मधुबनी : कांग्रेस को झूठ की सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए संगठित होना होगा : प्रेम चन्द्र मिश्रा - Live Aaryaavart

Breaking

सोमवार, 14 मई 2018

मधुबनी : कांग्रेस को झूठ की सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए संगठित होना होगा : प्रेम चन्द्र मिश्रा

congress-mlc-prem-changra-mishra-honored-in-madhubani
मधुबनी (आर्यावर्त डेस्क) 14 मई , बीते शनिवार मधुबनी के पुत्र और वरिष्ट कांग्रेसी सह राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं  नवनिवार्चित एमएलसी प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहीं। नेता प्रेम चन्द्र मिश्रा का विधान पार्षद निर्वाचित होने के बाद मधुबनी जिला कांग्रेस कमिटी ने नागरिक अभिनन्दन किया जिसमें जिले से हजारों की तादाद में सभी वर्ग के कार्यकर्त्ता जुटे और अपने नेता को बधाई और शुभकामना दी. अपने संबोधन में श्री मिश्रा ने कहा कि वह मिथिलांचल की प्रतिष्ठा के साथ कोई समझौता नहीं करेंगे और क्षेत्र के अधिकार की लड़ाई विधानपरिषद से सड़क तक लड़ेंगे. उम्होने का कांग्रेस पार्टी को राहुल गांधी जैसा युवा नेतृत्व मिलने से पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं में नई क्रांति का संचार हुआ है, सभी से अपील भी की कि सभी कार्यकर्त्ता गिले-शिकवे भुलाकर पार्टी की खोई अस्मिता को वापस लाने में सहयोग एकजुट सहयोग करें इसी सहयोग से पार्टी एकबार फिर से देशभर में अपना  परचम लहराएगी। वे शनिवार को मधुबनी नगर परिषद के विवाह भवन में आयोजित नागरिक अभिनंदन समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वे एनएसयूआई की राजनीति से एमएलसी बनने तक का सफर तय किया है, संगठन ने जो भी जिम्मेदारी सौंपी, ईमानदारी पूर्वक निर्वहन किया, पार्टी में हर कार्यकर्ता कार्य के बूते पद को प्राप्त कर सकता है. उन्होंने कहा कि केन्द्र में फरेब की सरकार चल रही है। तमाम वायदे हवा-हवाई साबित हुए हैं । महंगाई, बेरोजगारी, विकास, कालाधन वापस आने जैसी बातें  शिफर साबित हुई। जनता ठगा हुआ महसूस कर रही है। ऐसे में कांग्रेसियों को एकजुट होकर इस झूठ की सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए संगठित होना होगा। हम संघर्ष का रास्ता भूल गये हैं। संघर्ष के बदौलत ही हम पार्टी को पुन: जिंदा कर सकते हैं। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रो. शीतलांबर झा ने की। मनोज मिश्र ने अभिनंदन पत्र पढ़कर उनको समर्पित किया। समारोह को संबोधित करने वालों में ज्योति रमण झा बाबा, कृष्णकांत झा गुड्डु, मो. राशिद फाखरी, अनिता यादव, मनोज मिश्र, ऋषिदेव सिंह, डॉ. मुनेश्वर यादव, विजय कुमार झा भोला, शिवेश झा, जयकुमार झा, अमानुल्लाह खान, हिमांशु कुमार, इंद्रमोहन झा, अनिल कुमार अनिल, मीनू पाठक, वशिष्ठ नारायण झा, मीनू पाठक, कमरुल होदा तमन्ना, सुल्तान अहमद समशी, महादेव मिश्र, अनुरंजन सिंह, गंगाधर पासवान, प्रो. इश्तियाक अहमद, विमल यादव, नीतीश झा, मुकेश कुमार झा पप्पू सहित दर्जनों ने अपनी बातें रखीं।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...