सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 04 जनवरी

अंकसूची व प्रमाण-पत्रों में ऑनलाइन संशोधन होगा

sehore map
मध्यप्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग ने मण्डल द्वारा अंकसूची और प्रमाण पत्रों में ऑनलाइन संशोधन प्रक्रिया हेतु निर्देश जारी किए हैं। माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा जारी दस्तावेजों में किसी भी प्रकार के संशोधन हेतु आवेदन केवल जिला मुख्यालय के एमपी ऑनलाइन कियोस्क के माध्यम से स्वीकार किए जाएंगे। ऑनलाइन आवेदन के साथ आवेदक मण्डल निर्देशों के अनुरूप समस्त आवश्यक मूल दस्तावेज 15 कार्य दिवस की अवधि में सम्बन्धित जिले की समन्वयक संस्था पर प्रस्तुत करेगा तथा समन्वयक संस्था द्वारा प्रकरण का निराकरण किया जाएगा। ऑफ लाइन आवेदन पत्र किसी भी स्थिति में स्वीकार नहीं किए जाएंगे। मूल दस्तावेज प्राप्त होने पर ही ऑनलाइन आवेदन मान्य होगा। स्वीकृत आवेदनों का निराकरण प्राचार्य द्वारा ऑनलाइन किया जाएगा। स्वीकृत आवेदन मण्डल मुख्यालय में ऑनलाइन प्राप्त होंगे। मण्डल मुख्यालय द्वारा दस्तावेज मुद्रित करके स्पीड पोस्ट के माध्यम से आवेदक को प्रेषित किए जाएंगे।

निःशुल्क जिला स्तरीय मुख्यमंत्री स्वास्थ्य शिविर 7 जनवरी को, विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा किया जाएगा
  • निःशुल्क चिन्हांकन, जांच,परीक्षण एवं परामर्श उपचार

जिला चिकित्सालय, ट्रामा सेंटर परिसर सीहोर में निःशुल्क जिला स्तरीय मुख्यमंत्री स्वास्थ्य शिविर का आयोजन 7 जनवरी,2018 को प्रातः 10 बजे से किया जाएगा। शिविर में विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा राज्य बीमारी सहायता निधि एवं राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आर.बी.एस.के.) के अंतर्गत सम्मिलित विभिन्न बीमारियों का निःशुल्क जांच, परीक्षण एवं परामर्श के साथ इस्टीमेट तैयार किया जाएगा। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत 0 से 18 वर्ष तक आयु के समस्त बच्चे जो जन्मजात विकृति एवं गंभीर बीमारी से पीड़ित है उनका चिन्हांकन किया जाएगा। साथ ही राज्य बीमारी सहायता निधि के अंतर्गत  समस्त आयु वर्ग, गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार की चिन्हित बीमारियों का परीक्षण एवं उपचार के लिए इस्टीमेंट स्वीकृत किया जाएगा। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.डीआर अहिरवार ने बताया कि 7 जनवरी जिला चिकित्सालय सीहोर में आयोजित जिला स्तरीय निःशुल्क मुख्यमंत्री स्वास्थ्य शिविर में राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत 0 से 18 वर्ष आयु के  चिन्हित गंभीर जन्मजात विकृति के न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट, क्लब फुट, जन्मजात बहरापन, जन्मजात मोतियाबिंद, डीडीएच, कुल्हे का अविकसित, डाउन सिण्ड्रोम, भंेगापन, कान, गला आदि बीमारियों का चिन्हांकन एवं जांच,इस्टीमेंट, परीक्षण एवं परामर्श की व्यवस्था की जाएगी। राज्य बीमारी सहायता निधि के अंतर्गत कैंसर सर्जरी, कीमोथैरेपी, रेडियो थेरैपी, हृदय शल्य क्रिया,रीनल सर्जरी एवं रीनल ट्रांसप्लांट, घुटना बदलना, हिप ज्वाइंट रिप्लेसमेंट, वक्ष रोग शल्यक्रिया, स्पाइरल सर्जरी, रेटिनल डिटेचमेंट, ब्रेन सर्जरी, यूरो सर्जरी,पेस मेकर, वैसक्यूलर सर्जरी, कंजेनाइटल मालफोर्मश्न सर्जरी, एप्लास्टिक एनीमिया, बर्न एण्ड पोस्ट बर्न कांन्टैक्टर, क्रानिक रीनल डिसिजेज, नेफ्रोट्रिक सिन्ड्रोम, पेरिटोनियल डायलिसिस, हीमोडायलिसिस, बांझपन इत्यादि गंभीर बीमारियों का इस्टीमेट,परीक्षण किया जाएगा। जिला चिकित्सालय मंे आयोजित उक्त शिविर की पर्याप्त व्यवस्था किए जाने तथा शिविर की व्यवस्था के लिए जरूरी दिशा निर्देश सिविल सर्जन डाॅ.ए.ए.कुरैशी ने शिविर के प्रभारी अधिकारी डाॅ.आनंद शर्मा एवं राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डाॅ.पदमाकर त्रिपाठी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक श्री धीरेन्द्र आर्या को दे दिए गए हैं। डाॅ.अहिरवार ने बताया कि शिविर की शत प्रतिशत सफलता के लिए जिले के विभिन्न विकासखण्ड स्तर पर नियुक्त आरबीएसके चिकित्सा दल के चिकित्सा अधिकारियों की भी सेवाएं ली जाएगी। जिला स्तरीय शिविर की सफलता के लिए जिले के समस्त ब्लाॅक स्तर पर विकासखण्ड स्तरीय शिविर आयोजित कर राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम तथा राज्य बीमारी सहायता निधि के हितग्राहियों को चिन्हित किया गया है। आयोजित निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर में मध्यप्रेदश शासन द्वारा मान्यता प्राप्त लगभग 15 निजी चिकित्सालयों के विशेषज्ञ चिकित्सकों की सेवाएं ली जाएगी।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...