बिहार : दलितों की बर्बर हत्या के खिलाफ माले का कल बिहपुर बंद.

  • 30 नवम्बर को भागलपुर बंद, माले जांच टीम ने किया घटनास्थल का दौरा.

bihpur-band-announce-by-cpi-ml
पटना 26 नवम्बर 2017, भाकपा-माले राज्य कुणाल ने भागलपुर जिले के बिहपुर के झंडापुर में अज्ञात अपराधियों द्वारा दलितों की बर्बर हत्या की  कड़ी भत्र्सना की है. उन्होंने कहा कि पूरे राज्य और खासकर भागलपुर में आए दिन हत्या व बलात्कार की घटनायें घट रही हैं, लेकिन नीतीश सरकार बैठकर तमाशा देख रही है. इस बर्बर हत्याकांड के खिलाफ भाकपा-माले ने कल 27 नवम्बर को बिहपुर और 30 नवम्बर को भागलपुर बंद का आह्वान किया है. कल ही भागलपुर शहर में ऐपवा का प्रदर्शन भी होगा. इस बर्बर घटना की जानकारी मिलते ही भागलपुर के माले जिला सचिव काॅ. विन्देश्वरी मंडल के नेतृत्व में एक जांच टीम ने घटना स्थल का दौरा किया. जांच टीम में उनके अलावा माले के बिहपुर प्रखंड सचिव सुधीर यादव, सोलठी पासवान, कांग्रेस यादव, बैजनाथ सिंह, ऐपवा की नेता रेणु देवी आदि शामिल थे. जांच टीम ने कहा कि जिस तरीके से हत्या की गयी है, वह बेहद दर्दनाक है. झंडापुर बस्ती में लगभग 10 घर रविदास जाति के हैं. अभी गांव में आतंक का माहौल ऐसा है कि कोई कुछ भी बताने को तैयार नहीं. आज 26 नवम्बर की सुबह गायत्री दास के परिवार के चार सदस्य में तीन गायत्री दास, उनकी पत्नी मीना देवी और 12 वर्ष का पुत्र छोटू कुमार मृत पाए गए. सभी मृतकों का सर बुरी तरह कुचला हुआ था और फर्श पर खून की धारा थी. शरीर पर कई जगह गहरे घाव के निशान थे. गायत्री दास की 17 वर्षीय बेटी बिलकुल नंगी अवसथा में बेहोश पायी गयी. उनके शरीर पर भी कई जगह चोटें थीं. गायत्री दास व उनके पुत्र का गुप्तांग काट दिया गया था. महिलाओं के गुप्तांगों पर भी हमले के निशान थे. लड़की की स्थिति को देखकर यह आशंका की जा रही है कि उससे बलात्कार की कोशिश की गयी और विरोध करने पर परिवार के सभी सदस्यों पर बर्बरता से हमला किया गया. लड़की को पीएमसीएच रेफर कर दिया गया है, जहां वह जीवन-मौत से जूझ रही है.

जांच टीम ने कहा कि सबसे पहले लड़की के इलाज व सुरक्षा की गारंटी बिहार सरकार को अविलंब करनी चाहिए. क्योंकि होश में आने पर वह हमलावरों का नाम बता सकती है, और इस कारण उसे मारने की कोशिश हो सकती है. भागलपुर सदर अस्पताल में माले नेता मुकेश मुक्त, बसर अली और सुरेश सिंह ने घायल लड़की को जाकर देखा. माले ने इस बर्बर हत्याकांड के खिलाफ कल 27 नवम्बर को बिहपुर बंद और 30 नवम्बर को भागलपुर बंद का आह्वान किया है. कल ही शहर में इन सवालों पर ऐपवा का प्रदर्शन होगा.
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...