नया भारत के निर्माण में प्रतिभाओं का योगदान अपेक्षित : डाॅ. हर्षवर्धन

new-india-development
नई दिल्ली, 15 जनवरी, स्वयंसेवी संगठन तथास्तु भव ने चिन्मय मिशन आॅडोटोरियम में आयोजित भव्य समारोह में देश के व्यावसायियों, संस्कृतिकर्मियों, फिल्मकारों, समाजसेवियों, पत्रकारों, साहित्यकारों, उद्यमियों, खिलाड़ियों, चिकित्सकों, शिक्षा शास्त्रियों, पर्यावरणविदों, लोक कलाकारो को ‘तथास्तु भव एवार्ड समारोह-2017’ से सम्मानित किया गया। समारोह की अध्यक्षता प्रख्यात जैन संत मुनिश्री जयंतकुमार ने की, जबकि मुख्य अतिथि विज्ञान एवं तकनीक मंत्री डाॅ. हर्षवर्धन थे। मुनिश्री जयंतकुमार ने कहा कि एक स्वस्थ समाज की संरचना में संत, संस्कृति और संस्कार का बहुत बड़ा योगदान है। प्रगति के साथ-साथ अहिंसा बहुत जरूरी है। अहिंसा सभी स्तरों पर मार्गदर्शक बने, मापदण्ड बने तभी देश का संतुलित विकास संभव है। भौतिकता के साथ-साथ आध्यात्मिकता का समन्वय जरूरी है। तथास्तु भव एक स्वयंसेवी संगठन है जो संतुलित समाज निर्माण के लिए कृतसंकल्प है। जिसने देश की प्रतिभाओं को आगे लाने और सम्मानित करने का उल्लेखनीय उपक्रम किया है। एक प्रगतिशील समाज में प्रतिभाओं को प्रोत्साहित किया जाना स्वस्थ परम्परा है। आज सबसे बड़ी अपेक्षा यह है कि प्रतिभाओं का मूल्यांकन करना सीखें। यह कार्य राजनीति के आधार पर संभव नहीं है। इसके लिए संतपुरुषों एवं संस्कृतिकर्मियों को जागरूक होना होगा।  मुनिश्री जयंत कुमार ने तथास्तु भव को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आज के युग में भी कुछ चुनिंदा लोग ऐसे हैं जो आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक हित के लिए कार्य कर रहे हैं। ऐसे लोगों को सम्मानित करना तथास्तु भव की तरफ से अच्छी पहल है। 

केन्द्रीय मंत्री डाॅ. हर्षवर्धन ने कहा कि एक नये भारत को निर्मित करने में अनेक प्रतिभाओं का योगदान अपेक्षित है। इसके लिए पूर्व में भी प्रयास होते रहे हैं और इस तरह का वातावरण बनाने में अनेक प्रतिभाओं और महापुरुषों ने खून-पसीना बहाकर इतिहास लिखा है। वर्तमान में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों से भारत विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय गति कर रहा है। जितना हमने आधुनिकता और टेक्नोलाॅजी को बढ़ाया है उतना ही अब हमें संस्कृति को बल देना है। तथास्तु भव जैसे आयोजन संस्कृति को नया आयाम देने वाले उपक्रम है। केन्द्रीय मंत्री डाॅ. हर्षवर्धन ने कहा कि आज भागदौड़ भरी जिंदगी के बावजूद भी कुछ लोग ऐसे हैं जो अपने-अपने क्षेत्र में बेहतरीन कार्य कर रहे हैं और लोगों की वाह-वाही बटोर रहे हैं। बिना किसी चीज की परवाह किए वे सामाजिक कार्य कर रहे हैं, राष्ट्रीयता को समृद्ध बना रहे हैं। डाॅ. हर्षवर्धन ने आगे कहा कि हम बेहद भाग्यशाली हैं जो हमें भारत जैसे देश में जन्म लेने का मौका मिला है क्योंकि यहां शुरू से लेकर आज तक संतों की परंपरा चलती आ रही है। मैं आचार्य श्री तुलसी एवं आचार्य श्री महाप्रज्ञ के नैतिक एवं चरित्रमूलक कार्यक्रमों में सहभागी बनता रहा हूं और उन्हीं के परम्परा के मुनिश्री जयंतकुमार भी समाज निर्माण का अच्छा कार्य कर रहे हैं। वरिष्ठ नागरिक केसरी क्लब की चेयरपर्सन किरण चोपड़ा के बारे में उन्होंने कहा कि पिछले काफी वर्षों से किरण चोपड़ा बुजुर्गों के लिए निःस्वार्थ कार्य कर रही हैं जो काबिले तारीफ है। इस कार्यक्रम में तथास्तु भव के अध्यक्ष अतर सिंह चैधरी, प्रसिद्ध मीडिया पर्सनालिटी और तथास्तु भव की ट्रस्टी अजीता जैन, सुखी परिवार फाउंडेशन के राष्ट्रीय संयोजक ललित गर्ग, एनआईए के डीआईजी आनंद जैन सहित कई अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे। 

मुनिश्री जयंतकुमार के सान्निध्य में मुख्य अतिथि केन्द्रीय मंत्री डाॅ. हर्षवर्धन ने ‘तथास्तु एवार्ड-2017’ सामाजिक उत्थान के लिए इम्पैक्ट गुरु के सीईओ-पीयूष जैन, क्लासिकल डांसर-शालू जिंदल, मीडिया पर्सनालिटी-रमा पांडे, शिक्षा से जुड़े एनजीओ की प्रमुख-स्नेहा मिस्रान, सामाजिक भागीदारी के लिए-सिद्धार्थ वशिष्ठ चेरिटेबल ट्रस्ट, अभिनेता, गायक एवं संगीत निर्देशक-मिलंद गाबा, महिला क्रिकेटर-सुषमा वर्मा, पहलवान-विकास कुमार डागर, शिक्षाविद्-मनीत जैन, व्यवसायी-हीरालाल गेलड़ा, कलाकार-अन्नु कालरा, मेक इन इंडिया को बढ़ावा देनी वाली-स्मिता श्रीवास्तव, सामाजिक कार्यकर्ता-गौरव गुप्ता, अभिनेता-करण आनंद, सामाजिक कार्यकर्ता-पारूल महाजन, स्टार्टअप लीडर-जावेद अली आदि को उनके विविध क्षेत्रों में उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए मोंटेटों एवं प्रशिस्त पत्र देकर सम्मानित किया गया। संस्था के अध्यक्ष श्री अतर सिंह चैधरी ने तथास्तु भव के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि यह स्वयंसेवी संगठन सेवा और परोपकार के विभिन्न कार्यों के साथ-साथ राष्ट्र की विभिन्न प्रतिभाओं को सम्मानित करने का उपक्रम करता है 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...