रिटेल में सौ प्रतिशत एफडीआई के कारण छोटे व्यापारी होंगे तबाह : माले

  • देशभक्ति का दिखावा करने वाली मोदी सरकार ने विदेशी कंपनियों के लिए बनाया रास्ता आसान.

fdi-distroy-small-industries-cpi-ml
पटना 11 जनवरी, भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने केंद्र की मोदी सरकार द्वारा रिटेल व निर्माण क्षेत्र के विकास में स्वचालित मार्ग के तहत एफडीआई की सीमा को बढ़ाकर सौ फीसदी करने की कड़ी निंदा की है और इसे पूरी तरह जनविरोधी करार दिया हैं. उन्होंने कहा कि खासकर खुदरा व्यापारियों पर इसका बेहद बुरा असर पड़ेगा और करोड़ो व्यापारी तबाह-बर्बाद हो जायेंगे. नोटबंदी व जीएसटी की मार से आम लोग व छोटे व्यापारी अभी उबरे भी नहीं है कि उनपर मोदी सरकार ने एक और हमला कर दिया है.  माले राज्य सचिव ने आगे कहा कि मोदी सरकार देश की जनता को लगातार धोखा दे रही है. यही भाजपा जब विपक्ष में थी, तो इसने खुदरा व्यापार में सौ प्रतिशत एफडीआई का विरोध किया था. लेकिन आज उसने इन क्षेत्रों को विदेशी कंपनियों के लिए पूरी तरह खोल दिया है. यह विडंबना ही कहलाएगी कि जो भाजपा ‘देशभक्ति’ का राग अलापते नहीं अघाती, उसने देश की आम जनता-खुदरा व्यापारियों की कीमत पर विदेशी कंपनियों को भारत में लूटने की छूट दे दी है. एयर इंडिया में भी 49 फीसदी एफडीआई को हरी झंडी दी गयी है. भाकपा-माले ने कहा है कि हम इस जनविरोधी कदम की कड़ी आलोचना करते हैं और इसे अविलंब वापस लेने की मांग करते हैं.
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...