बिहार के सभी नगर निकायों में लगेगी एलईडी लाइट : सुशील कुमार मोदी

led-bulbs-in-all-municiple-corporation-sushil-modi
पटना 15 सितंबर, बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आज कहा कि बिहार के सभी नगर निकायों में परंपरागत बल्ब की जगह एलईडी लाइट लगाई जाएगी। श्री मोदी ने यहां बैठक के बाद कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रीय पथ प्रकाश कार्यक्रम का शुभारम्भ किया है, जिसके तहत पूरे देश में पारम्परिक स्ट्रीट लाईट की जगह एलईडी लाईट लगाई जाएगी। उन्होंने कहा कि इससे प्रतिवर्ष नौ अरब यूनिट बिजली की बचत की जा सकेगी तथा नगर निकायों को प्रतिवर्ष 5000 करोड़ रुपये की बचत होगी। इस कार्य के लिए एनर्जी एफिशियेंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) को कार्यान्वयन एजेंसी नामित किया गया है। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि नगर निकायों में एलईडी लाइट लगाने के लिए राज्य सरकार शीघ्र ही मंत्रिपरिषद की अनुमति से ईईएसएल के साथ करार करेगी। इसके बाद नगर निकायों द्वारा भी इस कम्पनी के साथ सेवाओं के लिए करार किया जायेगा। समझौते के प्रावधानों के अनुसार, ईईएसएल की ओर से खराब हुई एलईडी लाईट को 72 घंटे में ठीक करने की व्यवस्था होगी। ऐसा नहीं करने पर उसे प्रतिदिन 25 रुपये प्रति पोल की दर से जुर्माना देना होगा। 


श्री मोदी ने बताया कि ईईएसएल एलईडी लाईट लगाने का काम तीन चरणों में करेगी। उन्होंने बताया कि पहले चरण में पारंपरिक स्ट्रीट लाईट की जगह एलईडी लाईट लगाई जाएगी। दूसरे चरण में जहां पोल लगे हैं लेकिन स्ट्रीट लाईट नहीं है, वहां एलईडी लगाई जाएगी जबकि तीसरे चरण में जहां पोल नहीं है, वहां पोल के साथ एलईडी लगाई जाएगी। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय पथ प्रकाश कार्यक्रम के तहत सीसीएमएस से सही नियत्रंण एवं मीटरिंग की व्यवस्था होगी एवं बिजली की चोरी रोकी जा सकेगी। साथ ही एलईडी लाईट को चालू एवं बंद करने की व्यवस्था रिमोट से होगी, जिससे निश्चित समय पर लाइटें जलेंगी एवं बन्द होंगी। उन्होंने कहा कि ईईएसएल के बिहारशरीफ नगर निगम का सर्वे कराने के बाद पाया गया कि 2127 एलईडी लाईट लगाने पर प्रतिवर्ष एक करोड़ 31 लाख रुपये की बचत होगी। श्री मोदी ने इस योजना के कार्यान्वयन के लिए दिशा-निर्देश दिये। उनकी अध्यक्षता में आहूत इस बैठक में नगर विकास एवं आवास विभाग के मंत्री सुरेश शर्मा, पटना नगर निगम के आयुक्त अभिषेेक सिंह एवं सार्वजनिक क्षेत्र के की कंपनी ईईएसएल के प्रतिनिधि उपस्थित थे। इसके बाद उप मुख्यमंत्री 16 सितंबर को आयोजित होने वाली वस्तु एवं सेवा कर नेटवर्क (जीएसटीएन) बैठक में मंत्रियों के संयोजक के तौर पर भाग लेने के लिए बेंगलुरु रवाना हो गये। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...