बिहार : जीवा के कार्यकर्ताओं द्वारा स्वच्छता अभियान जारी

swachhata-abhiyan-mokama
मोकामा(पटना). आदर्श मध्य विघालय है मरांची दक्षिणी  ग्राम पंचायत में. हजारों की संख्या में बच्चे-बच्चियां पढ़ते हैं.19 गुरूजी हैं,  इनमें से 4 गुरूजी बीएलओ हैं. ये चारों गुरूजी फील्ड में ही रहते हैं. यहां गुरूजी के अनुसार पाठ्य पुस्तक का वितरण नहीं किया गया है.जो ओल्डस बुक थी कुछ विघार्थियों के बीच वितरित है, अन्य इंतजार कर रहे हैं. कायदे से अप्रैल में ही पाठ्य पुस्तक वितरित हो जानी थी.8 माह के बाद भी वितरित नहीं हुई. इस अभाव वाले स्कूल में ग्लोबल इंटरफेथ वॉश अलायंस जीवा के कार्यकर्ता सुबोध कुमार साव ने  स्वच्छता अभियान के बारे में विशेष जानकारी दी.विभिन्न कक्षाओं की 100 से अधिक लड़कियां उपस्थित थीं। जीवा के कार्यकर्ता ने जानना चाहा कि कितने लोग हैं जो शौचक्रिया के पूर्व ही हाथ धोते हैं? इस सवाल के उलझन में 25 प्रतिशत उलझ गये. यह बताया गया कि अव्वल सवाल को सुनो,समझो तब जाकर बोलो.ऐसा करने से सवालों के उलझन से बचा जा सकता है.तब सही और सटीक जवाब दे पायेंगे.हाथ साबुन,सर्फ या राख से साफ करेंगे.मिट्टी से हाथ करने पर जीवाणु को साथ ही रखते है.खुले में शौच नहीं करें. ऐसा करने से मक्खियों का राज आता है.पैखाना के साथ मक्खियां साथ में अंडे,बैक्ट्रियां और वायरस लाकर खाना पर बैठकर भोजन दुर्षित कर देता है.उसे खाकर बीमार पड़ते हैं और कृमि को पेट में जमा कर लेते हैं. अधिक कृमि होने पर मुख,मलद्वार और नाक के द्वारा बाहर निकलता है. मुख,मलद्वार और नाक से नहीं निकलने पर कृमि खतरनाक बनकर नस के द्वारा सिर पर चढ़ जाता है.इसके बाद मौत की संभावना बढ़ जाती है. बता दें कि उतराखंड में स्थित ऋषिकेश से स्वच्छता क्रांति रथ से स्वच्छ भारत मिशन व लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान को बेहतर ढंग से क्रियान्वित हो और लोगों का व्यवहार में परिवर्तन लाने के लिए वॉश ऑन  व्हील अभियान संचालित है. इस तरह के अभियान को हिंदू,मुस्लिम,सिख,ईसाई सहित अन्य धर्मों के धर्मगुरूओं का आर्शीवाद प्राप्त है. स्वामी चिदानंद सरस्वती का मार्गदर्शन मिल रहा है.  
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...