राज्य सभा में पहला भाषण नहीं दे पाए सचिन तेंदुलकर

schin-can-not-give-first-speech-in-parliament
नई दिल्ली, 21 दिसम्बर, क्रिकेट के भगवान का दर्जा पा चुके सचिन तेंदुलकर गुरुवार को भारी हंगामे के बीच राज्यसभा में अपना पहला भाषण देने से वंचित रह गए। कांग्रेस पार्टी के सांसदों ने सचिन के भाषण देने से पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर दिए बयान और 2जी घोटाले के फैसले को लेकर हंगामा कर दिया। इस बीच कुछ देर बाद राज्यसभा सभापति एम. वेंकैया नायडू ने सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी। नायडू ने सदन की कार्यवाही स्थगित करने से पहले इसके सीधे प्रसारण के आदेश भी दिए। स्थगन के बाद दो बजे सदन की कार्यवाही दोबारा शुरू होते ही सचिन अपना पहला भाषण देने के लिए खड़े हुए, लेकिन तभी कांग्रेस के सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया। सचिन खेलने के अधिकार और भारत में खेलों के भविष्य पर बोलने के लिए खड़े हुए थे। नायडू ने कांग्रेस के सदस्यों से कहा कि वह उच्च सदन में सचिन को बोलने दें क्योंकि यह उनका पहला भाषणा होगा, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। नायडू ने कहा, "एक सम्मानीय सदस्य, जिसे भारतरत्न का सम्मान मिला है वो खेल जैसे अहम विषय पर बोलना चाहते हैं, उन्हें बोलने दिया जाए। सभी का ध्यान सचिन पर होना चाहिए।" इस बीच अभिनेत्री जया बच्चन ने सचिन के कान में कुछ कहा। जया ने बाद में बताया कि उन्होंने सचिन से सब कुछ शांत हो जाने तक बैठ जाने को कहा। नायडू के कहने के बाद भी कांग्रेस सांसद हंगामा करते रहे। नायडू ने कहा, "यह आपको शोभा नहीं देता, आप कुछ नहीं कर सके आपके अंदर खेल भावना नहीं है।" इसके बाद कांग्रेस के एक सांसद ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा कि वह किसी भी कीमत पर अपना प्रदर्शन नहीं रोक सकते थे क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

कांग्रेस पर हमला बोलते हुए भारतीय जनता पार्टी के सांसद अनंत कुमार ने कहा कि कांग्रेस ने लोक सभा में बहस में हिस्सा लेने के बाद राज्य सभा में सचिन को बोलने से रोका। उन्होंने कहा, "कांग्रेस ने सिर्फ अपनी दिशा नहीं खोई है बल्कि अपना आधार भी खो दिया है।" उन्होंने कहा, "लोकसभा में चार दिन तक प्रदर्शन करने के बाद वह बहस में हिस्सा ले रहे थे, लेकिन राज्य सभा में उन्होंने भारत रत्न सचिन को बोलने नहीं दिया।" राहुल गांधी के हालिया कांग्रेस का अध्यक्ष बनने की बात को संदर्भ में रखते हुए उन्होंने कहा, "सवाल यह है कि क्या यह नए अध्यक्ष के आने के बाद हुआ है।" अनंत कुमार ने कहा कि सचिन जो मुद्दा उठा रहे थे वो राजनीति से अलग था और इस कदम से देश में सभी खेल प्रेमियों को दुख पहुंचा है। उन्होंने कहा, "वह महान बल्लेबाज हैं जिन्होंने काफी लंबे समय तक खेल खेला है, जिन्होंने सभी स्पिन और गुगली खेली है। मुझे लगता है कि वह कांग्रेस पार्टी के इस व्यवहार से काफी निराश और हैरान होंगे। मैं कांग्रेस के इस व्यवहार की कड़ी निंदा करता हूं।" कांग्रेस द्वारा मोदी के मनमोहन सिंह पर दिए गए बयान पर सफाई मांगने की बात पर अनंत ने कहा, "यह कोई मुद्दा ही नहीं है। अगर पाकिस्तान के राजदूत वहां हैं और पूर्व प्रधानमंत्री उनसे मिल रहे हैं तो उन्हें इस बात की जानकारी सरकार को देनी चाहिए।" मोदी ने गुजरात चुनावों के दौरान कहा था कि कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के घर पर हुए रात्रिभोज में मनमोहन सिंह ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त से गुजरात चुनावों पर चर्चा की थी।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...