मंत्रिपरिषद् का विस्तार रविवार को, जद यू को मिलेगी जगह

cabinet-expansion-will-be-held-on-sunday-jd-u-will-get-bearth
नयी दिल्ली 01 सितंबर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रविवार को अपनी मंत्रिपरिषद का बहुप्रतीक्षित विस्तार एवं फेरबदल करेंगे जिसमें भारतीय जनता पार्टी के कुछ नये चेहरों के साथ-साथ जनता दल यू जैसे नये सहयोगी दलों को भी जगह मिलने की संभावना है। कुछ विभागों के खाली रहने और कुछ मंत्रियों के पास एक से ज्यादा विभाग होने के कारण फेरबदल लंबे समय से प्रतीक्षित है। मंत्रिपरिषद् में फेरबदल की अटकलें पिछले वर्ष के अंत से लगायी जाती रही हैं। मोदी मंत्रिपरिषद में यह तीसरा और 2019 के अाम चुनाव से पहले संभवत आखिरी फेरबदल होगा। फेरबदल से पहले कौशल विकास मंत्री राजीव प्रताप रूडी, मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री महेन्द्रनाथ पांडेय तथा स्वास्थ्य राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कल अपने पद से इस्तीफा दे दिया। इसके अलावा ऐसी रिपोर्ट है कि संजीव बालियान, गिरिराज सिंह, कलराज मिश्र, उमा भारती, चौधरी बीरेन्द्र सिंह और निर्मला सीतारमण ने त्यागपत्र देने की पेशकश की है। वित्त मंत्री अरूण जेटली ने भी कल संकेत दिया था कि वह लंबे समय तक रक्षा मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी नहीं संभालेंगे। ऐसी अटकलें हैं कि श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय भी इस्तीफा दे सकते हैं । उन्हें आज भा आधिकारिक सूत्रों के अनुसार नये मंत्रियों को सुबह दस बजे राष्ट्रपति भवन में शपथ दिलायी जायेगी। मंत्रिपरिषद् में जपा अध्यक्ष अमित शाह ने मिलने के लिए बुलाया था। लघु उद्योग मंत्री कलराज मिश्र को उनकी उम्र को देखते हुए मंत्रिमंडल से हटाकर राज्यपाल बनाये जाने की अटकलें हैं। कुछ मंत्रियों के पास काफी समय से एक से ज्यादा मंत्रालयों की जिम्मेदारी है। श्री मनोहर पर्रिकर को गत मार्च में गोवा का मुख्यमंत्री बनाये जाने के बाद से रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार वित्त मंत्री अरूण जेटली के पास है। श्री अनिल माधव दवे के निधन के बाद पर्यावरण मंत्रालय का कार्यभार विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डा हर्षवर्धन को दिया गया था। श्री वेंकैया नायडू के उप राष्ट्रपति बनने के बाद सूचना प्रसार मंत्रालय का प्रभार कपडा मंत्री स्मृति ईरानी तथा शहरी विकास मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के पास है। कुछ स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्रियों की पदोन्नति हाेने तथा कुछ के विभागों में परिवर्तन किये जाने की संभावना है। पेट्रोलियम राज्यमंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, ऊर्जा राज्य मंत्री पीयूष गोयल और संचार एवं रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा की पदोन्नति हो सकती है। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में हाल ही में शामिल हुए जनता दल (यू) के दो सांसदों को मंत्री बनाया जा सकता है। शिवसेना को भी एक और स्थान मिलने की संभावना है। अन्नाद्रमुक में छाये आंतरिक संकट का हल निकल सका तो उसे भी मंत्रिमंडल में स्थान मिल सकता है। गुजरात , हिमाचल प्रदेश तथा कर्नाटक में कुछ महीनों में विधान सभा चुनाव होने वाले हैं और ऐसा माना जा रहा है कि मंत्रिपरिषद विस्तार में इन राज्यों का प्रतिनिधित्व बढाया जा सकता है। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...