हमें मन की बात कहना नहीं, सुनना है : राहुल गांधी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 18 मई 2018

हमें मन की बात कहना नहीं, सुनना है : राहुल गांधी

want-to-listen-man-ki-baat-rahul-gandhi
कोटमी (बिलासपुर), 17 मई, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मन की बात’ रेडियो कार्यक्रम पर कटाक्ष करते हुए आज लोगों से कहा कि हमें अपने मन की बात नहीं कहना है, बल्कि आपके मन की बात सुनना है। राहुल ने आज बिलासपुर जिला मुख्यालय से 90 किलोमीटर दूर कोटमी में जंगल सत्याग्रह रैली को संबोधित किया।  उन्होंने वहां मौजूद जनसमूह से कहा कि आप प्रधानमंत्री का भाषण सुनते हैं। वह मन की बात कहते हैं। लेकिन हमें आपको अपने मन की बात नहीं कहनी है। हम आपके मन की बात सुनना चाहते हैं और आपके मन की बात के बल पर काम करना चाहते हैं। राहुल गांधी ने लोगों से कहा, ‘‘आप हमें बताओ कि आपके सामने क्या कठिनाई है। हमारा काम आपकी मदद करने का है। हमारा काम आपको अपने मन की बात बताने का नहीं है, वह आपका का काम है।’’ कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि आपकी शक्ति, आपका धन आपको वापस देना है। अगर हम राजनीति में खड़े हैं तो आपके लिए खड़े हैं। आपके लिए लड़ रहे हैं क्योंकि आपने इस देश को बनाया है। उन्होंने कहा कि जब इस देश के पास पैसा आया तब आपसे पैसे छीन कर 10-15 अमीरों को दिया जाता है। यह अन्याय है और इसके खिलाफ हम यहां एक साथ खड़े हुए हैं और एक साथ लड़ेंगे। राहुल गांधी ने कहा कि पूरे देश में आतंक का माहौल है और इसे बदलना है। क्योंकि इससे देश का फायदा नहीं हो रहा है। इससे सिर्फ चुने हुए लोगों का फायदा हो रहा है और करोड़ों लोगों का नुकसान हो रहा है।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...