तोगड़िया की रहस्यमय गुमशुदगी, पुलिस ने ढूंढने के लिए बनायी विशेष टीम

togadia-s-mysterious-disappearance-special-team-created-by-police-to-find
अहमदाबाद, 15 जनवरी, विश्व हिन्दू परिषद के नेता प्रवीण तोगड़िया की आज रहस्यमय गुमशुदगी को लेकर मची अफरातफरी और विहिप के विरोध प्रदर्शन के बीच राजस्थान और गुजरात पुलिस ने वर्षो पुराने एक मामले में उनकी गिरफ्तारी की बात से साफ तौर पर इंकार किया है। दूसरी ओर अहमदाबाद पुलिस की क्राइम ब्रांच ने उन्हें ढूंढने के लिए एक विशेष टीम बनायी है। श्री तोगड़िया के खिलाफ राजस्थान के सवाई माधेपुर जिले के गंगापुर शहर में एक दशक से पहले निषेधाज्ञा के उल्लंघन से जुड़े मामले में वहां की अदालत ने कई समन और जमानती वारंट के बाद गैर जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी किया था। इसी को लेकर वहां की पुलिस आज यहां आयी थी। वह यहां सोला क्षेत्र के भागवत बंगलो के अपने आवास पर नहीं थे। पर उसके बाद से ही वह रहस्यमय ढंग से लापता हैं। विहिप ने इसके विरोध में यहां सोला पुलिस स्टेशन पर प्रदर्शन भी किया। अहमदाबाद, सूरत, राजकोट, सुरेन्द्रनगर समेत कई स्थानों पर भी चक्का जाम और प्रदर्शन किया गया।  सवाई माधोपुर के एसपी ममन सिंह ने यूनीवार्ता को दूरभाष पर बताया कि भारतीय दंड संहिता की धारा 188 से जुड़े इस मामले में गंगापुर पुलिस अहमदाबाद गयी थी पर यह बिना श्री तोगड़िया को गिरफ्तार किये वापस लौट आयी।

यहां क्राइम ब्रांच के संयुक्त पुलिस आयुक्त जे के भट्ट ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज वगैरह के आधार पर श्री तोगड़िया को एक विशेष टीम ढूंढ रही है। उनका जल्द ही पता लगा लिया जायेगा। उनकी गुजरात अथवा राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तारी नहीं की है। वारंट किसी बहुत गंभीर मामले से जुड़ा नहीं था। राजस्थान पुलिस ने यहां सोला पुलिस से वारंट के तामीले के लिए मदद मांगी थी। दोनो पुलिस श्री तोगड़िया के आवास पर गयी थी पर वह वहां नही थे उसके बाद पुलिस लौट आयी। एक पुलिस कांस्टेबल ने बताया कि श्री तोगड़िया किसी व्यक्ति के साथ ऑटो रिक्शा में बैठ कर कही चले गये थे। पुलिस विहिप के नेताओं से भी संपर्क में हैं। यह पूछे जाने पर कि जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा के बावजूद श्री तोगड़िया का पता क्यों नहीं चल पा रहा, श्री भट्ट ने कहा कि उन्होंने अपने सुरक्षा गार्ड से कल देर रात कहा था कि वह अब कार्यालय पर आराम करेंगे और गार्ड आज दोपहर बाद आयें। इसी दौरान वह लापता हो गये।

उधर विहिप के प्रदेश महामंत्री रणछोड़ भरवाड़ ने पत्रकारों से कहा कि बताया जा रहा है कि पुलिस ने उन्हें कार्यालय से पकड़ा था। श्री तोगड़िया का फोन भी लगातार बंद है और उनका कुछ भी पता नहीं है। हमे उनकी सुरक्षा को लेकर चिंता हो रही है क्योंकि उन्होंने भी कुछ समय पहले उन्हें खतरे की आशंका जतायी थी। पुलिस को श्री तोगड़िया को ढूंढ कर सामने लाना चाहिए। यह वारंट भी वर्षों पुराना और उस समय के मामले का है जब तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत के शासन के दौरान तीन हिन्दुओं की हत्या के विरोध के लिए श्री तोगड़िया राजस्थान गये थे। उधर सोला पुलिस थाने के प्रभारी इंस्पेक्टर जे एस पटेल ने बताया कि राजस्थान पुलिस विहिप कार्यालय गयी ही नहीं थी। जब वह अपने आवास पर नहीं मिले तो पुलिस लौट गयी। ज्ञातव्य है कि श्री तोगड़िया के खिलाफ पिछले सप्ताह 21 साल पुराने मारपीट के एक मामले में यहां अदालत की ओर से गैर जमानती वारंट जारी होने पर विहिप ने कड़ा विरोध किया था। पांच जनवरी को विहिप नेता की पेशी के बाद यह वारंट रद्द हो गया था। तब श्री तोगड़िया ने आरोप लगाया था कि उनकी राम मंदिर निर्माण की मांग समेत अन्य मांगों पर उनकी आवाज बंद कराने के लिए कोई उन्हें डराना चाहता है।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...