युवा दिवस पर 25 हजार युवक-युवतियों को रोजगार से जोड़ा जायेगा : रघुवर

25-thousand-will-get-job-on-youth-day-raghuvar-das
रांची 09 दिसम्बर, झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि सरकार राज्य से गरीबी और बेरोजगारी मिटाने के लिए सरकारी और निजी क्षेत्रों में नौकरी के अवसर देने के साथ ही रोजगार और स्वरोजगार के नये अवसर तैयार कर रही है। श्री दास ने राजधानी रांची के अरबन हाट के निकट स्थित वेंचर स्कील डेवलपमेंट सेंटर और कटहल मोड़ स्थित सी0एम0सी0 मिडकॉन संस्थान के परिभ्रमण के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि स्वामी विवेकानंद की जयंती के दिन ‘युवा दिवस’ पर 25 हजार युवक-युवतियों को रोजगार से जोड़ा जायेगा। इसके बाद हर साल एक-एक लाख युवाओं को रोजगार से जोड़ा जायेगा। उन्होंने कहा कि सरकार राज्य से गरीबी और बेरोजगारी समाप्त करने के लिए लगातार काम कर रही है। इसी दिशा में ‘सीखो और कमाओ’ की शुरुआत की गयी है। इसमें कौशल विकास केंद्रों के माध्यम से लोगों को हुनरमंद बनाकर रोजगार एवं स्वरोजगार से जोड़ा जा रहा है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) के परिवारों को समाज की मुख्य धारा में लाने के लिए 32 हजार गांवों में उद्यमी सखी मंडल के माध्यम से विलेज को-ऑर्डिनेटर बनाये जायेंगे। गांव के बीपीएल परिवार के सदस्यों का कौशल विकास कर उन्हें रोजगार से जोड़ा जायेगा। इससे उन्हें आमदनी होगी और उनका परिवार भी खुशहाली के साथ जीवनयापन कर सकेगा। सरकार राज्य में बीपीएल परिवारों की वास्तविक संख्या का पता कर रही है। 

श्री दास ने कहा कि अब जनता जागरूक हो चुकी है। विभिन्न प्रमंडलों में प्री बजट मीटिंग के दौरान काफी अच्छे सुझाव आये हैं। बजट को लोगों की आकांक्षा के अनुरूप तैयार किया जायेगा। सरकार जनभागीदारी के साथ काम कर रही है। इससे योजनाओं को धरातल पर उतारने में तेजी आयी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि रांची को विकसित राजधानी का रूप देने के लिए सरकार कृतसंकल्प है। यातायात व्यवस्था को सुचारू करने के लिए काफी कदम उठाये गये हैं। शहर में उच्च क्षमता वाले सीसीटीवी लगाये जा रहे हैं। दुर्घटना में कमी लाने के लिए भी कई कदम उठाये गये हैं। हाइवे पर दिन में भी वाहनों कों लाइट जलाकर चलने का निर्देश दिया गया है। इससे सड़क दुर्घटना में कमी आयेगी। श्री दास ने राज्य में बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने का संकल्प दुहराते हुए कहा कि हाइवे पर हर 50 किलोमीटर में 108 एंबुलेंस रहेगी। लोगों को समय पर इलाज हो जाये तो बहुमूल्य जीवन बचाया जा सकता है। उन्होंने कहा,“ मैं जल्द ही निजी नर्सिंग होम के संचालकों के साथ बैठक करूंगा। इसमें दुर्घटना में शिकार लोगों के लाये जाने पर जल्द से जल्द इलाज शुरू करने का निर्देश दिया जायेगा।” इस मौके पर राज्य की मुख्य सचिव राजबाला वर्मा, उच्च शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग के सचिव अजय कुमार सिंह भी उपस्थित थे।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...