सामरिक दृष्टिकोण से चीन बड़ी चुनौतियां पेश कर रहा : रविशंकर

china-challange-for-india-ravishankar-prasad
डेहरी आॅन सोन 17 दिसंबर, केंद्रीय कानून एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आज कहा कि देश को जहां सामरिक दृष्टिकोण से चीन बड़ी चुनौतियां पेश कर रहा है वहीं हमारी एकता, अखंडता एवं अर्थव्यवस्था पर पाकिस्तान लगातार चोट कर रहा है। श्री प्रसाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के चार दिवसीय प्रदेश स्तरीय प्रशिक्षण वर्ग के समापन पर यहां कहा कि देश बेरोजगारी, अशिक्षा, कुपोषण, भ्रूण हत्या और गरीबी जैसी आतंरिक चुनौतियों से जहां जूझ रहा है वहीं बाहरी चुनौतियां भी कम नहीं है। बाहरी चुनौतियां पड़ोसी देश खासकर चीन और पाकिस्तान से मिल रही है। उन्होंने कहा कि सामरिक दृष्टिकोण से चीन बड़ी चुनौतियां पेश कर रहा है वहीं हमारी एकता अखंडता एवं अर्थव्यवस्था पर पाकिस्तान लगातार चोट कर रहा है। केंद्रीय मंत्री ने कहा, “पड़ोस के देशों से अवैध घुसपैठिये भी हमारी राजनीतिक एवं आर्थिक स्थिरता के लिए बड़ा खतरा बने हुये हैं। यूरोप में जिस तरह से शरणार्थियों के नाम पर तेजी से घुसपैठ हो रहा है उससे हम सबक लेते हुए संभले हुए हैं।” उन्होंने कहा कि केंद्र में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार के सामने तीन वर्षों के कार्यकाल में सबसे ज्यादा पूंजी निवेश हुआ है। 

श्री प्रसाद ने कहा कि देश की विकास दर अगले वर्ष आठ प्रतिशत तक हो जाएगी। उन्होंने आर्थिक क्षेत्र में नोटबंदी को बड़ी उपलब्धि बताई और कहा कि दो लाख 24 हजार कालेधन को सफेद करने वाली कंपनियों को बंद करा दिया गया है। उन्होंने तीन तलाक विधेयक को नारी न्याय, नारी गरिमा और नारी सम्मान से जुड़ा मामला बताते हुए कहा कि भाजपा उन पीड़ित महिलाओं के साथ है। इस मौके पर पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं सांसद गोपाल नारायण सिंह ने अर्थ आयाम विषय पर अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि सुख धर्म मूलक है तो धर्म अर्थ मूलक। अर्थ के बिना धर्म नहीं टिकता। उन्होंने कहा कि धर्म से अभिप्राय समाज की उस धारणा से है जो लौकिक उन्नति में सहायक हो, जिसके कारण मानव के कर्मों का निर्धारण होकर वह कर्तव्य की संज्ञा प्राप्त कर ले। उन्होंने पंडित दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानवतावाद की चर्चा करते हुये कहा कि आज राष्ट्रीय और मानवीय दृष्टिकोण से आवश्यक हो गया है कि भारतीय संस्कृति के तत्वों पर विचार किया जाये। श्री सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय दृष्टि से अपनी संस्कृति का विचार करना ही होगा क्योंकि वह हमारी अपनी प्रकृति है। उन्होंने कहा कि स्वराज तभी साकार और सार्थक होगा, जब वह अपनी संस्कृति की अभिव्यक्ति का साधन बन सकेगा। नेशनल कोआपरेटिव डेवलपमेंट कारपोरेशन के सदस्य धनंजय कुमार सिंह ने सहकारिता पर अपना विचार रखते हुए कहा कि बिहार महत्वपूर्ण प्रदेश है जहां इस आंदोलन को और विकसित करने की आवश्यकता है । भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी ने चुनाव प्रबंधन पर प्रशिक्षण वर्ग में अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि बूथ स्तर तक केंद्रित योजनाएं बनाई चाहिए। उन्होंने कहा कि बूथ स्तर पर पार्टी सशक्त हो इसके लिए कार्यकर्ताओं को तैयार रहना होगा। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...