मधुबनी : विकास का काम नहीं छोड़नेवाला : नीतीश कुमार

nitish-samiksha-yatra-madhubani
मधुबनी, 15 दिसंबर, मुख्यमंत्री  नीतीश कुमार शुक्रवार को पूर्व निर्धारित ‘विकास कार्यो की समीक्षा यात्रा‘ कार्यक्रम के तहत हैलीकाॅप्टर से मधुबनी जिले के बेनीपट्टी प्रखंड के  धकजरी हाट स्थित हेलीपैड पर पहुंचे। हैलीकाॅप्टर से उतरने के पश्चात पुलिस महानिरीक्षक, दरभंगा, पुलिस उपमहानिरीक्षक, दरभंगा, जिला पदाधिकारी, मधुबनी, पुलिस अधीक्षक, मधुबनी द्वारा बुके देकर मुख्यमंत्री का स्वागत किया गया। उसके बाद सलामी गारद द्वारा मुख्यमंत्री को सलामी दी गई। फिर मुख्यमंत्री हेलीपैड स्थल के समीप उपस्थित कार्यकत्ताओं एवं अन्य वरिष्ठ नेताओं एवं कार्यकर्ताओं से मिले। कार्यकत्ताओं द्वारा मुख्यमंत्री का स्वागत किया गया। मुख्यमंत्री हेलीपैड से सड़क मार्ग द्वारा धकजरी पंचायत के वार्ड नं0 12 स्थित केवाईपी सेन्टर पहुंचे। जहां उनके द्वारा केवाईपी केन्द्र का उद्घाटन किया गया। पुनः मुख्यमंत्री वार्ड नं0 10 स्थित पैक्स गोदाम में धान अधिप्राप्ति का उद्घाटन किये। वहां पैक्स अध्यक्ष एवं किसानों से धान अधिप्राप्ति एवं अन्य समस्याओं को जानने की कोशिश की गयी। स्थानीय लोगों द्वारा धान अधिप्राप्ति किसी प्रकार की समस्या से इंकार किया गया। उसके बाद जिला पदाधिकारी द्वारा पैदल वार्ड नं0 11 स्थित श्री सुनील राम के घर के बगल स्थित गली में पक्की गली-नाली, हर घर नल-जल, शौचालय आदि विकास कार्यो का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के क्रम में वार्ड नं0 11 स्थित श्री राम खेलावन राम के घर के बगल स्थित गली से आंगनबाड़ी केन्द्र सं0 93 पर पहुंचे। वहां मुख्यमंत्री द्वारा आंगनबाड़ी केन्द्र का निरीक्षण किया गया एवं केन्द्र में पढ़ रहे बच्चों से मिले। आंगनबाड़ी केन्द्र के समीप स्थित वर्मी कम्पोस्ट ईकाई का भी उनके द्वारा अवलोकन किया गया। मुख्यमंत्री द्वारा वार्ड नं0 10 एवं 11 में पक्की गली-नाली एवं सोखता यूनिट का अवलोकन किया गया। उनके द्वारा जीविका द्वारा लगाये गये प्रदर्शनी एवं मिथिला पेंटिग का भी अवलोकन किया गया। 

मुख्यमंत्री वार्डो के विकास कार्यो के निरीक्षण के उपरांत +2 जगदीश विद्यालय, धकजरी स्थित सभा स्थल पर पहुंचे। वहां  मुख्यमंत्री एवं अन्य गणमान्य लोगों को जिला पदाधिकारी द्वारा गुलदस्ता से स्वागत किया गया।  मुख्यमंत्री का अन्य गणमान्य व्यक्तियों द्वारा मखाने की माला एवं पुष्प माला से स्वागत किया गया। उसके बाद जगदीश उच्च विद्यालय की वर्ग 9 वीं की छात्रा अंजलि कुमारी द्वारा दहेज एवं बाल विवाह उन्मूलन पर भाषण दिया गया। तदुपरांत मुख्यमंत्री ने चेक/पर्चा वितरण तथा योजनाओं के उद्घाटन/शिलान्यास  किया । मुख्यमंत्री द्वारा समग्र गव्य विकास योजना के तहत 10 लाभुकों के बीच कुल 18,61,125 रू0 के चेक का वितरण किया। मुख्यमंत्री द्वारा अनुसूचित जाति/अनु0जनजाति अत्याचार अधिनियम के तहत कुल 60 व्यक्तियों के बीच 44,63,250 रू0 के चेक का वितरण किया गया। मुख्यमंत्री द्वारा रिमोट के माध्यम से कुल 40 योजनाओं का उद्घाटन एवं 136 योजना का शिलान्यास किया गया। जिसकी कुल राषि 22493.909 लाख रू0 है। जिला पदाधिकारी, मधुबनी,  उपाध्यक्ष, राज्य योजना आयोग, विधायक,बेनीपट्टी,  मंत्री, पीएचईडी द्वारा लोगों को संबोधित किया गया।

nitish-samiksha-yatra-madhubani
मुख्यमंत्री ने कहा कि मधुबनी के धकजरी से उनका भावनात्मक लगाव है। उन्हें यहां आने पर एैसा लगता है, जैसे वे अपने गांव आये है। उन्होने कहा कि निश्चय यात्रा के दौरान कई विकास योजनाओं की घोषणा वे किये थे। जिसकी समीक्षा के लिए वे निकले है। उन्होने कहा कि विकास योजनाओं की समीक्षा वे अवश्य करते है। यह मेरा तरीका है, और आदत भी। समीक्षा के दौरान लोगों से मुलाकात होती है, और कई प्रकार की बातें दिमाग में आती है। जिसपर वे अमल करते है। उनके मन में विचार आया कि लोगों के घरों में नल से पानी की सुविधा होनी चाहिए। ताकि लोग गांव और शहर में अंतर नहीं समझे। जिसके लिए वे हर घर नल का जल की योजना की शुरूआत किये। उन्होंने कहा कि 4 साल के अंदर बिहार के हर गांव, हर वार्ड, हर घर को नल का जल की सुविधा से कवर कर देंगे। उन्होने कहा कि लोगों को खासकर महिलाओं को शौचालय के अभाव के कारण हो रही परेशानी से छुटकारा दिलाने के लिए उन्होने लोहिया स्वच्छता अभियान के तहत शौचालय निर्माण कार्य की शुरूआत किये। उन्होने कहा कि 90 प्रतिषत बिमारियां शौचालय और पीने की पानी की सुविधा से खत्म हो जायेगा। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि वे विकास का काम नहीं छोड़नेवाले है। बाढ़ से जो सड़क और पुल-पुलियां टूटी है, उसे और भी मजबूत और चौड़ीकरण बनायेंगे। अगले साल तक बिहार के हर घर को बिजली की सुविधा दी जायेगी। उनके द्वारा निरंतर सड़क, पुल-पुलिया, स्वास्थ्य केन्द्र, कृषि से संबंधित योजनाओं आदि का विकास किया जायेगा। उन्होने कहा कि हमारा सपना हर थाल में बिहारी व्यंजन को पहुंचाना है। जिसमें मखाना के जरिये हर हिन्दुस्तानी के घरों तक पहुंच सकते है। उन्होने कहा कि उनका मकसद विकास के साथ समाज सुधार है। महिलाओं की मांग पर उन्होंने पूरे बिहार में शराबबंदी को लागू किया। लोग शराब पीकर घर में मारपीट और गाली-गलौज करते थे। अब लोग शराब में खर्च होनेवाले पैसे से बच्चों की पढ़ाई,कपड़ा,अच्छे भोजन पर आदि पर खर्च कर रहे है। उन्होने लोगों से अपील किया  कि आप और प्रषासन मिलकर गलत कार्य में लिप्त लोगों को पकड़वाने का काम करें। उन्होने कहा कि शीघ्र सभी बिजली के खंभे पर बोर्ड पर फोन नंबर लिखा रहेगा। गलत कार्य में लिप्त लोगों की सूचना फोन के माध्यम से दें, आपका नाम प्रषासन गुप्त रखेगा और उस पर कार्रवाई होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर महीन तीन सोमवार को लोक संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। जिसमें एक महिला द्वारा दहेज प्रथा का मामला उठाया गया। उन्होने काफी सोच-विचार कर दहेज प्रथा एवं बाल-विवाह उन्मूलन करने की निर्णय लिया। उन्होने कहा कि राज्य से छात्रों को बाहर नहीं जाना पड़े, इसके लिए वे पाॅलिटेक्निक काॅलेज, आईटीआई,एएनएम स्कूल, तथा पांच नये मेडिकल काॅलेज खोल रहे है। मेडिकल काॅलेज में नर्सिंग काॅलेज भी खोले जायेगे। उन्होने छात्रों से स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड से 4 लाख तक का लोन लेने को कहा। तथा उन्होने कहा कि यदि आप वापस करने में सक्षम नहीं होते है, तो सरकार वहन करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शराबबंदी की तरह ही बाल-विवाह एव ंदहेज उन्मूलन से भी लोगो को लाभ होगा। कम उम्र में लड़कियों की शादी होने से कई प्रकार की समस्याएं उत्पन्न होती है। वे हर सूरतेहाल में दहेज प्रथा एवं बाल-विवाह से अवष्य छुटकारा दिलाने का काम करेंगे। उन्होने लोगों से अपील किये कि जिस परिवार में दहेज का लेन-देन कर शादी हो, उसमें नहीं जाये। वह परिवार अलग-थलग पड़ जायेगा। उसी शादी में जाइये, जिसमें दहेज का लेन-देन नहीं हो। अब बिना दहेज की शादी से ही उस परिवार का सम्मान बढ़ता है। वे वैसी ही शादी में जाना पसंद करते है, जिसके कार्ड पर बिना दहेज शादी लिखा हो। इससे दहेज प्रथा का उन्मूलन हो जायेगा, और बाल-विवाह में भी कमी आयेगी। मुख्यमंत्री ने शराबबंदी की तरह ही 21 जनवरी को मानवश्रृखला बनाकर बाल-विवाह एव ंदहेज प्रथा के खिलाफ सभी को एकजुट होकर शामिल होने का आग्रह किये। इसका बहुत बड़ा प्रभाव देष और समाज पर पड़ेगा। उन्होने कहा कि शराबबंदी में जो मानवश्रृखला बनी थी, वह दुनिया के रेकार्ड को तोड़ दिया। शराबबंदी की सफलता को देखने लोग अन्य राज्यों से भी आ रहे है। कर्नाटक से कुछ दिनांे पूर्व शराबबंदी का अध्ययन करने आये थे। मुख्यमंत्री द्वारा जिला पदाधिकारी को षिलान्यास किये गये योजनाओं को ससमय पूरा करने का निदेष दिया। उन्होने कहा कि उनका धकजरी से विषेष लगाव है। जगदीष उच्च विद्यालय के भवन के निर्माण हेतु पुनः राषि का आवंटन दे दिया गया है। धकजरी में एक अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, एवं काली दुर्गा स्थान स्थल पर पार्क एवं सौदर्यीकरण कार्य को शीघ्र पूरा करवाने की बात कही।
तत्पष्चात माननीय मुख्यमंत्री,बिहार हेलीपैड पर सड़क मार्ग से आकर हैलिकाॅप्टर द्वारा दरभंगा के लिए प्रस्थान किये।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...