मधुबनी : मिथिला विजय के प्रतीक कन्दर्पी घाट पर समारोह दिवस धूमधाम से मनाया गया

kandarp-ghat
अंधराठाढ़ी/मधुबनी (मोo आलम अंसारी) अंधराठाढ़ी। मिथिला विजय के प्रतीक कन्दर्पी घाट पर शनिवार को पुष्पांजलि समारोह दिवस धूमधाम से मनाया गया। इस समारोह के मुख्य अतिथि रंग नाथ चौधरी अवर समाहर्ता मुज़्ज़फरपुर । श्री चौधरी ने मिथिला विजय के शहीदों को अपनी श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए  विजय स्तम्भ पर पुष्प अर्पण करते हुए इसे एक एतिहासिक दिन कहा।  इस समारोह के संयोजक श्री महेश झा ने बताया की 20 जनवरी 2010 को वसंत पंचमी के दिन तत्कालीन अनुमंडल पदाधिकारी डॉ श्री रंगनाथ चौधरी ने विजय स्तम्भ की स्थापना की थी। ये विजय स्तम्भ मिथिला के राजा श्री नरेन्द्र देव के पटना के सूबेदार अलिवर्दी खान के ऊपर मिली एतिहासिक विजय के प्रतीक के रूप में बनाया गया था।  ये हमारी गौरवशाली परम्परा का एतिहासिक स्मृति चिन्ह है। ये हमें हमारी आने वाली पीढ़ी को हमेशा हमारे पूर्वजो की पराक्रम की याद दिलाएगा। ये विजय सतम्भ इस बात का भी प्रतीक है की मिथिला केवल ज्ञान की ही नहीं वीरो की भी भूमि है जो वक़्त आने पर अपने दुश्मनों को करारा जबाब दे सकते है। पुरे मिथिलांचल में अपनी तरह का ये एकलौता स्तम्भ है जो हमें जातपात से ऊपर उठकर केवल मिथिला की पराक्रम  की कहानी सुनाता है। उस एतिहासिक  दिन से आजतक महरैल कर्णपुर और हैरना के लोग मिलकर इस दिन को एतिहासिक दिवस् मानकर शहीदों को अपनी श्रद्धा सुमन अर्पित करते है। पुष्पांजलि समारोह दिवस कार्यक्रम में एमओ जैनेन्द्र कुमार, फूल सिंह, अरुण कुमार झा, अनिल चौधरी, मदन कुमार झा, विश्नाथ महतो, राधा रमण झा, ओमप्रकाश यादव  सहित प्रखंड के अनेक गणमान्य लोग शामिल हुए।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...