मुंबई समेत महाराष्ट्र के अन्य जिलों में बंद के कारण जनजीवन प्रभावित

normal-life-is-disturbed-in-maharashtra-due-to-band
मुंबई 03 जनवरी, भीमा कोरेगांव में विजय पर्व के समय सोमवार को एक दलित की मौत के बाद कुछ दलित संगठनों के महाराष्ट्र बंद के आह्वान के कारण मुंबई समेत राज्य के अन्य जिलों में आज जनजीवन प्रभावित हुआ। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई की जीवन रेखा लोकल ट्रेन को विरार, मालाड, गोरेगांव और ठाणे में कुछ समय के लिए रोक दिया गया जिससे लोगों को काफी परेशानी का समाना करना पड़ा। मुंबई के कार्यालयों में लाखों लोगों को खाना पहुंचाने वाले डिब्बा वाले ने आज अपने सेवाएं बंद रखी। मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) अधिकारियों के अनुसार दलित कार्यकर्ताओं ने ‘बीईएसटी’ बेस्ट की 13 बसों को बान्द्रा के कलानगर, धारावी, कामराज नगर, गोरेगांव के संतोष नगर, मालाड के दिंडोसी और कांदीवली के हनुमान नगर में रोककर क्षति पहुंचाई। चेंबूर में स्कूल बसों को भी क्षति पहुंचाई गयी। बंद के कारण ओला और उबेर टैक्सी की भी सेवा प्रभावित हुयी। बेस्ट ने सुरक्षा कारणों से कई स्थानों पर बसों का संचालन बंद कर दिया। मुंबई से पुणे और कर्नाटक की ओर जाने वाली बसों को सुरक्षा कारणों से अगले आदेश तक रोक दिया गया है। दलित संगठनों ने अपराह्न ढाई बजे बान्द्रा में जिलाधिकारी के कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया। घाटकोपर और अंधेरी के बीच चलने वाली मेट्रो ट्रेन को एहतियात के तौर पर रोक दिया गया है। मुंबई में बंद के आह्वान के कारण पुलिस ने चाकचौबंद बंदोबस्त किये हैं। मुंबई में स्कूल और कालेज खुले हुए हैं लेकिन स्कूल बसों को बंद कर दिया गया है। घाटकोपर के रमाबाई कालोनी और पूर्वी राजमार्ग पर पुलिस बल तैनात है। एमएसआरटीसी सूत्रों ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने मराठवाड़ा क्षेत्र के आठ जिलों में कम से कम 144 बसों को नुकसान पहुंचाया है जिनमें 26 बसें औरंगाबाद डिपो की है। विश्व प्रसिद्ध अंजता और एलोरा गुफाओं के दीदार के लिए आये पर्यटक वहां फंसे हुए हैं। इनमें ज्यादातर पर्यटक जापान के हैं। सभी दुकानें, स्कूलों और व्यावसायिक प्रतिष्ठान को एहतियातन तौर पर बंद किया गया है। वामपंथी संगठनों ने बंद का समर्थन किया है। औरंगाबाद शहर में निषेधाज्ञा लगायी गयी है तथा सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...