बिहार : सवालों के घेरे में मॉडल शौचालय हरनौत प्रखंड में छी छी

poor-toilet-in-harnaut-bihar
सूधी पाठक आप स्वयं निर्णय करें. इस समय जो  स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय निर्माण करवाया जा रहा है. क्या वह बेहतर ढंग से बनाया जा रहा है? क्या वह गुणवर्ता पूर्ण है? अब वह जांच का विषय बन गया है. सर्वविदित है कि केंद्र व राज्य सरकार चाहती है कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत बेहतर से बेहतर ढंग से घर-घर में शौचालय निर्माण कराया जाये.इसमें सरकार प्रयासरत है और कृतसंकल्प भी है.इसके आलोक में सरकार ने लाभान्वितों को 12 हजार रू.प्रोत्साहन के रूप  राशि दे रही है. बहरहाल नालंदा जिले के डीएम पी.त्यागराजन  और हरनौत प्रखंड के बीडीओ देवेंद्र कुमार मिलकर नालंदा को ओडीपी जिला घोषित करने की फिराक में है.चर्चा है कि हरनौत प्रखंड के पांच पंचायत को 15 दिसम्बर को ओडीएफ कर दिया जाएगा.अगर ऐसा नहीं होगा तो साल के अंतिम दिन 31  दिसम्बर को ओडीएफ घोषित कर दिया जाएगा. इस बीच  बेहतर से बेहतर परिणाम़ देने के सिलसिले में नालंदा जिले के हरनौत प्रखंड में मॉडल शौचालय निर्माण करवाया है. मॉडल शौचालय बनाने पीछे उद्देश्य यह है कि इस प्रखंड में आने और जाने वाले लोगों को मॉडल शौचालय के बारे में जानकारी देना. लोग मॉडल शौचालय का ब्लू प्रिंट लेकर यहां से गांव जाये और वहां पर जाकर घर-घर शौचालय निर्मीण करें. यहां बता दें कि सीएम नीतीश कुमार का सात निश्चय का दम दिखता है. हर घर में शौचालय और हर घर नल का जल असर खास है.   2 अक्टूबर 2018 को भारत को स्वच्छ भारत बना देना है. प्रिंट व इलेक्ट्रोनिक्स मीडिया के माध्यम से खुले में शौचक्रिया न किया जाये. जमकर खूब प्रचार-प्रसार किया जा रहा है. इसमें एनजीओ ग्लोबल इंटरफेथ वाश अलायंस जीवा द्वारा जीवा के  वाश ऑन व्हील्स अभियान की बदौसत नवम्बर माह  में मोकामा प्रखंड के 15 पंचायतों में जन जागरण पैदा किया गया. अब दिसम्बर माह  से सीएम नीतीश कुमार के गृह क्षेत्र नालंदा जिले के हरनौत प्रखंड की  17 पंचायतों में  स्वच्छता अभियान जारी है.     ऐसा ही अभियान जनवरी 2018 में राजगीर में अभियान संचालित होगा है. हरनौत प्रखंड में मॉडल शौचालय बनाया गया है. खुले में शौचक्रिया न करने की जानकारी मिलने से लोग खुले में शौचक्रिया नहीं कर रहे हैं. बतौर प्रदर्शित मॉडल शौचालय में शौच कर दिये.वहां पर नल भी चालू नहीं है. इसके कारण गंदगी को नीचे ढकेला नहीं जा सका.गंदगी को देखा जा सकता है. इस तरह मॉडल शौचालय  ही सवालों के घेरे में आ गया है.  
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...