ट्रेन में खाने के अधिक पैसे वसूलने पर बवाल, प्रबंधक ने किये पैसे वापस

vender-return-iligel-charges-in-train
भुबनेश्वर ,आर्यावर्त डेस्क,  12 जनवरी ,2018  (*चलित ट्रेन से विजय सिंह ), अक्सर हमें ट्रेनों में यात्रियों से खाने के अधिक पैसे वसूले जाने और निम्न स्तर का खाना परोसे जाने की शिकायतें मिलती रहती हैं. इसी तरह का एक वाकया दिनांक 11 जनवरी को ट्रेन संख्या 22864 यशवंतपुर - हावड़ा एसी एक्सप्रेस में देखने को मिला. बी- 4 कोच के यात्रियों ने दोपहर के खाने का आर्डर किया जिसमे सीट संख्या 51/53/54  के यात्रियों को शाकाहारी में चिकेन की हड्डी मिली. पूछ ताछ के क्रम में ही वेंडर से जब उसी ट्रेन में सफर कर रहे लाइव आर्यवर्त प्रतिनिधि ने खाने के रेट और बिल की मांग की तो,पैंट्री कार के वेंडर और प्रबंधक आनाकानी करने लगे. उक्त ट्रेन में रेलवे (आई आर सी टी सी )  द्वारा पैंट्री संचालित करने का ठेका प्राप्त कंपनी पी प्लस फैसिलिटी मैंनेजमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड के इंचार्ज रतन मैती ने स्वीकारा कि रेलवे द्वारा निर्धारित 7 रुपये कप चाय के बदले वे लोग 10 रुपये प्रति कप यात्रियों से लेते हैं. जब यात्रियों ने 50 रुपये (रेलवे द्वारा निर्धारित दर ) शाकाहारी खाने के बदले 120 रुपये और मांसाहारी खाना के 55 रुपये के बदले 150 रुपये वसूले जाने का विरोध किया तो पैंट्री कार प्रबंधक रतन मैती ने अधिक शुल्क वसूले जाने और गैरकानूनी ढंग से क्रियान्वित किये जाने की बात स्वीकारी. यात्रियों के बढ़ते दवाब से पैंट्री कार प्रबंधक ने सभी यात्रियों से खाने के एवज में वसूले गए अधिक पैसे वापस किये. यात्रियों ने रेलवे विभाग से इस तरह के गैरकानूनी कार्य बंद करवाने और पैंट्री कार संचालकों को यात्रियों से रेलवे मंत्रालय द्वारा निर्धारित राशि ही लिए जाने का अनुरोध किया है. लाइव आर्यावर्त.कॉम ट्रेनों में सफर करने वाले सभी यात्रियों से अनुरोध करता है कि ट्रेनों में सफर करते वक़्त पैंट्री कार से खाने की सामग्री खरीदते वक़्त रेलवे द्वारा तय राशि ही भुगतान करें और उनकी रशीद भी मांगें. 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...