युवा ही देश को नयी उँचाई पर ले जा सकते हैं-राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू

  • भारत युवाओं का देश है। बच्चे अपनी क्षमता को पहचानें व आगे बढ़ें।  

जामताड़ा कॉलेज लाइब्रेरी, ए एस कॉलेज देवघर के साइंस ब्लॉक व देवघर कॉलेज देवघर के आर्ट्स ब्लॉक का ऑनलाइन उद्घाटन राज्यपाल ने किया। सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए डीजीपी से बात हुई है, जल्द ही सारे विश्वविद्यालय में पुलिस पिकेट खोले जाऐंगे। 60 नए महाविद्यालय के निर्माण का कार्य चल रहा है। भारत युवाओं का देश है। युवा ही इस देश को नई ऊंचाई तक ले जा सकते है। युवाओं में शिक्षा आवश्यक है।

children-indias-future-draupdi-murmu
दुमका (अमरेन्द्र सुमन) भारत युवाओं का देश है। युवा ही इस देश को नई ऊंचाई तक ले जा सकते है। युवाओं में शिक्षा आवश्यक है। कोई भी सरकार सभी को सरकारी नौकरी नहीं दे सकती। सरकारी नौकरी के लिए युवा परेशान न रहें। जहां जगह मिले वहां कार्य कर अपने समाज, अपने राज्य के साथ-साथ देश की सेवा करें। सिदो-कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय, दुमका के 27 वें स्थापना दिवस व तीन दिवसीय युवा महोत्सव के समापन समारोह के अवसर दिन बुधवार (10 जनवरी 2018) को दिग्धी स्थित विश्वविद्यालय परिसर में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि झारखण्ड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने अपने संबोधन में उपरोक्त बातें कही। राज्यपाल ने इस अवसर पर कहा कि बच्चों में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। बस प्रतिभा को निखारने की जरूरत है। हर बच्चे में अपनी एक अलग विशेषता होती है। अपनी विशेषताओं को बच्चे पहचाने व उसी अनुरुप आगे बढ़े। राज्यपाल ने कहा कि अपनी संस्कृति, अपनी भाषा को बचाने के लिए आपको आगे आना होगा। म्यूजियम के लिए सरकार को रिपोर्ट भेजा गया है, जल्द ही इसकी स्वीकृति मिल जाएगी और बहुत जल्द विश्वविद्यालय में एक म्यूजियम होगा, जो यहां की संस्कृति को सहेज कर रखेगा। 60 नए महाविद्यालय के निर्माण का कार्य चल रहा है। सब के सहयोग से बचे कार्य भी जल्द पूरे होंगे।
                                        
उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि राज्य में नहीं देश में यह विश्वविद्यालय अपना नाम रोशन करेगा। इस अवसर पर समाज कल्याण मंत्री डॉ लुईस मरांडी ने कहा कि इस विश्वविद्यालय को आगे बढ़ाने के लिए सभी को प्रयास करना होगा। विश्वविद्यालय के सभी शिक्षकों और इससे जुड़े सभी लोगों को विश्वविद्यालय को एक नई ऊंचाई पर पहुंचाने का संकल्प लेना होगा। हम अपने विश्वविद्यालय की उपलब्धि पर चर्चा करें। बच्चों को रोजगार देने का प्रयास सरकार द्वारा किया जा रहा है, इसी को ध्यान में रखते हुए विश्वविद्यालय के इतिहास में पहली बार रोजगार मेला का आयोजन किया गया। आज युवाओं को हुनरमंद बनने की जरूरत है, प्रतिभा की कोई कमी नहीं है, बस एक रास्ता चुनने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि आपकी समस्या और आपकी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बस सेवा की शुरुआत की गई है। जल्द ही आपके विश्वविद्यालय में कैंटीन की शुरुआत की जाएगी। आर्थिक समस्याओं के कारण बच्चों की पढ़ाई बाधित ना हो इसके लिए सरकार द्वारा स्कॉलरशिप भी दिया जा रहा है। जल्द ही विश्वविद्यालय में म्यूजियम खोला जाएगा, ताकि शोध करने वाले छात्रों को आसानी हो। हम सभी आज इस स्थापना दिवस पर संकल्प ले कि विश्व विद्यालय को आदर्श विश्वविद्यालय बनाएंगे। 
                                        
इस अवसर पर महेशपुर विधायक स्टीफन मरांडी ने कहा कि यह विश्वविद्यालय बहुत सारे लोगों की मेहनत का परिणाम है। हमें विश्वविद्यालय की आधारभूत संरचना के विकास पर ध्यान देने की आवष्यकता है। हमें अपनी सोच को बदलनी होगी। शैक्षणिक संस्थान द्वारा शिक्षकों के सहयोग से गरीबी में भी सोच को बदला जा सकता है। संस्कृति को बचाने का दायित्व भी हम सभी का है। अगर प्रयास किया जाए तो इस विश्वविद्यालय को एक उत्कृष्ट विश्वविद्यालय बनाया जा सकता है। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति मनोरंजन प्रसाद सिन्हा ने कहा कि शिक्षा एक दीपक है, जो औरों के बीच प्रकाश फैलाने का कार्य करता है। हम दीए की लौ की तरह अपने आसपास को उजाला देने का कार्य करें। उन्होंने यह भी कहा कि आज का दिन उन लोगों को याद करने का दिन है, जिनके प्रयास से इस विश्वविद्यालय की स्थापना हो सकी। हम राज्य के किसी विश्वविद्यालय से पीछे नहीं हैं, यह सभी के सहयोग से सम्भव हो सका है। उन्होंने कहा कि हमें उन प्रतिभाओं पर गर्व है, जिन्होंने इस विश्वविद्यालय की पहचान को एक ऊंचाई तक पहुंचाया है। यहां के लोगों की ऊर्जा काबिले तारीफ है, एक नई ऊंचाई को छूने का प्रयास हमें हमेशा करनी चाहिए।इस अवसर पर राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने जामताड़ा कॉलेज की लाइब्रेरी, ए एस कॉलेज देवघर के साइंस ब्लॉक, देवघर कॉलेज देवघर के आर्ट्स ब्लॉक का ऑनलाइन उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर सिदो कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय द्वारा बनाई गयी पत्रिका ‘‘उत्कर्ष‘‘ का विमोचन किया गया। विश्वविद्यालय में युवा महोत्सव के दौरान आयोजित प्रतियोगिता में ए एस कॉलेज देवघर प्रथम स्थान पर रही वही बाजला कॉलेज देवघर द्वितीय स्थान पर रही। दोनों महाविद्यालय के प्रतिभागियों को राज्यपाल श्रीमती द्रौपदी मुर्मू द्वारा ट्रॉफी देकर पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम में ए एस कॉलेज देवघर के द्वारा सूफी संगीत की बेहतरीन प्रस्तुति दी गई। देवघर कॉलेज देवघर के द्वारा राजस्थानी लोक नृत्य की प्रस्तुति दी गई तथा ैच् महिला महाविद्यालय की छात्राओं के द्वारा मार्शल आर्ट ताइक्वांडो की प्रस्तुति की गई। कार्यक्रम के दौरान विभिन्न महाविद्यालय के प्रोफेसर को माननी द्वारा राज्यपाल श्रीमती मुर्मू को स्मृति चिन्ह और शॉल देकर सम्मानित किया गया। 
                                       
 राज्यपाल श्रीमती मुर्मू ने झारखंड के वीर सपूत के नाम से प्रसिद्ध इस विवि के 27 वें स्थापना दिवस के साथ-साथ तीन दिवसीय युवा महोत्सव के अवसर पर शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि किसी भी विश्वविद्यालय का स्थापना दिवस उस विश्वविद्यालय के लिए महत्वपूर्ण होता है। यह दिन कमियों की समीक्षा करने का है। 27 सालों में विश्वविद्यालय ने अपने आपको कितना विकसित किया है, इसकी समीक्षा करना अति आवश्यक है ताकि समस्याओं, बाधाओं का निराकरण किया जा सके। कहा कि राज्य के राज्यपाल के रुप में झारखंड में मेरे ज्वाइनिंग के बाद बहुत सारी समस्याओं के ज्ञापन रोज-रोज आते थे। ज्ञापन लेकर आये लोगों की समस्याओं के निराकरण के लिये अधिकारियों से मिलना चाहती थी। समस्याओं का जल्द से जल्द निपटारा हो। आधारभूत संरचना , बच्चों की समस्याओं को दूर करने के लिए लगातार निर्देश दिए जा रहे हैं। सभी कुलपतियों की बैठक बुलाकर रिक्त पदों को जल्द से जल्द भरने का निर्देश दिया गया था। ढाई वर्ष पहले 60 प्रतिशत पद रिक्त था। आज लगभग सारे पदों पर संविदा के आधार पर या अन्य विधि से नियुक्तियाँ कर ली गई। राज्यपाल ने कहा कि भवन, फाइनेंस डिपार्टमेंट, जेपीएससी आदि सभी विभागों के अधिकारियों को बुलाकर सभी विभागों से समन्वय बनाकर समस्याओं को दूर करने का निर्देश दिया। शिक्षक, प्रिंसिपल न होने की वजह से बच्चे परेशानी में थे। वे शिकायतें लेकर आते थे। विश्वविद्यालयों में रिक्त पदो पर नियुक्ति कर उसे दूर करने का प्रयास किया गया। स्टाफ की कमी जल्द ही दूर कर ली जाएगी। उन्होंने कहा 300 से अधिक हाईस्कूल को प्लस टू स्कूल के रूप में उत्क्रमित कर प्लस टू की शिक्षा की समस्या को दूर कर लिया गया है। अब बच्चे घर पर  रहकर पढ़ाई कर सकते हैं। उन्हें उच्च शिक्षा के लिए दूर जाने की जरुरत नहीं रही। 
                                          
राज्यपाल ने कहा विश्वविद्यालय में बहुत जल्द लैब की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। 12 करोड रुपए की स्वीकृति मिल चुकी है। राज्यपाल ने कहा कि कार्य भी जल्द ही कार्य भी प्रारंभ किया जाएगा। प्रत्येक कॉलेज में लाइब्रेरी की शुरुआत की जाएगी। सभी कॉलेज में लाइब्रेरी के खुल जाने से कॉलेज के माहौल में परिवर्तन आएगा। पढ़ाई करने का एक बेहतर माहौल विकसित होगा। सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए डीजीपी से बात हुई है, जल्द ही सारे विश्वविद्यालय में पुलिस पिकेट खोले जाऐंगे। समाज कल्याण मंत्री डॉ0  लुईस मरांडी को धन्यवाद देते हुए कहा कि विधायक निधि से विश्वविद्यालय के बच्चे बच्चियों के लिए बस देकर उन्होंने महत्वपूर्ण योगदान दिया है। सुरक्षा के दृष्टिकोण से मार्शल आर्ट महिलाओं के लिये  अति महत्वपूर्ण है। इसे ध्यान में रखते हुए हर महिला कॉलेज में मार्शल आर्ट की कक्षा शुरू की गई है।  यह एक बेहतर प्रयास है। उन्होंने कहां की बच्चियों अपने अंदर की ऊर्जा को पहचानें। अपने परिवार, समाज, राज्य व देश का नाम ऊंचा करने के लिए वे आगे बढ़ें। आप आगे बढ़ेंगे तो देश आगे बढ़ेगा।  ऐसा कोई कार्य न करें जिसकी वजह से किसी का सर नीचा हो।  ऐसा कार्य करें कि आपकी वजह से परिवार समाज को गर्व हो। उन्होंने कहा कि महिलाएं अपने आप को सशक्त बनाए। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...