विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 12 फ़रवरी

ओला पीडित किसानो का दर्द जानने पहुंचे शषांक भार्गव 

vidisha news
विदिषा:- प्राकृतिक आपदा ओला से पीडित किसानो का दर्द जानने की मंषा से कांग्रेस नेता श्री शषांक भार्गव सुबह सुबह ही अपने घर से कुछ साथियो सहित निकल पडे। सतपाडा करारिया पहुंच कर देखा यहा किसानो का दर्द मुहं से बयां नही हो पा रहा था स्वतः कुछ किसानो की आंखो से आंसु शब्दो के रूप में बह रहे थे। यह सब देख कर श्री शषांक भार्गव की भी आंखे भर आई, श्री केषर सिंह ठाकुर ने बताया की ओले से हमारी फसल आडी हो गई हैं अब इसे काटा नही जा सकता और एक फसल पिटने से किसान 2 साल पिछड जाता हैं। झिरनिया किसान श्री जगदीष शर्मा, श्री अमानसिंह दांगी, ओमकारसिंह ठाकुर, सरदारसिंह ठाकुर सतपाडा करारिया से किसान सम्षुद्धीन खां, श्री पौदीना पटेल आदि किसानो का बुरा हाल था, मौके पर पहुच कर किसानो से चर्चा कर श्री शषांक भार्गव ने बताया की चना कि फसल गेहू की फसल 100 प्रतिषत चैपट हो चुकी हैं। घेटी में से दाना बाहर आकर बिखर चुका हैं और मसूर भी नष्ट हो चुकी हैं। हमारी यह मांग हैं की सर्वे जल्द किया जाये एवं राहत राषि स्वरूप प्रति हेक्टेयर 65 हजार रूपय के मान से दिया जाये, सर्वे पेसिंल से न किया जाये एवं तुरंत एक काॅपी पंचायत भवन पर चस्पा कि जाये और एक काॅपी सरपंच की दी जाये। जिस से किसानों को गुमराह न किया जा सके। जिस के सर्वे के लिए दिनांक 13.02.18 दोपहर 12 बजे माननीय कलेक्टर सा. को ज्ञापन दिया जावेगा। इस मौके पर किसान नेता श्री मोहरसिंह रघुवंषी, विदिषा ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष श्री दीवानसिंह किरार, गुलाबगंज ब्लाक अध्यक्ष श्री अनुज लोधी, इंका नेता श्री रामस्वरूप जी शर्मा, युवा नेता श्री राकेष ठाकुर, दीपक दुबे आदि भी उपस्थित थे।

जिला स्तरीय किसान सम्मेलन सम्पन्न, 15 हजार से अधिक किसानों को मिलेगा भावांतर योजना का लाभ

vidisha news
मुख्यमंत्री भावांतर योजना के तहत जिला मुख्यालय पर आज सोमवार को वृहद किसान सम्मेलन का आयोजन किया गया था। मुख्यमंत्री भावांतर योजना अंतर्गत जिन पंजीकृत कृषकों के द्वारा चिन्हित फसलों की बिक्री दिसम्बर माह की अवधि मंे की गई है। उन्हें भावांतर राशि स्वीकृति प्रमाण पत्रों का वितरण आज पुरानी कृषि उपज मंडी के प्रागंण में किये गए। पंडित दीनदयाल अन्त्योदय की जिला स्तरीय समिति के उपाध्यक्ष श्री मनोज कटारे ने कहा कि राज्य सरकार किसान हितैषी है। किसान कैसे आगे बढे़ और उनकी आर्थिक आमदनी में वृद्वि हो इसके लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे है। किसानों के लिए उदारनीतियों और योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है। राज्य सरकार द्वारा पहले किसानों के लिए खाद, बीज, सिंचाई तथा कृषि यंत्रों के साथ-साथ शून्य प्रतिशत पर ऋण उपलब्ध कराना तथा बिजली की व्यवस्था पृथक से करने के कार्य तो किए गए है वही अब किसान की फसलों की बिक्री में अधिक से अधिक मुनाफा हो इसके लिए समर्थन मूल्य और सामान्य मूल्य के अंतर की राशि को भावांतर के रूप में भुगतान करने का कार्य किया जा रहा है। अपर कलेक्टर श्री एचपी वर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना के तहत एक दिसम्बर से 31 दिसम्बर तक पंजीकृत किसानों को भावांतर की राशि आश्य के प्रमाण पत्रों का वितरण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जिले में 15 हजार 746 किसानों के बैंक खातों में 26 करोड़ 31 लाख पचास हजार 591 रूपए की राशि जमा कराने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने फसल बीमा, मुख्यमंत्री भावांतर योजना पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम स्थल पर विधायक श्री कल्याण सिंह ठाकुर, श्री मनोज कटारे,  कलेक्टर श्री अनिल सुचारी समेत अन्य जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों ने भावांतर भुगतान योजना की राशि के प्रमाण पत्र किसानों को प्रदाय किए है। इससे पहले बासौदा कृषि महाविद्यालय के कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को फसलों में होने वाले कीट व्याधि से बचाव के उपाय, उन्नत फसलों के बीजों की सुगमता से प्राप्ति और किसी भी प्रकार की समस्या खेती किसानी मंें आती है तो अविलम्ब कृषि महाविद्यालय में सम्पर्क करने की सलाह उन्होंने किसान भाईयों को दी। आयोजन स्थल पर जिला पंचायत की उपाध्यक्ष श्रीमती गुड्डी बाई लालाराम अहिरवार, कृषि उपज मंडी की अध्यक्ष श्रीमती मिथलेश संभरवाल केे अलावा अन्य जनप्रतिनिधि और विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

क्षतिग्रस्त फसलों का जायजा, दो दिवस में सर्वे करने के निर्देश

vidisha newsविदिशा जिले में रविवार को हुई अचानक ओलावृष्टि के कारण क्षतिग्रस्त हुई फसलों का जायजा हर स्तर पर लिया जा रहा है। विधायक श्री कल्याण सिंह ठाकुर और कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने सोमवार को विदिशा अनुविभाग क्षेत्र के ग्राम करैया में पीड़ित कृषक श्री धीरज कुमार जैन के तथा ग्राम झिरनिया में कृषक श्री अमान सिंह की तथा रोड़ा में श्री खेमचंद जाटव के खेत में पहुंचकर क्षतिग्रस्त हुई फसलों का जायजा लिया और पीड़ित किसानों को ढांढस बंधाया। जिले की सीमावर्ती क्षेत्रों में ओलावृष्टि के कारण गेहूं, चना और मसूर की फसले अत्यधिक प्रभावित हुई है। जिनका आज जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों द्वारा मौके पर मुआयना किया गया है। कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने विदिशा अनुविभाग के राजस्व अधिकारी श्री रविशंकर राय को निर्देश दिए कि दो दिवस के भीतर क्षतिग्रस्त फसलों का सर्वे कार्य पूर्ण करा लिया जाए। उन्होंने सर्वे गठित टीमों में पटवारी, ग्राम सेवक, सरपंच, सचिव और स्थानीय कृषि विभाग के अधिकारी को शामिल करने के निर्देश दिए है।  पीड़ितों से वार्तालाप करते हुए कलेक्टर श्री सुचारी ने कहा कि सर्वे के आधार पर शीघ्रतिशीघ्र आरबीसी के प्रावधानों के तहत राहत राशि मुहैया कराई जाएगी। उन्होंने पीड़ित किसानों से कहा कि सर्वे दल को सहयोग करें और क्षतिग्रस्त फसलों के खेतों में ले लाकर वाजिब स्थिति से अवगत कराएं।  भ्रमण के दौरान ग्यारसपुर जनपद पंचायत के पूर्व अध्यक्ष श्री रघुवीर सिंह दांगी के अलावा स्थानीय जनप्रतिनिधि और विभिन्न विभागों के अधिकारी तथा पीड़ित कृषक मौजूद रहें।

टीएल बैठक आज

कलेक्टर श्री अनिल सुचारी के द्वारा लंबित आवेदनों की समीक्षा (टीएल) बैठक मंगलवार को आहूत की गई है। उक्त बैठक जिला पंचायत के सभागार कक्ष में दोपहर तीन बजे से प्रारंभ होगी। 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...