मोदी मंत्रिमंडल का फेरबदल शीघ्र, एक दर्जन मंत्री बदलेंगे

modi-cabinet-to-reshuffle-soon-a-dozen-ministers-will-change
नयी दिल्ली 31 अगस्त, अगले एक दो दिनों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मंत्रिमंडल के पुनर्गठन की खबरों के बीच एक दर्जन से अधिक मंत्रियों के सरकार से हटने और उन्हें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के संगठन या अन्य काम में लगाये जाने की संभावना है। अब तक चार मंत्रियों के त्यागपत्र देने की रिपोर्टें हैं। सूत्रों के अनुसार इसी क्रम में केन्द्रीय कौशल विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) राजीव प्रताप रूड़ी, संजीव बालियान, डॉ. महेन्द्रनाथ पाण्डेय और फग्गन सिंह कुलस्ते ने त्यागपत्र दे दिया है जबकि केन्द्रीय मंत्री -गिरिराज सिंह, कलराज मिश्र, उमा भारती, चौधरी बीरेन्द्र सिंह और निर्मला सीतारमण ने प्रधानमंत्री को मंत्रिमंडल से त्यागपत्र देने की पेशकश की है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने भी बीते सप्ताह दो दुर्घटनाओं के बाद प्रधानमंत्री से मिलकर इस्तीफे की पेशकश की थी जिस पर प्रधानमंत्री ने उन्हें प्रतीक्षा करने को कहा है। वित्त, कारपोरेट मामलों एवं रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने भी आज संवाददाताओं से बातचीत में संकेत दिये थे कि वह रक्षा विभाग का दायित्व अस्थायी रूप से संभाले हुए हैं और कोई नया रक्षा मंत्री पद संभालेगा। सूत्रों ने बताया कि श्री रूड़ी, श्री बालियान, श्रीमती सीतारमण और श्री कुलस्ते काे भाजपा के संगठन में जगह दिये जाने की संभावना है। डॉ. महेन्द्र नाथ पाण्डेय को आज ही उत्तर प्रदेश भाजपा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है और समझा जाता है कि उन्होंने श्री मोदी से मिलकर उन्हें त्यागपत्र दे दिया है। कुछ अन्य मंत्रियों के भी कल सुबह इस्तीफा देने की संभावना है। कुछ स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्रियों की पदोन्नति हाेने अथवा विभागों में परिवर्तन होने की भी संभावना है। सूत्रों के अनुसार मंत्रिमंडल का पुनर्गठन शनिवार को होने की संभावना है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के राजधानी से बाहर जाने का कार्यक्रम है जिसे समायोजित किया जा सकता है। मंत्रिमंडल में जनता दल यूनाइटेड के दो सांसदों को मंत्री बनाया जा सकता है। जदयू हाल ही में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में शामिल हुआ है। शिवसेना को भी एक और स्थान मिलने की संभावना है। अन्नाद्रमुक में छाये संकट का हल निकल सका तो उसे भी मंत्रिमंडल में तीन स्थान मिल सकते हैं। श्री मोदी को भी तीन सितंबर को चीन और म्यांमार की यात्रा पर जाना है और उनके सात सितंबर को वापस लौटने का कार्यक्रम है। जबकि छह सितंबर से पितृपक्ष आरंभ हो जायेगा।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...