उपराष्ट्रपति पद के लिए मतदान कल, सभी तैयारियां पूरी

voting-for-vice-president-tomorrow-all-preparations-are-completed
नयी दिल्ली 04 अगस्त, देश के दूसरे सर्वोच्च संवैधानिक पद उपराष्ट्रपति के चुनाव के लिए कल मतदान होगा जिसके लिए संसद भवन में सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं, उपराष्ट्रपति चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के उम्मीदवार एम वेंकैया नायडू का मुकाबला 18 विपक्षी दलों के उम्मीदवार गोपालकृष्ण गांधी से है। श्री नायडू लंबे समय से भारतीय जनता पार्टी से जुड़े रहे हैं और केन्द्र में मंत्री भी रहे हैं जबकि श्री गांधी पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल रह चुके हैं और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पौत्र हैं। उपराष्ट्रपति चुनाव में लोकसभा और राज्यसभा के सदस्य मतदान करते हैं और दोनों सदनों में सत्तारूढ़ पक्ष और विपक्ष के सदस्यों की संख्या को देखते हुए इस चुनाव में श्री नायडू का पलड़ा भारी है। मतदान कल सुबह दस बजे शुरू होकर शाम पांच बजे तक चलेगा तथा मतगणना शाम 7 बजे शुरू होगी । परिणाम देर शाम तक घोषित कर दिया जायेगा। मत डालने के लिए सदस्यों को एक विशेष पेन दिया जाएगा और अगर किसी सदस्य ने किसी दूसरे पेन का इस्तेमाल किया तो उनका मतपत्र रद्द कर दिया जाएगा। राष्ट्रपति चुनाव की तरह उप राष्ट्रपति चुनाव में गुप्त मतदान होने के कारण इसमें पार्टियों की ओर से अपने सदस्यों को व्हिप जारी नहीं किया जा सकता। वर्तमान उपराष्ट्रपति एवं राज्यसभा के सभापति हामिद अंसारी का कार्यकाल 10 अगस्त को पूरा हो रहा है। उस दिन सदन में सदस्यों द्वारा उन्हें भावभीनी विदाई दी जाएगी। नये उपराष्ट्रपति 11 अगस्त को अपना कार्यभार संभालेंगे। संसद भवन के प्रथम तल पर स्थित कमरा नम्बर 62 में मतदान के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं और सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए हैं। प्रथम तल के गलियारे में इस कमरे के सामने सफेद परदे लगाए हैं और सुरक्षाकर्मी तैनात किये गए हैं। उपराष्ट्रपति चुनाव में संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित सदस्यों के साथ-साथ मनोनीत सदस्य भी मत डालते हैं और यह चुनाव आनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली के आधार पर गुप्त बैलेट से होता है। उपराष्ट्रपति के चुनाव में विधानसभाओं के सदस्य मतदाता नहीं होते जबकि राष्ट्रपति चुनाव में वे मतदान करते हैं। उपराष्ट्रपति चुनाव में सदस्य नोटा यानी किसी को भी मत नहीं देने के विकल्प का भी इस्तेमाल कर सकेंगे। कुछ विपक्षी दलों ने इसे लेकर चुनाव आयोग से अापत्ति दर्ज करायी थी। यह मामला उच्चतम न्यायालय में भी गया लेकिन न्यायालय ने नोटा को हटाने से इन्कार कर दिया। लोकसभा में राजग का पूर्ण बहमत है। सदन में कुल 545 सीट हैं, जिनमें दो सीट रिक्त हैं। भाजपा के 281 और राजग के कुल मिलाकर 338 सदस्य हैं। बिहार के सासाराम से भाजपा सांसद छेदी पासवान अदालती फैसले के चलते वोट नहीं कर पायेंगे। ऊपरी सदन में सत्तारूढ दल का बहुमत नहीं है। राज्यसभा में कुल 245 सीटें हैं जिनमें दो रिक्त हैं। भाजपा ने कांग्रेस को पीछे छोड़ते हुये कल ही राज्यसभा में 58 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी का स्थान हासिल कर लिया है। कांग्रेस के 57 सांसद हैं। इस सदन में राजग के पास बहुमत नहीं है लेकिन लोकसभा में उसके सदस्यों की संख्या को देखते हुये श्री नायडू की जीत निश्चित मानी जा रही है। चुनाव में 50 प्रतिशत से अधिक वोट पाने वाला उम्मीदवार विजयी माना जाता है। दोनों सदनों में कुल सदस्य संख्या 790 है। जनता दल (यू ) और बीजू जनता दल ने राष्ट्रपति के चुनाव में राजग उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का समर्थन किया था लेकिन उपराष्ट्रपति चुनाव में दोनों दलों ने विपक्ष के उम्मीदवार को समर्थन देने की घोषणा की है। राष्ट्रपति चुनाव के बाद जनता दल (यू) बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और कांग्रेस के महागठबंधन से हालांकि अलग हो गया है लेकिन अपने वादे के अनुरूप उसने उपराष्ट्रपति चुनाव में श्री गांधी का ही समर्थन करने की बात कही है। वर्तमान उपराष्ट्रपति एवं राज्यसभा के सभापति हामिद अंसारी का कार्यकाल 10 अगस्त को पूरा हो रहा है। वह लगातार दो कार्यकाल से इस पद पर हैं। नये उपराष्ट्रपति 11 अगस्त को अपना कार्यभार संभालेंगे। राज्यसभा में सदस्य 10 अगस्त को श्री अंसारी को विदाई देंगे।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...