बिहार के सभी जिलों में थमी बारिश, बाढ़ग्रस्त इलाकों में राहत एवं बचाव कार्य जारी

flood-relief-campaign-continue-in-bihar
पटना, बिहार की सभी नदियों के जलग्रहण क्षेत्रों में बारिश की रफ्तार लगभग थमने से राज्य के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों की स्थिति जहां सुधर रही है वहीं, राज्य सरकार की ओर से राहत कार्य जारी है। योजना एवं विकास विभाग की ओर से आज यहां जारी आंकड़ों (सुबह साढ़े आठ बजे तक) के अनुसार, प्रदेश के सभी 38 जिलों में पिछले 24 घंटों के दौरान बारिश की रफ्तार पर लगभग ब्रेक लग गया है। सीमावर्ती किशनगंज, पूर्वी चंपारण, पश्चिम चंपारण, सुपौल, मधेपुरा, पूर्णियां, अररिया में नहीं के बराबर वर्षा रिकार्ड की गयी है। इसके अलावा पटना, नालंदा, सीतामढ़ी, दरभंगा, शिवहर, मधुबनी समेत कई अन्य जिलों में शून्य बारिश दर्ज की गयी है। हालांकि आज दोपहर करीब 12 बजे आधे घंटे की बारिश ने राजधानीवासियों को उमस भरी गर्मी से निजात जरुर दिला दी। आपदा प्रबंधन विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक पिछले 48 घंटों के दौरान बाढ़ से किसी के मरने की सूचना नहीं है। पड़ोसी राष्ट्र नेपाल और प्रदेश में लगातार बारिश के कारण राज्य के 19 जिलों में आई भीषण बाढ़ में अबतक 514 लोगों की मौत हुई है। राज्य में बाढ़ की स्थिति में सुधार आने के साथ राहत कार्य अभी भी जारी है। राज्य में 57,109 लोग अभी भी 107 राहत शिविरों में रह रहे हैं। इस बीच केन्द्रीय जल आयोग के अनुसार, आज सुबह आठ बजे गंगा नदी का जलस्तर गांधीघाट में 87 एवं कहलगांव में 81 सेंटीमीटर नीचे रिकार्ड किया गया। अधवारा समूह कमतौल में 60 और महानंदा नदी का जलस्तर ढ़ेगराघाट में खतरे के निशान से 75 सेंटीमीटर नीचे था। आयोग ने इन नदियों के जलस्तर में अगले 24 घंटे में और गिरावट की संभावना व्यक्त की है। हालांकि गंगा, बूढ़ी गंडक, बागमती समेत कुछ अन्य नदियों का जलस्तर कई जगहों पर अब भी ऊपर बना हुआ है। वहीं, मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे के पूर्वानुमान में बताया कि बिहार के सभी नदियों के जलग्रहण क्षेत्र में हल्की वर्षा होने की संभावना है। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...