देश को वंशवाद और परिवाद से मुक्ति मिली : अमित शाह

nation-out-of-family-politics-amit-shah
रांची 15 सितंबर, भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आज कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पार्टी ने देश को वंशवाद और परिवारवाद से मुक्ति दिलाई है। श्री शाह ने यहां रांची आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स) ऑडिटोरियम में पंडित दीनदयाल उपाध्याय संपूर्ण वांड्.मय के लोकार्पण समारोह को संबोधित करते कहा कि इससे पहले आजादी के 65 साल में किसी प्रधानमंत्री ने यह नहीं सोचा कि हर घर में शौचालय हो। लेकिन, श्री मोदी ने सोचा और सरकार घर-घर में शौचालय बनाकर दिखाएगी। उन्होंने कुछ विरोधी राजनीतिक दलों में परिवारवाद पर कटाक्ष करते हुए कहा कि यह दुःखद है कि कुछ पार्टियों में व्यक्तित्व की परछाई हावी रही, जिससे विचारधारा और जनहित के मुद्दे गौण होते चले गये। लेकिन, आज यह कहा जा सकता है कि देश में सिर्फ भाजपा और कम्युनिस्ट पार्टी में ही आंतरिक लोकतंत्र मौजूद है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि बहुत सारी पार्टियों में परिवारवाद के कारण यह तय कर पाना मुश्किल हो जाता है कि उनके दल का अध्यक्ष कौन बनेगा। झारखंड में भी एक राजनीतिक दल झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) है। क्या लोग यह बता सकते हैं कि गुरूजी (शिबू सोरेन) के बाद उनकी पार्टी की कमान किसके पास होगी। उन्होंने कहा कि छोटी-छोटी पार्टियों की बात तो छोड़ दें यदि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बाद उनकी पार्टी में अध्यक्ष कौन होगा, यह सबकों पता होगा। लेकिन, कार्यकर्त्ता यह बता कर दिखाएं कि अमित शाह के बाद भाजपा का अध्यक्ष कौन बनेगा। उन्होंने कहा कि यह भाजपा में ही संभव है कि एक चाय बेचने वाला व्यक्ति देश का नेतृत्व करें। 


श्री शाह ने कहा कि यदि किसी पार्टी को जांचना हो तो यह जरूर देख जाना चाहिए कि वहां लाेकतांत्रिक प्रक्रियाओं का पालन होता है या नहीं। भाजपा ऐसी पार्टी है, जहां वंशवाद नहीं है। उन्होंने कहा कि यह उनके लिए सौभाग्य की बात है कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने जिस संगठन की आधारशिला रखी आज वह उसके अध्यक्ष हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा की स्थापना सत्ता पाने के लिए नहीं बल्कि देश का विकास करने के लिए हुई थी। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस की स्थापना एक अंग्रेज ने की थी। पार्टी कोई निश्चित विचारधारा के आधार अथवा मूल विचारधारा पर नहीं बनी थी इसलिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने देश को आजादी मिलने के बाद कहा था कि कांग्रेस पार्टी को तोड़कर अलग-अलग विचारों के आधार पर पार्टी बननी चाहिए। श्री शाह ने कहा कि वह आंख मूंद कर कह सकते है कि जिन राज्यों में भाजपा की सरकार है वहां पहले की सरकारों से अधिक काम कर रही है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में अभी अच्छा काम हो रहा है। गुजरात, मध्य प्रदेश के अलावा सभी भाजपा शासित राज्यों ने विकास करके दिखाया है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार झारखंड को ढेर सारी योजनाएं दे रही है और मुख्यमंत्री रघुवर दास भी दिन रात इस पिछड़े राज्य को आगे बढ़ाने में प्रयासरत हैं। भाजपा नेता ने कहा कि झारखंड के विकास की गति आज पूरी दुनिया देख रही है। भाजपा ने राज्य में स्थिरता और पारदर्शिता देने का काम किया है। एक निर्णायक सरकार बनाने का काम किया है। इस मौके पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने घोषणा की कि झारखंड के स्कूल-कॉलेजों में पं. दीनदयाल उपाध्याय के विचारों को पढ़ाया जाएगा। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...