राष्ट्र निर्माण में योगदान दें युवा : रघुवर

youth-contribute-nation-raghiuvar-das
धनबाद 05 सितम्बर, झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने युवाओं को देश की शक्ति बताया और उनसे राष्ट्र निर्माण में सार्थक योगदान देने की अपील की। श्री दास ने आज उच्च, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग की आरे से बीआईटी सिंदरी में सीमेन्स द्वारा स्थापित सेंटर ऑफ एक्सीलेंस एवं पांच पॉलिटेक्निक संस्थानों में तकनीकी कौशल विकास संस्थान का उद्घाटन तथा विभिन्न तकनीकी शिक्षण संस्थानों के शिलान्यास एवं उद्घाटन समारोह में कहा कि युवा देश की शक्ति हैं और राष्ट्र निर्माण में उनके सार्थक योगदान की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि झारखंड के विकास के लिए इससे बडी पूंजी कुछ और नहीं हो सकती। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना है कि युवा शक्ति के दम पर ही भारत विश्व पटल पर अपना परचम लहराएगा। इसे सबलता प्रदान करने के लिये कौशल विकास विभाग को धरातल पर उतारा गया क्योंकि समय बदल रहा है और अगर समय के साथ हम नहीं बदले तो पीछे रह जायेंगे। उन्होंने कहा कि झारखंड समृद्ध राज्य है और यहां संभावना, सामर्थ्य एवं संयोग भी है लेकिन राज्य गरीबी और बेरोजगारी का दंश झेल रहा है। सरकार ने राज्य में मौजूद बेरोजगारी एवं गरीबी उन्मूलन का संकल्प लिया है। श्री दास ने कहा कि राज्य के शिक्षण संस्थानों का गौरव पुनः प्राप्त हो इसका प्रयास सरकार कर रही है। शिक्षकों को इसमें बहुत बड़ी भूमिका निभानी है। उन्होंने कहा कि राज्य के बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, शिक्षक और सुदृढ़ आधारभूत संरचना प्रदान करने की दिशा में आज बीआईटी सिंदरी में शिक्षा के साथ ही बच्चों के हुनर को निखारने के लिए सेंटर ऑफ एक्ससिलेंस की स्थापना की गई। 


श्री दास ने कहा कि बीआईटी सिंदरी में सेंटर ऑफ एक्सिलेंस स्थापित करने की योजना मुंबई रोडशो के दौरान ही बनी थी जो आज फलीभूत हो गई। उन्होंने कहा कि इस वर्ष 02 अक्टूबर तक बोकारो, जमशेदपुर, जगन्नाथपुर, गढ़वा, चाईबासा और लातेहार सहित राज्य के 12 जिलों में बीआईटी सिंदरी की तर्ज पर सेंटर ऑफ एक्सिलेंस का शुभारंभ होगा। उन्होंने कहा कि राज्य के बच्चों के कौशल विकास के लिए सिस्को, ओरेकल, एचपी और टाटा स्टील के साथ करार हुआ है। इस तरह हर वर्ष 14 हजार बच्चों को हुनरमंद बनाने की योजना पर राज्य सरकार काम कर रही है। सिंगापुर के प्रशिक्षकों के जरिये 108 ट्रेड पर प्रशिक्षण देने का कार्य जल्द शुरू होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में हो रहे औद्योगिक निवेश को ध्यान में रखकर युवाओं को हुनरमंद बनाने की योजना है। युवाओं को उद्योग की प्रकृति के अनुरूप प्रशिक्षण दिया जायेगा ताकि उद्योगों को कुशल मानव संसाधन और युवाओं को उनके गृह राज्य में ही रोजगार मिल सके। उन्होंने कहा कि सरकार ने 1000 दिन में कौशल विकास,गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं उच्च शिक्षा के लिये अलग से शिक्षा सचिव को नियुक्त किया है तथा रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय में पढ़ाई प्रारम्भ हुई है। कई निजी संस्थानों का शुभारंभ भी जल्द होगा। रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय में पुलिस डिप्लोमा से संबंधित पाठ्यक्रम जल्द शुरू किये जाएंगे। श्री दास ने कहा कि बीआईटी सिंदरी समेत राज्य के सभी युवा गुरू को सम्मान देने के लिए संकल्प लें और ऐसी शिक्षा ग्रहण करें ताकि देश के निर्माण में उनकी भागीदारी सुनिश्चित हो। यही बात हर युवा को महान बना सकती है और शिक्षक भी ईमानदारी से बच्चों को शिक्षा प्रदान करें। 

इस अवसर पर राज्य की शिक्षा मंत्री डॉ. नीरा यादव ने कहा कि कौशल विकास के लिए सेंटर ऑफ एक्सिलेंस की स्थापना छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी। मुख्यमंत्री के निर्देश पर इसका शुभारंभ तय समय के अंदर हुआ है। बच्चों के अंदर छुपी प्रतिभा को निखारने और उन्हें एक मंच प्रदान करने में यह पहल कारगर सिद्ध होगा। मुख्यमंत्री श्री दास ने सिंदरी बीआईटी सिंदरी के आईटी भवन में सीमेंस सेन्टर ऑफ एक्सिलेंस के लैब एक तथा इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग भवन के लैब दो के उद्घाटन के साथ ही दुमका में राजकीय महिला पॉलिटेक्निक, मधुपुर, गढ़वा, बहरागोड़ा एवं चांडिल में पॉलिटेक्निक, जगन्नाथपुर में राजकीय पॉलिटेक्निक, सिमडेगा एवं निरसा में राजकीय पॉलिटेक्निक का ऑनलाइन उद्घाटन तथा बीआइटी सिंदरी में 300 बेड का छात्रावास, गेस्ट हाउस, कम्युनिटी सेंटर, प्लेसमेंट सेंटर और 300 बेड वाले महिला छात्रावास का शिलान्यास किया। समारोह को श्री दास और डॉ. यादव के अलावा सिंदरी के विधायक फूलचंद मंडल, अपर मुख्य सचिव एवं विकास आयुक्त अमित खरे, उच्च तकनीकी शिक्षा विभाग के सचिव अजय कुमार सिंह एवं सीमेंस के महाप्रबंधक सुमन बोस ने भी संबोधित किया। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...