बिहार के बौद्ध गया में बनेगा विश्वस्तरीय कन्वेंशन सेंटर

university-convention-center-gaya
पटना 01 अगस्त, बिहार की राजधानी पटना और राजगीर में बने विश्वस्तरीय कन्वेशन सेंटर की तर्ज पर भगवान बुद्ध की ज्ञानस्थली बौद्ध गया में भी एक अरब रुपये की लागत से नये कन्वेंशन सेंटर का निर्माण किया जायेगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद कक्ष में श्रम संसाधन विभाग एवं सहकारिता विभाग की उच्चस्तरीय समीक्षात्मक बैठक की। वहीं, मुख्यमंत्री ने कल देर शाम पर्यटन, कला, संस्कृति एवं युवा विभाग तथा पिछड़ा एवं अति पिछड़ा कल्याण विभाग की उच्चस्तरीय समीक्षात्मक बैठक की थी। समीक्षा बैठक में संबंधित विभाग के सभी बिन्दुओं पर विस्तृत चर्चा की गयी। समीक्षा बैठक की समाप्ति पर राज्य के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने कल हुये पर्यटन तथा कला, संस्कृति एवं युवा विभाग की समीक्षा के संबंध में बताया कि विभाग के विभिन्न कार्यों की समीक्षा की गयी। उन्होंने कहा कि गया के बोधगया में एक सौ करोड़ रूपये की लागत से एक बड़ा कन्वेंशन सेंटर बनाया जायेगा। इस सेंटर के बनने के बाद बोधगया में बड़े कार्यक्रमों को करने में सहुलियत होगी। श्री सिंह ने बताया कि राज्य में सभी सर्किटों पर विस्तृत चर्चा की गयी। कांवरिया सर्किट, गांधी सर्किट, जैन सर्किट, बुद्ध सर्किट के विकास के लिए किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की गयी। उन्होंने बताया कि राजगीर में पर्यटकों के लिये वेणुवन तथा उससे सटे सर्किट हाउस तथा पुराना सैनिक स्कूल क्षेत्र में एक सुन्दर लैंडस्केप बनाया जायेगा। 


पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग की समीक्षा बैठक के संदर्भ में श्री सिंह ने बताया कि प्रवेशीकोत्तर छात्रवृति योजना के तहत पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग के प्रवेशीकोत्तर पाठ्यक्रम में अध्ययनरत छात्र/छात्राओं को वितीय वर्ष 2017-18 से छात्रवृति की राशि का विभाग द्वारा वितीय वर्ष 2016-17 के निर्धारित दर पर भुगतान करने की प्रक्रिया प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया है। छात्रों को दी जाने वाली छात्रवृति जारी रहेगी। श्री सिंह ने बताया कि बिहार राज्य पिछड़ा वर्ग वित एवं विकास निगम के पुनर्जीवन की कार्रवाई करने एवं राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग वित एवं विकास निगम के साथ समन्वय स्थापित कर बिहार राज्य के सम्पूर्ण देनदारी के भुगतान के लिए आवश्यक कार्रवाई करने का निर्णय लिया गया है। बिहार राज्य पिछड़ा वर्ग वित एवं विकास निगम के माध्यम से बिहार कौशल विकास मिशन द्वारा निर्धारित दर एवं चयनित एजेंसी के माध्यम से पहली बार पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग के लाभार्थियों के लिये मुख्यमंत्री पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग कौशल विकास योजना प्रारंभ की जायेगी बैठक में उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, संबंधित विभागों के मंत्री के अलावा सभी संबंधित विभागों के प्रधान सचिव, सचिव समेत संबंधित विभागों के अन्य वरीय अधिकारी उपस्थित थे। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...