जयपुर के चार थाना क्षेत्रों के कर्फ्यू में आज कोई ढील नहीं

no-relaxation-today-in-curfew-in-four-police-stations-area-of-jaipur
जयपुर 09 सितम्बर, राजस्थान की राजधानी जयपुर के रामगंज थाना क्षेत्र में हिंसा के बाद शहर के चार थाना क्षेत्रों में लगे कर्फ्यू में आज रात तक कोई ढील नहीं दी गई। हालांकि स्थिति नियंत्रण में बताई जा रही हैं। गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया के अनुसार कर्फ्यूग्रस्त क्षेत्रों में स्थिति नियंत्रण में हैं और स्थिति सामान्य करने के लिए सीएलजी सदस्य एवं जनप्रतिनिधि बातचीत करने में लगे हैं। उन्होंने बताया कि इस घटना में एक व्यक्ति की मौत तथा पथराव से बारह लोग घायल हुए हैं। उन्होंने कहा कि सबसे पहले तो घटना के समय मारे गये व्यक्ति का अंतिम संस्कार होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हर बात को पुलिस पर नहीं डाला जाना चाहिए। पुलिस तो कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए अपना काम कर रही है। उन्होंने कहा कि चार थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लग रहा है और बातचीत चल रही है तथा हालात शीघ्र सामान्य होने की उम्मीद हैं। पुलिस उपायुक्त (उत्तर) सत्येन्द्र सिंह ने पत्रकारों को बताया कि इस पूरे मामले की जांच उच्चतम न्यायालय के निर्देशानुसार एसडीएम को सौंपी गई है। उन्होंने बताया कि देर रात कानून व्यवस्था संबंधी समीक्षा की जायेगी और उसके बाद स्थिति के अनुसार कर्फ्यू में ढील देने के बारे में कोई फैसला लिया जायेगा। उन्होंने बताया कि पुलिसकर्मी द्वारा धक्का-मुक्की करने के मामले की भी जांच की जायेगी और इसके लिए सीसीटीवी फुटेज का सहारा लिया जायेगा। श्री सिंह ने बताया कि तोड़फोड़ एवं आगजनी करने वालों के खिलाफ जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि हालांकि अभी इस मामले में किसी को हिरासत में नहीं लिया गया है। क्षेत्र में शांति बहाल करने के लिए पुलिस अधिकारियों और रामगंज इलाके की शांति समिति के सदस्यों के बीच बैठक हुई और इसके बाद इलाके में शांति व्यवस्था बनाए रखने लिए लोगों से अपील की गई। पुलिस आयुक्त संजय अग्रवाल ने कहा कि अगर किसी के साथ अन्याय हुआ है तो पूरे मामले की जांच कराई जाएगी, लेकिन कानून व्यवस्था बिगाड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जयपुर संभागीय आयुक्त राजेश्वर सिंह ने एक आदेश जारी कर इन चार थाना क्षेत्रों में रविवार करीब बारह बजे तक मोबाइल, इंटरनेट, इंटरनेट सर्विसेज पर रोक लगा दी गई हैं। शहर के रामगंज, गलतागेट, माणक चौक एवं सुभाष चौक थाना क्षेत्रों में लगे कर्फ्यू के दौरान ड्रोन कैमरों की मदद से निगरानी की जा रही है तथा इस दौरान कहीं से भी अप्रिय समाचार नहीं मिले हैं। हालांकि परिजनों के सहमत नहीं होने से मारे गये व्यक्ति के शव का आज पोस्टमार्टम नहीं हो सका। उधर कई सामाजिक एवं जनसंगठनों ने मारे गए व्यक्ति के मामले में आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार करने, रामगंज थाने के स्टाफ को बर्खास्त करने तथा पूरे मामले की जांच न्यायिक आयोग से कराने की मांग की है वहीं ग्रामीण विकास मंत्री राजेन्द्र राठौड़ , भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तथा अन्य जनप्रतिनिधियों ने लोगों से शांति बनाये रखने की अपील की हैं। उल्लेखनीय है कि कल रात एक मामूली मामले को लेकर हुई हिंसा में कई वाहनों को आग लगा दी गई तथा इस दौरान भीड़ को तितर बितर करने के लिए की गई पुलिस फायरिंग में एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि पथराव में पुलिसकर्मियों सहित बारह लोग घायल हो गये।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...