बिहार : बाढ़ पीड़ितों के बीच में राहत सामग्री वितरण करने में लगी हैं मंजू

  • इसे 2018 के देशव्यापी जनांदोलन से जोड़कर देखा जा रहा है

ekta-parishad-manju-distribute-flood-releif
पटना। सामाजिक कार्यकर्ता हैं मंजू डुंगडुंग। द्यर-द्वार झारखंड को छोड़ कर बिहार आ गयीं। महिलाओं को मान-सम्मान मिले,इसका ख्याल करती हैं। इसी के  कारण महिला संगठनों के बीच में पैठ है। महिलाओं के ऊपर अत्याचार पर बरसकर बोलती हैं और धरना- प्रदर्शन में शिरकत करती हैं। खैर, झारखंड की बेटी मंजू को पनाह और सम्मान देने का काम प्रदीप प्रियदर्शी ने किया है। अपने विख्यात प्रगति ग्रामीण विकास समिति में सेवा करने का मौका दिये। अभी बेली रोड में रहती हैं। मिस्सा पूजा करने दानापुर जाती हैं। बता दें कि प्रगति ग्रामीण समिति के कोषाध्यक्ष भी बना दिया। विभिन्न संस्थाओं की प्रहरी है जन संगठन एकता परिषद। इस नाते एकता परिषद बिहार के संचालन समिति की सदस्या हैं मंजू डुंगडुंग। मंजू समिति हो में रहे अथवा संगठन में आधी आबादी के बारे में वकालत करती कहती हैं। इसके कारण पुरूष जन पंगा लेना नहीं चाहते हैं। पटना नौबतपुर में कार्य करते समय महिला उत्पीड़न का मामला उजागर कर महिला हेल्प लाइन में लाकर महिलाओं को न्याय दिलवाती और द्यर उजड़ने से बचा पाती। महिलाओं के सशक्तिकरण के ही कारण 2007 में जनादेश व 2012 में जन सत्याग्रह में महिलाओं को पदयात्रा में शामिल करवाने में कामयाब हो सकी। अभी से ही 2018 देशव्यापी  जनांदोलन की तैयारी करने में जुट गयी हैं। उन्होंने 2008 में कोसी प्रलयकारी बाढ़ के दौरान महत्वपूर्ण कार्य की थीं। इस समय उत्तर बिहार में आयी 2017 की बाढ़ पीड़ितों के बीच राहत सामग्री वितरण करने में व्यस्त हैं। अभी मुजफ्फरपुर जिले के मुसहरी प्रखंड में बाढ़ पीड़ितों के बीच राहत सामग्री वितरित कर रही हैं।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...