बिजली के बिना आधुनिक जीवन एवं विकास की कल्पना मुश्किल : रघुवर दास

without-power-no-development-raghuvar-das
गढ़वा 29 अगस्त, झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आधुनिक जीवन में विद्युत के महत्व को रेखांकित करते हुए आज कहा कि बिजली के बिना आधुनिक जीवन एवं विकास की कल्पना मुश्किल है। श्री दास ने गढ़वा जिले के रमना प्रखंड के भागोडीह गांव में झारखंड ऊर्जा संचरण निगम लिमिटेड एवं झारखण्ड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के तत्वाधान में 220/132 केवी एवं 132/33 केवी ग्रिड सब स्टेशन के संचरण लाइन का शिलान्यास एवं दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के अंतर्गत गढ़वा जिले के विद्युतीकरण कार्य का शुभारंभ किया। इस मौके पर आयोजित समरोह को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि 2015 में वर्तमान सरकार के गठन के बाद 1000 दिन में राज्य सरकार ने सात लाख घरों को बिजली से आच्छादित करने का कार्य किया है। इससे पूर्व राज्य में निवास करने वाले 68 लाख परिवारों में से सिर्फ 38 लाख घर तक बिजली पहुंची थी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने इसे चुनौती के रूप में लिया और 2018 तक राज्य के हर घर को बिजली से आच्छादित करने का लक्ष्यनिर्धारित किया है। मुख्यमंत्री ने कहा, “समय के साथ सोच बदलने की जरूरत है। सोच बदलने से ही परिवर्तन की बयार बहेगी। छोटे छोटे कार्य अपने देश, राज्य और समाज के उत्थान के लिए करें और नया भारत नया झारखण्ड के निर्माण में भागीदारी सुनिश्चित करें।” श्री दास ने कहा कि पलामू जिले में पांच सब स्टेशन और पूरे राज्य में 257 सब स्टेशन एवं 60 ग्रिड का निर्माण प्रक्रियाधीन है। पंडित दीन दयाल उपाध्याय योजना के तहत गढ़वा ही नहीं बल्कि राज्य के सभी गांव में बिजली पहुंचाना है। कृषि कार्य, घरों के दैनिक कार्य और उद्योगों के कार्य के लिए अलग से फीडर निर्माण की योजना पर कार्य हो रहा है। उन्होंने जोर देकर कहा कि 24 घंटा राज्य की जनता को बिजली प्राप्त हो, इस पर कार्य हो रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में बिजली की कोई कमी नहीं है, बस व्यवस्थित ढंग से कार्य करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सरकार बिजली के संचरण और उसके वितरण पर गहन मंथन कर कार्य कर रही है। इसके लिए व्यापक एवं प्रभावकारी योजना का निर्माण किया जा रहा ताकि 2019 तक झारखण्ड ‘पावर हब’ के रूप में विकसित हो सके। जनता को राहत देने के लिए इस क्षेत्र में सरकार लगातार कार्य कर रही है। श्री दास ने कहा कि पलामू और गढ़वा पानी के अभाव में हमेशा आकाल की चपेट में आ जाता है। पानी की जरूरत को राज्य सरकार ने समझा और जाना है इसलिए पलामू में पानी की समस्या ने निजात दिलाने के लिये 15 हजार करोड़ की योजना का शिलान्यास राज्य स्थापना दिवस से पहले होगा। 


मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य सेवाओं की चर्चा करते हुए कहा कि तीन माह के अंदर 300 अत्याधुनिक एम्बुलेंस जनता के लिये उपलब्ध होंगी, जो 15 मिनट के अंदर जरुरतमंद तक पहुंच जायेगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ राज्य की जनता को मिलेगा। गरीबी रेखा से उपर के लोग 500 रुपए देकर दो लाख और गरीबी रेखा से नीचे निवास करने वाले 80 रुपए में योजना का लाभ ले सकेंगे। श्री दास ने कहा कि राज्य में स्वास्थ्य के क्षेत्र में पहले की तुलना में बहुत तेजी से कार्य हुआ है लेकिन अभी भी स्वास्थ्य के मामले में बहुत कार्य करना शेष है। राज्य गठन के बाद अस्पतालों का निर्माण तो हुआ लेकिन इसमें कार्य करनेवाले मानव संसाधन पर किसी ने ध्यान नहीं दिया जिस कारण झारखंड स्वास्थ्य के क्षेत्र में पिछड़ गया। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में सरकार बहुत जल्द करीब तीन हजार नियुक्तियां करेंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि जातिवाद, सम्प्रदायवाद को दरकिनार कर राज्य की जनता में विकास की भूख जगी है। जनता विभाजन की राजनीति नहीं बल्कि विकास की राजनीति चाहती है। राज्य सरकार गरीबी उन्मूलन, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, बेहतर आधारभूत संरचना, बेहतर स्वास्थ्य प्रदान करने की दिशा में कार्य कर रही है। श्री दास ने युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि आर्थिक एवं सामाजिक व्यवस्था से क्षुब्ध हो कर राज्य के जो युवा वर्ग भटक गये है, वह मुख्यधारा में लौट आएं। उन्होंने राज्यवासियों से दुर्गापूजा, करमा एवं बकरीद पर्व को शांति से मनाने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा, “ हमें अपनी संस्कृति को दिखाने का अवसर पर्वों के माध्यम से मिलता है, इसकी गरिमा को कायम रखें और सौहार्दपूर्ण माहौल में पर्व मनायें।” इस मौके पर राज्य के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री रामचन्द्र चंद्रवंशी ने कहा कि गढ़वा के लिये यह गौरव की बात है कि गढ़वा स्थित सभी गांव में विद्युतीकरण हो रहा है। इनके तहत नई व्यवस्था लागू करना और पुरानी व्यवस्था को सुदृढ़ करने की योजना है। वहीं, पलामू सांसद विष्णु दयाल राम ने कहा कि राज्य सरकार ने पलामू प्रमंडल में 12 सब स्टेशन दिया है। जब ये क्रियाशील होंगे तो बिजली की समस्या से लोगों को निजात मिलेगी। राज्य के ऊर्जा सचिव नितिन मदन कुलकर्णी ने कहा कि गढ़वा में पहला ग्रिड सब स्टेशन का शिलान्यास हो रहा है। इसके तहत 635 गांव में विद्युतीकरण और 5 नये सब स्टेशन का निर्माण होगा। एक वर्ष के अंदर इसका सुखद परिणाम सामने आयेगा। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...