बिहार में कड़ाके की ठंड से लोग बेहाल, गया में छह वर्ष का रिकार्ड टूटा

cold-continue-in-bihar
पटना 07 जनवरी, जम्मू-कश्मीर में हो रही भारी बर्फबारी के कारण बिहार में कड़ाके की ठंड से जहां लोग बेहाल हो रहे हैं वहीं गया में पिछले छह वर्ष में आज सर्वाधिक ठंड रहा। मौसम विभाग से यहां मिली सूचना के अनुसार पटना, भागलपुर , पूर्णियां समेत मध्य बिहार के कई जिले आज कोल्ड डे की चपेट में रहे जबकि गया का न्यूनतम तापमान पिछले छह वर्षो में सबसे कम रिकार्ड किया गया । पछुआ हवा के कारण ठिठुरन भरी कनकनी बनी हुयी है। इसके अलावा सीमांचल एवं कोसी क्षेत्र के जिलों में भी इसी तरह कनकनी बनी हुयी है । अगले 24 घंटे में सुबह के समय घना कोहरा बना रहेगा लेकिन धूप निकलने के बाद सर्द हवा के थपेड़ों से कड़ाके की ठंड भी बनी रहेगी। विभाग के अनुसार, रात के समय तापमान में गिरावट होने की संभावना है। पश्चिमी विक्षोभ एवं बर्फीली हवा के कारण बिहार के मैदानी इलाकों में ठंड की संभावना जतायी गयी है। इसी तरह सुबह के समय कोहरे के कारण दृश्यता भी कम आंकी गयी है। हालांकि दिन चढ़ने के बाद आसमान साफ रहने का पूर्वानुमान लगाया गया है।

राज्य में कुछ दिनों से जारी हाड़ कपाने वाली ठंड का प्रकोप बना हुआ है। राजधानी पटना समेत प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। रूक-रूक कर चल रही पछुआ हवा के कारण ठिठुरन जहां बनी हुयी वहीं तापमान में भी गिरावट दर्ज की गयी है। सर्द हवा के थपेड़ों से परेशान रह रहे लोग दिन चढ़ने के बाद भी घरों में दुबके रह रहे हैं। हालांकि आज दिन चढ़ने के बाद धूप निकलने से लोगों ने थोड़ी राहत जरूर महसूस की लेकिन कनकनी अभी भी बनी हुयी है।दिन में भी सड़क किनारे लोग टायर और लकड़ी जलाकर ठंड से बचने का प्रयास कर रहे हैं। ठंड और कोहरे के कारण कई महत्वपूर्ण ट्रेनें अपने निर्धारित समय से विलंब से चल रही हैं । इस बीच मौसम विभाग के आधिकारिक सूत्रों ने यहां बताया कि पटना का अधिकतम तापमान 16.2 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 6.1 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया । वहीं, गया का अधिकतम 20.7 डिग्री एवं न्यूनतम 02.8 डिग्री रहा जो पिछले छह वर्षो में सबसे कम है। 07 जनवरी 2011 को गया का न्यूनतम तापमान 2.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया था । भागलपुर का अधिकतम 15.5 डिग्री और न्यूनतम 03.1 डिग्री तथा पूर्णियां का अधिकतम 13.8 तथा न्यूनतम तापमान 05.9 डिग्री सेल्सियस रहा।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...