बांध टूटना सरकार की विफलता नहीं, अभियंताओं की गलती : सदानंद सिंह

dam-in-bhagalpur-engineers-fault-sadanand-singh
पटना 20 सितंबर, बिहार के भागलपुर में गंगा पंप नहर परियोजना के नव निर्मित बांध की दीवार टूटने को जहां महागठबंधन के बड़े घटक राष्ट्रीय जनता(राजद) ने नीतीश सरकार की विफलता बताया वहीं अन्य घटक कांग्रेस के विधानमंडल दल के नेता एवं पूर्व सिंचाई मंत्री सदानंद सिंह ने इसे केवल कुछ अभियंताओं की गलती कहा है। श्री सिंह ने आज यहां संवाददाताओं से कहा कि राज्य की वर्तमान सरकार ने वर्षों से लंबित पड़ी इस परियोजना को पूरा करने के लिए काफी बेहतर काम किया है। इस परियोजना के नवनिर्मित बांध की दीवार का टूटना सरकार की विफलता नहीं बल्कि यह इस परियोजना से जुड़े कुछ अभियंताओं की गलती के कारण हुआ है। कांग्रेस नेता ने कहा कि अभियंताओं को मुख्य नहर में पानी छोड़ने का ट्रायल इस परियोजना के उद्घाटन के कुछ घंटे पहले नहीं करना चाहिए था। उन्होंने कहा कि यह ट्रायल कम से कम दो महीने पहले किया जाना चाहिए था। यदि ऐसा होता तो कोई समस्या उत्पन्न होने पर उसके निराकरण के लिए उनके पास पर्याप्त समय होता। उन्होंने कहा कि यदि अभियंता चौकसी बरतते तो बांध की दीवार नहीं टूटती। श्री सिंह ने कहा कि 40 साल पुरानी इस परियोजना से राज्य के बहुत बड़े भूभाग को सिंचाई की सुविधा उपलब्ध होगी। इसके मद्देनजर उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इस परियोजना का काम शीघ्र पूरा करवाने का आग्रह किया था। इससे पूर्व राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने भागलपुर जिले में ट्रायल रन के दौरान पानी के दबाव से गंगा पंप नहर योजना के बांध की दीवार के अचानक टूट जाने के मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जल संसाधन मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह को दोषी ठहराते हुए उनसे इस्तीफा देने तथा मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की। वहीं, विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने आरोप लगाते हुये कहा कि मुख्यमंत्री श्री कुमार की अगुवायी में राज्य में भष्टाचार की भयावह गंगा बह रही है और इस भ्रष्टाचार रूपी गंगा का प्रवाह इतना तेज है कि बड़े-बड़े घोटाले तो हो ही रहे हैं अब नवनिर्मित बांध भी टूटने लगे हैं। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...