देश को पाकिस्तान की राह पर ले जाना चाहती है मोदी सरकार : येचुरी

modi-government-wants-to-take-the-country-on-pakistans-path
पटना 19 सितंबर, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी(माकपा)के महासचिव सीताराम येचुरी ने नरेंद्र मोदी सरकार की नीतियों की तीखी आलोचना करते हुये आज कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की देखरेख में संचालित यह सरकार देश को पाकिस्तान की राह पर ले जाना चाहती है। श्री येचुरी ने यहां पार्टी की ओर से आयोजित जन आक्रोश मार्च के दौरान अपने संबोधन में हैदराबाद के छात्र रोहित बेमूला की संस्थागत हत्या, जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) को राष्ट्रद्रोहियों का अड्डा बताने की साजिश, उना के दलितों पर अमानुषिक हमले, जुनैदा, पहलू खान, प्रगतिशील बुद्धिजीवियों दाभोलकर, पनसारे, कलबुर्गी की हत्या के बाद, हाल में वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेष की हुई हत्या की पुरजोर निन्दा करते हुये कहा कि आरएसएस की देखरेख में संचालित केंद्र की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार देश को पाकिस्तान की राह पर ले जाना चाहती है। उन्होंने कहा कि इस विचारधारा के नेताओं की राष्ट्रीय आंदोलन में कोई भूमिका नहीं रही और वे दो राष्ट्र के सिद्धांत की वकालत करते हुए अंग्रेजी साम्राज्यवाद की चाटुकारिता करते रहे। उन्होंने कहा कि अंततः वे तमाम साम्राज्यवाद विरोधी मूल्यों और देश के धर्मनिरपेक्ष सिद्धांतों को समाप्त करने में लगे हुए हैं। माकपा महासचिव ने कहा कि एक तरफ भाजपा सरकार की ओर से रोज राष्ट्रवाद की दुहाई दी जाती है वहीं दूसरी ओर अमेरिकी साम्राज्यवाद के साथ रणनीतिक समझौते हुए हैं, जो देश की सार्वभौमिकता के लिये खतरे की घंटी है। उन्होंने कहा, “अमेरिकी कंपनियों को रक्षा उपकरणों एवं युद्धक विमानों के निर्माण के ठेके दिये जा रहे हैं। इन नीतियों के चलते हमारे सभी पड़ोसी राष्ट्र एक-एक कर दूर हो रहे हैं और हम एशिया-प्रशांत क्षेत्र में अमेरिकी नीतियों के लठैत बन गये हैं। श्री येचुरी ने नरेंद्र मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों की तीखी आलोचना करते हुये कहा कि उनकी कमजोर नीतियों के कारण ही अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों के गिरावट आने के बावजूद देश में हर रोज पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसका असर दैनिक उपभोक्ता सामग्रियों की कीमत पर पड़ रहा है। तेल की कीमतों में वृद्धि से सिर्फ वाहन मालिक ही नहीं बल्कि हर तबका महंगाई की गिरफ्त में आ जाता है। माकपा महासचिव ने आर्थिक आंकड़ों के हवाले से बताया कि आज देश आर्थिक मंदी की दौर से गुजर रहा है। सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) पांच प्रतिशत के स्तर पर आ गया है। निर्यात में भारी गिरावट आई है, उत्पादन इकाइयां बन्द है और बेरोजगारी चरम पर पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान विदेशों से कालाधन वापस लाने, किसानों को फसल की लागत का डेढ़ गुणा देने तथा दो करोड़ नौजवानों को हर वर्ष रोजगार देने की बात जुमलाबाजी साबित हुई है। श्री येचुरी ने बिहार में हाल ही में हुए राजनैतिक परिवर्तन की चर्चा करते हुए कहा कि यह राज्य के मतदाताओं के साथ विश्वासघात है और इससे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के तथाकथित विकास की पोल खुल गई है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ ‘जीरो टालरेंस’ की बात करने वाले श्री कुमार ने ‘सृजन घोटाले’ में शामिल लोगों के खिलाफ मौन धारण कर लिया है।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...