इज्जत के लिए ‘इज्जत घर‘ जरूरी : नरेन्द्र मोदी

  • मोदी ने कहा, मेरे लिए ‘दल से बड़ा है देश‘ 

modi-in-varanasi
वाराणसी (सुरेश गांधी )। प्रधानमंत्री ने अपने संसदीय निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के दौरे के दूसरे और अंतिम दिन पशुधन आरोग्य मेले का शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने शहंशाहपुर गांव में एक स्वच्छता कार्यक्रम में हिस्सा लिया और गड्ढा खोदकर शौचालय की नींव रखी। मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि कालाधन हो, भ्रष्टाचार, बेईमानी हो, उसके खिलाफ मैंने बहुत बड़ी लड़ाई छेड़ी है। सामान्य ईमानदार आदमी को इसलिये मुश्किल होती है, क्योंकि बेईमान उन्हें लूटते हैं। ईमानदारी का यह अभियान आज एक उत्सव के रूप में पनप रहा है। जिस तरह छोटे व्यापारी भी जीएसटी से जुड़ रहे हैं, चीजों को आधार के साथ जोड़ा जा रहा है, जनता की पाई-पाई का खर्च जनता की भलाई पर होगा। हम बहुत तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। 

स्वच्छता अभियान और देश के हर व्यक्ति को घर देने के लिये अपनी प्रतिबद्धता दोहराते हुए मोदी ने कहा कि उन्होंने वर्ष 2022 को आजादी के 75 साल पूरे होने पर देश के हर शहरी और ग्रामीण गरीब को घर देने का बहुत बड़ा संकल्प लिया है। उन्हें मालूम है कि उन्होंने जो बीड़ा उठाया है, वह बहुत मुश्किल है। लेकिन अगर मुश्किल काम मोदी नहीं करेगा, तो कौन करेगा। जब देश के हर व्यक्ति के लिये घर बनाना होगा तो समझिये कि यूरोप के किसी छोटे देश जितना देश हमें अपने भारत में बसाना होगा। जब इतनी तादाद में घर बनेंगे तो असंख्य लोगों को रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि उन्हें खुशी है कि नवरात्र के पावन पर्व में उन्हें यहां शौचालय की की ईंट रखने का सौभाग्य मिला। स्वच्छता देश में गरीबों को बीमारी से मुक्त कराएगी, इसलिये यह गरीबों की भलाई करने का उनका अभियान है। मोदी ने कहा कि गांव में शौचालयों पर ‘इज्जतघर’ लिखा है। यह शब्द मुझे बहुत अच्छा लगा, क्योंकि जहां इज्जतघर है, वहां माताओं-बहनों और गांव की इज्जत है। आने वाले समय में जिसे भी इज्जत की चिंता है, वह इज्जतघर बनाएगा।

modi-in-varanasi
मोदी ने पशुधन आरोग्य मेले का जिक्र करते हुए कहा कि इस मेले में करीब 1700 पशुओं का इलाज विशेषज्ञ डॉक्टरों से कराया जा रहा है। उन्हें विश्वास है कि ऐसे ही मेले पूरे प्रदेश में लगाए जाएंगे, जिससे उन किसानों को सबसे ज्यादा फायदा होगा जो तंगहाली की वजह से अपने जानवरों का इलाज नहीं करा पाते हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विपक्षी दलों पर हमला बोलते हुए आज कहा कि उनके लिए दल से बड़ा देश है और बीजेपी वोट पाने के लिए राजनीति नहीं करती क्योंकि उसके लिए देश का विकास सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि दूसरे राजनीतिक दल उसी काम को करना पसंद करते हैं, जिसमें वोट की सम्भावना हो, लेकिन हम अलग संस्कारों में पले बढ़े हैं। हमारा चरित्र अलग है। हमारे लिये दल से बड़ा देश है। इस कारण हमारी प्राथमिकताएं वोट के हिसाब से नहीं होती हैं। आज पशुधन आरोग्य मेले में उन पशुओं की सेवा की जा रही है जिन्हें कभी वोट देने नहीं जाना है। पीएम ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी एवं ग्रामीण) के तहत आवास के लिए कुछ चुनिंदा लोगों को श्चयन प्रमाण पत्र सौंपा। पीएम ने कहा कि देश में विकास की गति तेज हुई है। 25 सालों से लटके मुद्दों पर सरकार ने कड़े फैसले लिए जिनका परिणाम पूरी दुनिया देख रही है। अब राजनीतिक कारणों से विकास परियोजनाओं नहीं लटकाई जातीं। पूर्वांचल और पूर्व भारत के विकास की जरूरत बताते हुए पीएम ने कहा कि पश्चिम की तरह इसे भी विकास की दौड़ में आगे आना होगा। 

दुर्गा मंदिर में पूजा-अर्चना
नवरात्र के मौके पर काशी पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी ने दुर्गाकुंड स्थित प्रसिद्ध दुर्गा मंदिर में 1008 अड़हुल के फूलों से मां दुर्गा का पूजन किया और 108 नारियल की बलि दी। करीब 15 मिनट तक गर्भगृह में दर्शन-पूजन के बाद पीएम ने मंदिर व पास में स्थित दुर्गाकुंड का अवलोकन किया। पीएम ने पुजारियों से मंदिर के इतिहास की जानकारी ली। बाहर निकलने पर हजारों लोगों ने हर-हर महादेव के उद्घोष से पीएम का स्वागत किया। पीएम नवरात्र का व्रत रखे हुए हैं। पीएम के साथ सीएम व राज्यपाल भी पूजन में शामिल हुए। महंत पं. जयप्रकाश दुबे ने पूजन कराया।

रामायण पर डाक टिकट
मानस मंदिर में दर्शन-पूजन के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रामायण पर डाक टिकट जारी किया। कहा, मेरे लिए सौभाग्य की बात है कि नवरात्र के मौके पर इस पावन धरती पर रामायण पर डाक टिकट के अनावरण का मौका मिला। प्रभु राम का जीवन सभी के लिए प्रेरणादायी है। महात्मा गांधी ने राम को अपना मंत्र बना लिया। डाक टिकट इतिहास का आईना होता है और विश्व में राजदूत की भूमिका अदा करता है।  

काशी से ‘स्वच्छ भारत निर्मल गंगा’ का संदेश
स्वच्छ काशी व सुंदर काशी से एक कदम आगे बढ़ते हुए पीएम नरेंद्र मोदी परियोजनाओं के बहाने शहर में स्वच्छ भारत व निर्मल गंगा का संदेश भी देते गए। सीवर से जुड़ी परियोजनाओं के बहाने वे गंगा व वरुणा के प्रति संवेदना का अहसास भी करा गए। यह प्रोजेक्ट बहुत जल्द धरातल पर उतरने वाले हैं, कुछ पर काम चल भी रहा। बहुत जल्द काशी स्वच्छता के फलक पर छाएगा। सबसे बड़ा प्रोजेक्ट रमना सीवरेज प्लांट है, जो करीब 153 करोड़ रुपये से जमीन पर उतरना है। इसका निर्माण कार्य अब यूपी जल निगम नवंबर के पहले सप्ताह से जरुर कर देगा। इसके बनकर तैयार होते ही सीवर समस्या से निजात मिलेगी। इस बड़ी परियोजना पर प्रधानमंत्री का ध्यान जाने के बाद अब गोइठहां के पास 120 एमएलडी क्षमता के एसटीपी व दीनापुर एसटीपी पर भी निगाह पैनी होगी। दोनों सीवर ट्रीटमेंट प्लांट के धरातल पर उतरने के बाद वर्ष 2035 तक सीवेज ट्रीटमेंट की व्यवस्था बेहतर हो जाएगी। वरुणा इलाके में अभी सीवर की कोई लाइन नहीं है, नालियों के सहारे दूषित पानी बह रहा है। इस इलाके में हर घर को सीवरलाइन से जोड़ने का काम शुरू हुआ है।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...