विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 25 सितम्बर

पीएचई के लैब तीन स्थलों पर खुलेगे, कलेक्टर द्वारा लंबित आवेदनों की समीक्षा

vidisha news
लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के द्वारा जिले के विकासखण्ड मुख्यालय सिरोंज, बासौदा एवं ग्यारसपुर में लैब खोले जाएंगे। कि जानकारी लंबित आवेदनों की समीक्षा बैठक में विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री अजय दिवाकर ने दी। कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने तीन विकासखण्डो में आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराने के निर्देश देते हुए रिक्त भवनों में लैब का संचालन कार्य शीघ्र किया जाएं। श्री सुचारी ने बताया कि लोक तंत्र सेनानियों के नवीन परिचय पत्र जिले मेें भी जारी किए जाने है अतः समस्त एसडीएम अपने-अपने कार्य क्षेत्रों की ततसंबंधी सूची समुचित जानकारियों सहित शीघ्र उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। कलेक्टर श्री सुचारी ने बासौदा, कुरवाई एवं लटेरी निकायो के अधिकारियों को शोकाॅज नोटिस देने के निर्देश दिए है। ज्ञातव्य हो कि पूर्व उल्लेखित तीनों निकायों के अधिकारियों द्वारा निकाय क्षेत्र में क्रियान्वित हितग्राहीमूलक योजनाओं के क्रियान्वयन में आशातीत लक्ष्यों की पूर्ति अभी तक नही की गई है। कलेक्टर श्री सुचारी ने कहा कि अब मुख्यमंत्री हेल्प लाइन, मुख्यमंत्री समाधान आन लाइन एवं जनसुनवाई के तमाम आवेदन एक ही पोर्टल पर प्रदर्शित होंगे। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे शासन की प्राथमिकता वाले उक्त कार्यक्रम के तहत प्राप्त होने वाले आवेदनों का निराकरण समय सीमा में करते हुए निराकरण की जानकारी आन लाइन पोर्टल पर दर्ज करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि ऐसे आवेदन जो न्यायालयों में विचाराधीन है उन सभी आवेदनों को फोर्स क्लोज करने की कार्यवाही की जाए। संबंधित आवेदक को इस बात से अवगत कराया जाए कि मुख्यमंत्री हेल्प लाइन एवं जनसुनवाई कार्यक्रम में न्यायालयीन प्रकरणों पर विचार नही किया जाता है।  कलेक्टर श्री सुचारी ने कहा कि डिस्ट्रिक्ट प्लान तैयार किया जा रहा है अतः जिन विभागों के द्वारा अब तक कार्य योजना के प्रस्ताव जमा नही किए गए है वे एक दिवस के भीतर जमा करना सुनिश्चित करें। जिला योजना अधिकारी ने बताया कि जिले की कार्ययोजना सभी विभागों के प्राप्त प्रस्तावों के आधार पर प्रस्तुत की जाएगी। राज्य योजना आयोग द्वारा समीक्षा के उपरांत विभागों को बजट आवंटन की कार्यवाही की जाएगी। कलेक्टर श्री सुचारी ने एकीकृत बाल विकास सेवाएं के जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देश दिए है कि आंगनबाडी केन्द्रों में आने वाले बच्चों को दूध का वितरण किया जाना है। दूध वितरण की कार्यवाही हो रही है कि नहीं। कि क्रास मानिटरिंग की जाए और वाट्स-अप पर फोटो अपलोड हर रोज कराएं जाएं। टीएल बैठक में आधार पंजीयन, जाति प्रमाण पत्र, सार्वजनिक वितरण प्रणाली की अद्यतन प्रगति की भी समीक्षा की गई। इसके अलावा बैठक में मुख्यमंत्री हेल्प लाइन, मानव अधिकार आयोग, पीजी सेल, समाधान आॅन लाइन और जन शिकायत निवारण के प्राप्त आवेदनों के साथ-साथ पेपर कंटिग पर अब तक संबंधित विभागों के अधिकारियों द्वारा की गई कार्यवाहियों की बिन्दुवार जानकारियां प्रस्तुत की गई। कलेक्टेªट के सभाकक्ष में हुई इस बैठक में जिला पंचायत सीईओ श्री दीपक आर्य, अपर कलेक्टर श्री एचपी वर्मा, एसडीएम श्री रविशंकर राय, डिप्टी कलेक्टर श्री एके मांझी समेत विभिन्न विभागों के जिलाधिकारी मौजूद थे।


समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के प्रस्ताव प्रेषित

कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने बताया कि समर्थन मूल्य पर धान खरीदी कार्य के लिए जिले के दो केन्द्र क्रमशः विपणन सहकारी संस्था विदिशा एवं विपणन सहकारी संस्था शमशाबाद केन्द्र खामखेडा में बनाएं जाने की अनुमति प्राप्ति हेतु प्रस्ताव आयुक्त खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण भोपाल को प्रेषित किया गया है। कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने समर्थन मूल्य पर धान खरीदी कार्य सुव्यवस्थित रूप से सम्पन्न हो इसके लिए जिला स्तरीय समिति का गठन किया गया है। समिति में कलेक्टर स्वंय अध्यक्ष होंगे उसके अलावा नौ सदस्यों को शामिल किया गया है। जिसमें जिला आपूर्ति अधिकारी, लीड बैंक अधिकारी, कृषि विभाग के उप संचालक, उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं, जिला सूचना विज्ञान अधिकारी, महाप्रबंधक जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक, जिला विपणन अधिकारी (माफेड) , जिला प्रबंधक वेयर हाउसिंग एण्ड लाॅजिस्टिक्स कार्पोरेशन एवं जिला प्रबंधक मध्यप्रदेश स्टेट सिविल सप्लाईज कार्पोरेशन को शामिल किया गया है। शासन द्वारा धान उपार्जन कार्यो के संबंध में जारी नीति अनुसार जिले में धान उपार्जन का कार्य 15 नवम्बर से 15 जनवरी 2018 तक किया जाएगा। कृषकोें से उपार्जन कार्य सप्ताह में पांच दिन सोमवार से शुक्रवार तक किया जाएगा। शनिवार और रविवार को स्कंद का परिवहन, साफ्टवेयर में प्रविष्टियां एवं गुणवत्ता विवाद का निराकरण एवं प्रदाय केन्द्र गोदामों पर अपग्रेडेशन का कार्य किया जाएगा। 

किसान पंजीयन का सत्यापन
धान उपार्जन हेतु किसानों का पंजीयन ई-उपार्जन साफ्टवेयर में होना चाहिए। विगत खरीफ विपणन मौसम में उपार्जन हेतु पंजीयन किए गए किसानों की जानकारी का सत्यापन राजस्व विभाग के अमले द्वारा किया जाएगा और सत्यापित जानकारी कम्प्यूटर में दर्ज की जाएगी। इस वर्ष ऐसे सभी किसानों के पुनः नवीन पंजीयन की आवश्यकता नही है। कदापि यह किसान जब केन्द्र पर उपज विक्रय हेतु आएं तब इनके वेलेड एकाउंट नम्बर तथा मोबाइल नम्बर का सत्यापन कार्य किया जाएगा। ऐेसे किसान जिनके द्वारा विगत वर्ष पंजीयन नही कराया गया है और वे समर्थन मूल्य पर उपर्ज विक्रय करने के इच्छुक है तो उन्ही किसानों का नवीन पंजीयन ई-उपार्जन साफ्टवेयर एवं पंजीयन उपरांत सत्यापन राजस्व विभाग द्वारा कराया जाएगा। किसानों को एसएमएस कर सूचना दी जाएगी। उपार्जन केन्द्रों पर टोल कांटे, एफएक्यू गुणवत्ता का निर्धारण, भुगतान एवं पर्यवेक्षण माॅनिटरिंग के संबंध में दिशा निर्देश जारी किए गए है।

वेतन भुगतान 29 तक

जिला कोषालय अधिकारी श्री अश्विनी सिंह परिहार ने बताया कि जिले में पदस्थ अधिकारी, कर्मचारियों को आगामी माह का वेतन भुगतान 29 सितम्बर तक  करने के निर्देश शासन द्वारा जारी किए गए है। उन्होंने सभी आहरण संवितरण अधिकारियों से कहा है कि पेबिल 27 तक जनरेट कर टेªजरी में जमा कराना सुनिश्चित करें ताकि समय पर कार्यालयीन स्टाॅफ को सितम्बर पेड-अक्टूबर माह का वेतन भुगतान किया जा सकें। जिला कोषालय अधिकारी श्री परिहार ने बताया कि आगामी त्यौहारो और 30 सितम्बर से दो अक्टूबर तक लगातार अवकाश होने के कारण उक्त कार्यवाही क्रियान्वित की गई है। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...