बिहार में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिए हरसंभव मदद करेगा केंद्र : नड्डा

center-support-bihar-in-health-nadda
पटना 19 जनवरी, केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जे. पी. नड्डा ने बिहार में स्वास्थ्य सुविधाओं को और बेहतर बनाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से हरसंभव मदद करने का आश्वासन देते हुये आज कहा कि इसके लिए राशि की कमी नहीं होने दी जाएगी। श्री नड्डा ने यहां सम्राट अशोक ट्रॉपिकल डिजीज रिसर्च सेंटर का उद्घाटन करने के बाद आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुये कहा कि राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं को और बेहतर बनाने के लिए केंद्र बिहार सरकार को हरसंभव सहायता उपलब्ध कराने के लिए तैयार है। वर्तमान में राज्य के सरकार अस्पतालों में सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार के लिए काफी प्रयास किये जा रहे हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवा बेहतर बनाने के लिए अवकाश प्राप्त चिकित्सकों की भी सेवा ली जाएगी। उन्होंने अवकाशप्राप्त चिकित्सकों से अपील की कि वे इसके लिए अपनी सेवा उपलब्ध कराने में दिलचस्पी दिखायें। उन्होंने कहा कि पटना के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में चिकित्सकों की कमी को पूरा करने के लिए नियुक्तयां हुई हैं और आगे भी होगी।  श्री नड्डा ने कहा कि पटना एम्स में 91 नये फैकल्टी की सेवा भी जल्द मिलने लगेगी। उन्होंने कहा कि इस वर्ष अप्रैल से एम्स में आपातकालीन सेवा शुरू करने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पटना एम्स में बेहतर ढंग से काम शुरू होने के बाद अब बिहार और पूर्वी क्षेत्र के राज्यों के लोगों को उत्कृष्ट इलाज के लिए नई दिल्ली और अन्य महानगरों में जाने की जरूरत नहीं होगी।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार लोगों को रोग होने से बचाने के लिए आवश्यक कदम उठा रही है। उन्होंने कहा कि इलाज की सुविधा उपलब्ध कराये जाने के साथ यदि रोगों से बचने की व्यवस्था सुदृढ़ कर दी जाये तो इसके बेहतर परिणाम सामने आएंगे। श्री नड्डा ने कहा कि केंद्र सरकार कम संसाधनों वाले राज्यों के गरीब लोगों के स्वास्थ्य और जीवन में सुधार के लिए कटिबद्ध है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का उन राज्यों पर विशेष ध्यान है जहां स्वास्थ्य और चिकित्सा संबंधी संसाधनों की कमी है और बीमारियों का ज्यादा प्रकोप है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति (एनएचपी) 2017 ने बीमारियों से अधिक प्रभावित आबादी वाले राज्यों में लोगों के स्वास्थ्य में सुधार की स्थिति पर निगरानी करने की सिफारिश की है। उन्होने कहा कि नया ट्राॅपिकल डिजिज रिसर्च सेंटर गरीबों के इलाज के लिए काफी मददगार होगा। इस केंद्र में उच्चस्तर की सुविधाएं उपलब्ध कराई गयी हैं ।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...