मोदी ने भोज की थाली छीनने के अपमान का बदला नीतीश से लिया : लालू

modi-nitish-cabinet-and-lalu
पटना 03 सितम्बर, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने केन्द्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार में जनता दल यूनाइटेड (जदयू) को तरजीह नहीं देकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भोज की थाली छीनने के अपमान का बदला लिया है । श्री यादव ने केन्द्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार में जद यू को तरजीह नहीं दिये जाने के संबंध में आज यहां पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि अब जदयू का कोई वजूद नहीं रह गया है । उसके नेता मंत्रिपद की शपथ लेने की तैयारी कर रहे थे , लेकिन भाजपा ने उन्हें इसके लिए न्योता ही नहीं दिया । उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नीतीश कुमार से उस अपमान का बदला लिया है जब श्री कुमार ने भोज के लिए भाजपा नेताओं को निमंत्रण देने के बाद अंतिम समय में उसे रद्द कर दिया था । राजद अध्यक्ष ने कहा कि श्री कुमार ने कल खुद कहा था कि उनसे भाजपा के लोगों ने मंत्रिमंडल विस्तार के संबंध में कोई बात नहीं की है । उन्होंने कहा , “कोई किस बात के लिए आपसे राय लेगा । नरेन्द्र मोदी आपको जानते नहीं हैं क्या । आपके चाल-चलन को मोदी और अमित शाह अच्छी तरह से जानते हैं । ” उन्होंने कहा कि भाजपा ने श्री कुमार का अच्छा इलाज किया है तथा आगे और होना बाकी है ।


श्री यादव ने कहा कि श्री कुमार ने घोषणा की थी कि उनकी पार्टी अब राजग का हिस्सा हो गयी है और इसके बाद से उन्हें उम्मीद थी कि उनकी पार्टी के दो-तीन नेता केंद्र में मंत्री बन जायेंगे । उन्होंने कहा कि मीडिया में यह खबर गलत चल रही है कि जद यू ने दो मंत्री के पद की मांग की थी जबकि भाजपा उसे एक ही पद देना चाहती थी । सच्चाई यह है कि भाजपा जदयू को एक भी मंत्री का पद देने के लिए तैयार नहीं है । राजद अध्यक्ष ने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी और श्री अमित शाह को बिहार भाजपा के लोगों ने रिपोर्ट दे दी थी कि श्री कुमार कांग्रेस को तोड़कर अपने दम पर बहुमत का जुगाड़ करने में लगे हैं । इसलिए उनपर विश्वास नहीं किया जाये । उन्होंने कहा कि श्री कुमार ने अपनी विश्वसनीयता खो दी है और अब उनका कहीं गुजर-बसर होने वाला नहीं है ।श्री यादव ने कहा कि श्री कुमार राजद और कांग्रेस के साथ मिलकर अच्छे से सरकार चला रहे थे और मनमानी करते थे । उन्हें लाख समझाया लेकिन नहीं माने और भाजपा के साथ चले गये । उन्होंने कहा कि उनका आने वाला दिन और भी बुरा होने वाला है । 

राजद अध्यक्ष ने आरा के सांसद राजकुमार सिंह को केन्द्रीय मंत्रिमंडल में जगह दिये जाने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि वह एक कुशल प्रशासक रहे हैं। उन्हें राज्य मंत्री नहीं बल्कि कैबिनेट मंत्री बनाना चाहिए था और रक्षा मंत्रालय की जिम्मेवारी दी जानी चाहिए थी। श्री यादव ने कहा कि केन्द्रीय मंत्री बनाये गये अश्विनी चौबे भागलपुर के बहुचर्चित सृजन घोटाले में संलिप्त हैं । इस घोटाले में बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह भी शामिल हैं। जल्द ही इन्हें अपना पद छोड़ना होगा । राजद अध्यक्ष ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतनराम मांझी को केन्द्रीय मंत्री नहीं बनाये जाने पर अफसोस जाहिर किया और कहा कि श्री राम विलास पासवान का पूरा परिवार मंत्री बन गया है , लेकिन श्री मांझी में ऐसी क्या कमी है जिसके कारण उन्हें बैठाकर रखा गया है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के उपेन्द्र कुशवाहा को केन्द्रीय राज्य मंत्री से प्रोन्नत्ति देकर कैबिनेट मंत्री बनाया जाना चाहिए था। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...