भारत बनाएंगे, जहां देश का किसान चिंता में नहीं, चैन से सोएगा, आज वह जितना कमा रहा है, उससे दोगुना कमाएगा।” उन्होंने किसानों की खुशहाली के लिये उठाये जा रहे कदमों का खुलकर जिक्र किया और कहा सिंचाई की 99 बड़ी परियोजनाओं पर काम चल रहा है जो 2019 तक पूरी कर ली जायेंगी। उन्होंने कहा कि खेती किसानी का बुनियादी ढांचा बनाने के लिए बढ़ावा दिया और सरकार ने ‘प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना’ लागू की है। जिसमें उन व्‍यवस्‍थाओं का निर्माण किया जाएगा जो बीज से बाजार तक किसान को मजबूती देंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘न्यू इंडिया’ हमारी सबसे बड़ी ताकत है। हमने लोकतंत्र को मतपत्र तक सीमित कर रखा है। हम ऐसा ‘न्यू इंडिया’ बनाने में लगे हैं जहां लोगों से तंत्र चले, तंत्र से लोग नहीं। उन्होंने कहा कि पिछले तीन साल में उनकी सरकार ने अनगिनत फैसले लिये हैं। देश को नये ट्रैक पर ले जाने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन विकास की गति को बरकरार रखा है। 

जम्मू कश्मीर का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि कश्मीर की समस्या ना गोली से और ना गाली से बल्कि कश्मीरियों को गले लगाने से सुलझेगी। उन्होंने यह भी कहा कि अलगाववादियों एवं आतंकवाद से नरमी नहीं बरती जायेगी। उन्होंने कहा, “आतंकवादियों को बार - बार हमने कहा है कि आप मुख्यधारा में आइये भारत के लोकतंत्र में आपको बात करने के लिये पूरा अधिकार है, पूरी व्यवस्था है। और मुख्यधारा ही है जो हर किसी के जीवन में नई ऊर्जा भर सकती है।” चीन के साथ सीमा पर चल रही तनातनी के बीच प्रधानमंत्री ने कहा कि देश की रक्षा और सुरक्षा सरकार की प्राथमिकता है और मौका आने पर सशस्त्र बल दुश्मन के हौसले पस्त करने की ताकत रखते हैं। उन्होंने जल -थल और नभ हर जगह देश की सुरक्षा का संकल्प व्यक्त करते हुए कहा, “समंदर से लेकर सीमा और साइबर से लेकर स्पेस तक’ हरतरह की सुरक्षा सरकार की प्राथमिकता है । हमारी सेना और सशस्त्र बलों ने मौका आने पर अपना सामर्थ्य दिखाया है और वे दुश्मन के हौसले पस्त करने के लिए पूरी तरह सामर्थ्यवान और ताकतवर हैं।” पाकिस्तान का नाम लिये बिना सीमापार आतंकवाद को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त न करने का संकल्प व्यक्त करते हुए श्री मोदी ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद के खिलाफ लडाई में भारत अकेला नहीं है । वह दुनिया के साथ कंधे से कंधे मिलाकर यह लडाई लड रहा है। दुनिया के तमाम देश इससे जुडी सूचनाएं साझा करने में भारत को सक्रिय मदद दे रहे हैं । प्रधानमंत्री ने अगले वर्ष मतदाता सूची में जुड़ने वाले युवाओं के लिये लालकिले के प्राचीर से विशेष संदेश दिया और कहा कि एक जनवरी 2018 कोई सामान्य दिन नहीं होगा, इस दिन के बाद पैदा होने वाले हमारे देश के भाग्य विधाता होंगे। 21वीं शताब्दी में जन्मे नौजवानों के लिए यह वर्ष काफी महत्वपूर्ण वर्ष होगा। ये युवा 18 साल के हो जाएंगे। उन्होंने कहा, “ मैं उनका सम्मान करता हूं, उनका अभिनंदन करता हूं। ...मैं उनका आह्वान करता हूं कि आइए आप देश के विकास एवं उन्नति में भागीदार बनिए।” श्री मोदी ने भ्रष्टाचार के विरुद्ध बहुत बड़ी लड़ाई जारी रखने का ऐलान करते हुए कहा कि नोटबंदी के बाद तीन लाख करोड़ रुपये से अधिक अतिरिक्त धन बैंकों में आया है जिसमें पौने दो करोड़ रुपये की राशि शक के घेरे में है। उन्होंने कहा कि तीन साल पहले विदेशों में जमा काला धन का पता लगाने के लिये गठित विशेष कार्यबल (एसआईटी) ने करीब सवा लाख करोड़ रुपये की विशाल धनराशि का पता लगाया है और उसे सरेंडर करने को मजबूर किया है। उन्होंने यह भी कहा कि नये काले धन का रास्ता रोकने की कवायद में भी सफलता मिली है। इस वर्ष एक अप्रैल से पांच अगस्त के बीच 56 लाख आयकर रिटर्न भरीं गयीं हैं जबकि पिछले साल केवल 22 लाख रिटर्न भरीं गयीं थीं जो ढाई गुने से अधिक है। उन्होंने कहा कि 18 लाख से अधिक ऐसे लोगों की पहचान की गई है जिनकी अाय हिसाब किताब से ज़्यादा है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...