कार्ती चिंदरबम की एक करोड से अधिक की परिसंपत्ति और बैंक खाते सील

karti-chindrababam-s-assets-and-bank-account-worth-more-than-one-crore
नयी दिल्ली,15 सितंबर, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने टूजी स्पैक्ट्रम घोटाले से जुड़े एयरसेल मैक्सिस मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के पुत्र कार्ती चिदंबरम की एक करोड़ रुपए से अधिक की संपत्ति कुर्क की है और कई बैंक खाते सील कर दिए है। ईडी का आरोप है कि कार्ती अपनी ज्यादा से ज्यादा संपत्ति बेचने और कई बैंक खाते बंद करने की तैयारी कर रहा था। इसे देखते हुए उसके बैंक खातों को सील किया गया है। ईडी के अनुसार एयरसेल मैक्सिस कंपनी में विदेशी निवेश की अनुमति 2006 में श्री चिदंबरम के वित्त मंत्री रहते हुए दी गयी थी। सीबीआई की ओर से इस मामले में विशेष अदालत में दायर आरोप पत्र में कहा गया था कि मारिशस स्थित मैक्सिस की सहयोगी कंपनी ग्लोबल क्म्यूनिकेशन सर्विसेज होल्डिंग ने एयरसेल में करीब 5127 करोड़ रूपए के विदेशी निवेश के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड से अनुमति मांगी थी। बोर्ड की ओर से इसे अनुमति दे दी गयी थी लेकिन इसे मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति के पास अनुमोदन के लिए भेजा जाना था लेकिन श्री चिंदबरम ने ऐसा नहीं किया और अपने स्तर पर इसे मामले को निबटा दिया था। ईडी के अनुसार जांच में यह भी सामने आया है कि एयरसेल मामले में बोर्ड से अनुमति के लिए जिस राशि का ब्यौरा दिया गया था वह सही नहीं था। असलियत छुपाने के लिए बोर्ड के समक्ष गलत आंकड़े पेश किए गए थे। हालांकि श्री चिदंबरम ने इन आरोपों से इन्कार किया है। हाल में जारी एक बयान में उन्हाेंने कहा है कि विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड की ओर से एयरसेल मैक्सिस में निवेश की जो अनुमति दी गयी थी उसमें नियमों का पूरा पालन किया गया था किसी तरह की अनियमितता नहीं बरती गयी। उनका यहां तक कहना है कि उनके पुत्र को बेवजह इसमें फंसाया जा रहा है। अगर ईडी को कोई पूछताछ करनी है तो वह सीधे उनसे कर सकता है उनके बेटे को परेशान नहीं किया जाना चाहिए।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...